कोरोना वायरस कैसे फैलता है? जानें महत्वपूर्ण बातें - How does the new coronavirus spread in Hindi? - Healthunbox
हेल्थ टिप्स

कोरोना वायरस कैसे फैलता है? जानें महत्वपूर्ण बातें – How does the new coronavirus spread in Hindi?

कोरोना वायरस कैसे फैलता है? जानें महत्वपूर्ण बातें - How does the new coronavirus spread in Hindi?

कोरोना वायरस कैसे फैलता है? चीन के वुहान शहर से शुरू हुआ कोरोना वायरस (COVID-19) अब पूरी दुनिया में काफी आसानी से फैल रहा है। भारत में कोरोना वायरस के 62 मामले भी सामने आ चुके हैं। ऐसे में कोरोना वायरस से जुड़े कई सवाल लोगों के मन में उठ रहे हैं। जैसे ये वायरस कैसे फैलता है? इससे बचाव के तरीके क्या है? आदि आइए जानते हैं कोरोना वायरस कैसे फैलता है? (coronavirus kaise failta hai) और कोरोना वायरस संक्रमण से जुड़ी हर जरूरी जानकारी…

कोरोना वायरस कैसे फैलता है?How coronavirus spread in Hindi?

कोरोना वायरस कैसे फैलता है? - How coronavirus spread in Hindi?

सीडीसी (रोग नियंत्रण और रोकथाम केंद्र) के अनुसार, वायरस ज्यादातर एक दूसरे के संपर्क के माध्यम से फैलता है, इसलिए लोगों को उनके बीच (व्यक्ति-से-व्यक्ति के संपर्क) लगभग 6 फीट (1.8 मीटर) की दूरी बनाए रखना चाहिए। कोरोना वायरस COVID-19 की शुरुआत खांसी और छींक से होती है। जब प्रभावित व्यक्ति खांसता या छींकता है तो कोरोना वायरस उसके आसपास के लोगों को भी प्रभावित करता है।

सतह या उस स्थान को छूने के बाद जहाँ वायरस हैं अपने हाथों को मुंह, और नाक पर लगाने से भी संक्रमण का खतरा होता है। हालांकि, सीडीसी अधिकारियों का मानना है कि इस तरह के प्रसारण की संभावना कम है। सतहों पर जीवित रहने के लिए नए कोरोना वायरस की क्षमता के बारे में ज्यादा जानकारी नहीं है।

कुछ कोरोना वायरस कई दिनों तक सक्रिय रहते हैं, लेकिन यह नया कोरोना वायरस के बारे में हम यह नहीं जानते कि यह सतह पर कितनी देर तक रहता है। राहत की बात यह है कि सतह पर रहने वाले ऐसे वायरस को इथेनॉल, हाइड्रोजन-पेरोक्साइड या ब्लीच से बने क्लीनर उन कोरोना वायरस को मारने में प्रभावी हैं जो सतहों पर जीवित रहते हैं।

जानें – क्या गर्मी में खत्म हो जाएगा कोरोना वायरस?

आम बेहद संक्रामक कीटाणु बूंदों के कारण लंबे समय तक हवा में रहते हैं, लेकिन यह वायरस हवा में लंबे समय तक नहीं रहता है। उदाहरण के लिए, चेचक (खसरा) के कीटाणु संक्रमित व्यक्ति के खांसने या छींकने के बाद कई घंटों तक हवा में रह सकते हैं, लेकिन वर्तमान में SARS-CoV-2 में ऐसा नहीं है।

इस बात के सीमित प्रमाण हैं कि नया कोरोनावायरस मल के माध्यम से भी फैल सकता है। COVID-19 के साथ उन लोगों के मल के नमूनों के एक छोटे से अध्ययन में पाया गया कि उन मल में वायरल कण एक माइक्रोस्कोप के तहत व्यवहार्य दिखते थे। “यह मतलब है कि स्टूल नमूने हाथ, भोजन, पानी, आदि को दूषित कर सकते हैं,” चीन सीडीसी ने रिपोर्ट में लिखा है। उदाहरण के लिए, यदि कोई व्यक्ति संक्रमित मल अवशेष से दूषित सतह को छूने के बाद अपने हाथ नहीं धोता है, तो एक मौका है कि वे संक्रमित हो सकते हैं यदि वे अपने हाथों से अपनी आँखें, नाक या मुंह को छूते हैं।

जानें – क्या चिकन खाने से कोरोना वायरस होता है?

इस कोरोना वायरस से बचने के लिए, स्वास्थ्य अधिकारी लोगों को बीमार व्यक्ति से दूर रहने की सलाह दे रहे हैं। फेस मास्क उन लोगों के लिए प्रभावी सुरक्षा नहीं है जो पहले से ठीक हैं, लेकिन पहले से बीमार लोगों को फेस मास्क लगाने की जरुरत है। पहले से ही बीमार व्यक्ति दूसरों को अपने कफ और खांसी की बूंदों से फेसमास्क लगाकर बचा सकता है।

सीडीसी ने लोगों से कहा है कि वे अपने आंख, नाक और मुंह को छूने से बचें। बार-बार 20 सेकंड तक हाथ धोने और 60 से 95 प्रतिशत अल्कोहल-आधारित हैंड सैनिटाइजर का इस्तेमाल करके इस वायरस को मारा जा सकता है।

कोरोना वायरस के बारे में मूल बातें – Coronavirus basics in Hindi

कोरोना वायरस के बारे में मूल बातें - Coronavirus basics in Hindi

नोवल कोरोना वायरस, जिसे अब SARS-CoV-2 कहा जाता है, इस रोग का कारण COVID-19 है। वायरस की पहचान सबसे पहले 31 दिसंबर, 2019 को चीन के वुहान में हुई थी। तब से यह अंटार्कटिका को छोड़कर हर महाद्वीप में फैल गया है। मृत्यु दर मौसमी फ्लू की तुलना में अधिक प्रतीत होती है, लेकिन यह स्थान के साथ-साथ एक व्यक्ति की उम्र, अन्य स्वास्थ्य स्थितियों के साथ-साथ अन्य कारकों पर भी निर्भर करती है। उदाहरण के लिए, हूबेई प्रांत में, जो प्रकोप का केंद्र है, मृत्यु दर 2.9% तक पहुंच गयी है, जबकि चीन के अन्य प्रांतों में यह सिर्फ 0.4% तक है, चीन सीडीसी साप्ताहिक में 18 फरवरी को प्रकाशित।

वैज्ञानिक निश्चित नहीं हैं कि वायरस की उत्पत्ति कहां से हुई, हालांकि वे जानते हैं कि कोरोना वायरस (जिसमें SARS और MERS भी शामिल हैं) जानवरों और मनुष्यों के बीच फ़ैल सकता है। एक वायरल डेटाबेस के साथ SARS-CoV-2 के आनुवंशिक अनुक्रम की तुलना करने वाले अनुसंधान से पता चलता है कि यह चमगादड़ (bats) में उत्पन्न हुआ था। चूंकि बीमारी के केंद्र वुहान में सीफ़ूड बाज़ार में कोई चमगादड़ नहीं बेचा गया था, इसलिए शोधकर्ताओं ने एक मध्यवर्ती जानवर का सुझाव दिया, संभवतः पैंगोलिन (pangolin) (एक लुप्तप्राय स्तनपायी) मनुष्यों के संचरण के लिए जिम्मेदार हो सकता है। वर्तमान में इस बीमारी का कोई उपचार या टीका नहीं है, लेकिन प्रयोगशालाएं विभिन्न प्रकार के उपचारों पर काम कर रही हैं, जिनमें एक टीका भी शामिल है। (source)

और पढ़े – 

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration