सर्वाइकल स्पोंडिलोसिस के कारण, लक्षण, उपचार – Cervical spondylosis Causes, Symptoms and Treatment in Hindi

सर्वाइकल स्पोंडिलोसिस के कारण, लक्षण, उपचार – Cervical spondylosis Causes, Symptoms and Treatment in Hindi
Written by Sourabh

Cervical spondylosis in Hindi गर्दन दर्द यानी सर्वाइकल स्पोंडिलोसिस उम्र से जुड़े शरीर को होने वाले नुकसान के कारण होता है। इस बीमारी में आपकी गर्दन में रीढ़ की हड्डी की डिस्क प्रभावित होती है। जब डिस्क में निर्जलीकरण और सिकुड़न होती है, तब शरीर में ऑस्टियोआर्थराइटिस के संकेत विकसित होते हैं, और हड्डियों (हड्डी स्पर्स) के किनारों के अतिरिक्त हड्डी विकसित होती हैं।

सर्वाइकल स्पोंडिलोसिस जिसे स्पॉन्डिलाइटिस भी कहा जाता है बहुत आम है पर उम्र के साथ इसकी स्तिथि बदतर होती जाती है। 60 वर्ष से अधिक आयु के 85 प्रतिशत से अधिक लोग इससे प्रभावित होते हैं। ज्यादातर लोगों में इस समस्या का कोई लक्षण नहीं होता है। जब लक्षण होते हैं, तो नॉनसर्जिकल उपचार (nonsurgical treatments) अक्सर प्रभावी होते हैं।

1. सर्वाइकल स्पोंडिलोसिस के लक्षण क्या हैं – Symptoms of Cervical spondylosis in Hindi
2. सर्वाइकल स्पोंडिलोसिस के कारण – Cervical spondylosis Causes in Hindi
3. सर्वाइकल स्पोंडिलोसिस के जोखिम – Risks of Cervical spondylosis in Hindi
4. सर्वाइकल स्पोंडिलोसिस स्थिति की जांच के लिए परीक्षण और निदान – Tests and Treatment of Cervical spondylosis in Hindi

5. सर्वाइकल स्पोंडिलोसिस का इलाज – Treatment of Cervical spondylosis in Hindi

6. सर्जरी से सर्वाइकल स्पोंडिलोसिस का उपचार – Surgery for Cervical spondylosis in Hindi
7. जीवन शैली और घरेलू उपचार से करे सर्वाइकल स्पोंडिलोसिस ट्रीटमेंट – Life style and home remedies for Cervical spondylosis in Hindi

सर्वाइकल स्पोंडिलोसिस के लक्षण क्या हैं – Symptoms of Cervical spondylosis in Hindi

सर्वाइकल स्पोंडिलोसिस के लक्षण क्या हैं - Symptoms of Cervical spondylosis in Hindi

अधिकांश लोगों के लिए स्पोंडिलोसिस का कोई लक्षण नहीं होता है जब लक्षण होते हैं, तो उनमे आमतौर पर गर्दन में दर्द और कठोरता शामिल होती है। लक्षण दिन के अंत में और फिर सुबह में सबसे ज्यादा गंभीर होते हैं।

सर्वाइकल स्पॉन्डिलाइटिस के लक्षणों में निम्नलिखित शामिल हैं:

  • गर्दन में कठोरता और दर्द
  • सिरदर्द जो गर्दन में पैदा हो सकता है
  • सिर को पूरी तरह से घुमाने या गर्दन को मोड़ने में असमर्थता, यह कभी-कभी ड्राइविंग में परेशानी भी करता है
  • गर्दन घुमाने पर आवाज़ या पसीना आना
  • बाहों, हाथों, पैरों, या पैरों में झुकाव, संयम, में कमजोरी
  • समन्वय की कमी और चलने में कठिनाई
  • असामान्य प्रतिबिंब
  • मांसपेशियों की ऐंठन
  • मूत्राशय और आंत पर नियंत्रण का नुकसान

(और पढ़े – पैरों की देखभाल के लिए अपनाएं कुछ आसान टिप्स…)

सर्वाइकल स्पोंडिलोसिस के कारण – Cervical spondylosis Causes in Hindi

जैसे ही आप उम्रदराज होते हैं, हड्डियों और उपास्थि जो आपकी रीढ़ की हड्डी और गर्दन  के ढांचे को बनाती है, उनकी स्तिथि बिगड़ती जाती है। नीचे दिए ये परिवर्तन इसके कारणों में शामिल हो सकते हैं:

निर्जलित डिस्क (Dehydrated disk) – डिस्क आपकी रीढ़ की हड्डी के बीच कुशन की तरह कार्य करते हैं। 40 साल की उम्र तक, अधिकांश लोगों की रीढ़ की हड्डी की डिस्क सूखने और कम होने लगती हैं, जिसके कारण हड्डियों का आपस में अधिक संपर्क होता है जो की नहीं होना चाहिए।

हर्नियेटेड डिस्क (Herniated disk) – आयु आपके रीढ़ की हड्डी के बाहरी हिस्सों को भी प्रभावित करती है। जिससे अक्सर क्रैक प्रकट होते हैं, जिससे उभरा हुआ (हर्निएटेड) डिस्क होता है – जो आंतरिक कुशनिंग सामग्री के रिसाव की अनुमति देता है। यह सामग्री रीढ़ की हड्डी और नसों पर दबा डाल सकती है।

हड्डी स्पर्स (Bone spurs) – डिस्क अपघटन अक्सर रीढ़ की हड्डी को मजबूत करने के प्रयास में हड्डी की अतिरिक्त मात्रा पैदा करता है और बड़ी हुई रीढ़ की हड्डी के परिणाम देता है। हालांकि, अतिरिक्त हड्डी रीढ़ की हड्डी के नाजुक क्षेत्रों, जैसे रीढ़ की हड्डी और नसों पर दबाव बना सकती है, जिसके परिणामस्वरूप दर्द होता है।

कठोर अस्थिबंधन (Ligament stiffness) – अस्थिबंधक ऊतक होते हैं जो हड्डी को हड्डी से जोड़ते हैं। स्पाइनल लिगामेंट्स आपकी गर्दन को कम लचीला बनाते हुए उम्र के साथ कड़क हो सकते हैं।

(और पढ़े – स्लिप डिस्क क्या है इसके लक्षण, कारण, जांच, उपचार, और बचाव…)

सर्वाइकल स्पोंडिलोसिस के जोखिम – Risks of Cervical spondylosis in Hindi

सर्वाइकल स्पोंडिलोसिस के जोखिम – Risks of Cervical spondylosis in Hindi

सर्वाइकल स्पोंडिलोसिस के जोखिम कारकों में शामिल हैं:

उम्र– सर्वाइकल स्पोंडिलोसिस उम्र बढ़ने का एक सामान्य हिस्सा है।

गर्दन की चोटें – पहले की गर्दन की चोट सर्वाइकल स्पोंडिलोसिस के जोखिम को बढ़ाती हैं।

व्यवसाय– नौकरियां जिनमें लगातार गर्दन का घुमाव होता है, अजीब स्थितियों में या बहुत अधिक काम जिसमें गर्दन का ऊपर रखना शामिल हैं यह आपकी गर्दन पर अतिरिक्त तनाव डालते हैं।

धूम्रपानधूम्रपान गर्दन के दर्द से जुड़ा हुआ है।

जेनेटिक कारक – कुछ परिवारों के कुछ व्यक्ति समय के साथ इन परिवर्तनों का अधिक अनुभव करेंगे, जबकि अन्य नहीं करेंगे।

(और पढ़े – मांसपेशियों में खिंचाव (दर्द) के कारण और उपचार…)

सर्वाइकल स्पोंडिलोसिस स्थिति की जांच के लिए परीक्षण और निदान – Tests and Treatment of Cervical spondylosis in Hindi

सर्वाइकल स्पोंडिलोसिस स्थिति की जांच के लिए परीक्षण और निदान - Tests and Treatment of Cervical spondylosis in Hindi

सर्वाइकल स्पोंडिलोसिस का निदान में फाइब्रोमाल्जिया (fibromyalgia) जैसे अन्य संभावित स्थितियों की जांच होती है। निदान करने के लिए गर्दन को घुमाना और बाकि प्रभावित नसों, हड्डियों और मांसपेशियों का परिक्षण करना शामिल है।

आपका डॉक्टर आपकी हालत का इलाज कर सकता है या आगे के परीक्षण के लिए आपको ऑर्थोपेडिक विशेषज्ञ, न्यूरोलॉजिस्ट, या न्यूरोसर्जन के पास भेज सकता है।

शारीरिक परीक्षा से सर्वाइकल स्पोंडिलोसिस की जांच – Physical exam for testing Cervical spondylosis in Hindi

  • सर्वाइकल स्पोंडिलोसिस जांच के लिए आपका डॉक्टर आपके लक्षणों के बारे में कई प्रश्न पूछेगा। इसके बाद वे कुछ परिक्षण करेगें।
  • विशिष्ट जांचो में आपके प्रतिबिंबों या रेफ्लेक्सेस का परीक्षण करना, मांसपेशी की कमजोरी की जांच या संवेदना की कमी की जांच करना, और अपकी गर्दन की गति की जांच करना शामिल है।
  • आपका डॉक्टर यह भी देखना चाहता है कि आप कैसे चलते हैं। यह सब आपके डॉक्टर को यह निर्धारित करने में मदद करता है कि क्या आपके नसों और रीढ़ की हड्डी बहुत अधिक दबाव में हैं।
  • यदि आपके डॉक्टर सर्वाइकल स्पोंडिलोसिस पर संदेह करते हैं, तो वे निदान की पुष्टि के लिए इमेजिंग परीक्षण और तंत्रिका कार्य परीक्षणों को करने के लिए बोलेंगे।

(और पढ़े – ऑस्टियोपोरोसिस होने के कारण, लक्षण और बचाव…)

इमेजिंग परीक्षण से सर्वाइकल स्पोंडिलोसिस की जांच – Imaging tests for Cervical spondylosis Treatment in Hindi

एक्स-रे का उपयोग हड्डी स्पर्स और अन्य असामान्यताओं की जांच के लिए किया जा सकता है।

सीटी स्कैन आपकी गर्दन की अधिक विस्तृत छवियां प्रदान कर सकता है।

एमआरआई स्कैन, जो रेडियो तरंगों और चुंबकीय क्षेत्र का उपयोग कर छवियों का उत्पादन करता है, आपके डॉक्टर को दबी हुई नसों का पता लगाने में मदद करता है।

तंत्रिका चालन अध्ययन (nerve conduction study) तंत्रिका द्वारा भेजे गए संकेतों की गति और ताकत की जांच करता है। यह आपकी त्वचा पर इलेक्ट्रोड लगाकर किया जाता है जहां तंत्रिका स्थित होती है।

माइलोग्राम (myelogram) में, आपके रीढ़ की हड्डी के कुछ क्षेत्रों को हाइलाइट करने के लिए डाई इंजेक्शन का उपयोग किया जाता है। सीटी स्कैन या एक्स-रे का उपयोग तब इन क्षेत्रों की अधिक विस्तृत छवियां प्रदान करने के लिए किया जाता है।

इलेक्ट्रोमायोग्राम ईएमजी ( electromyogram-EMG) का उपयोग यह जांचने के लिए किया जाता है कि आपकी मांसपेशियों में सिग्नल भेजते समय आपकी नसें सामान्य रूप से काम कर रही हैं। यह परीक्षण आपके नसों की विद्युत गतिविधि को मापता है।

(और पढ़े – एमआरआई स्कैन क्या है कीमत, प्रक्रिया, फायदे और नुकसान…)

सर्वाइकल स्पोंडिलोसिस का इलाज – Treatment of Cervical spondylosis in Hindi

सर्वाइकल स्पोंडिलोसिस का इलाज - Treatment of Cervical spondylosis in Hindi

सर्वाइकल स्पोंडिलोसिस के लिए उपचार दर्द से राहत प्रदान करने, स्थायी क्षति के जोखिम को कम करने, और सामान्य जीवन जीने में आपकी सहायता करने पर केंद्रित होता है।

नॉनसर्जिकल तरीके आमतौर पर बहुत प्रभावी होते हैं।

सर्वाइकल स्पोंडिलोसिस के इलाज लिए शारीरिक चिकित्सा जरूरी – Physical therapy crucial for Cervical spondylosis in Hindi

आपका डॉक्टर आपको इलाज के लिए एक शारीरिक चिकित्सक के पास भेज सकता है। शारीरिक चिकित्सा आपको अपनी गर्दन और कंधे की मांसपेशियों को फैलाने में मदद करती है। यह उन्हें मजबूत बनाता है और अंततः दर्द से छुटकारा पाने में मदद करता है।

आपको गर्दन में अकड़न भी हो सकती है। इसमें सर्वाइकल जोड़ों के बीच की जगह को  बढ़ाने और सर्वाइकल डिस्क और तंत्रिका जड़ों पर बने दबाव से छुटकारा पाने के लिए वजन का उपयोग किया जाता है।

(और पढ़े – कमर के दर्द को दूर करने के उपाय…)

दवाएं जिनसे सर्वाइकल स्पोंडिलोसिस के लिए – Medications treating Cervical spondylosis in Hindi

यदि ओवर-द-काउंटर (ओटीसी) दवाएं काम नहीं करती हैं तो आपका डॉक्टर कुछ दवाएं लिख सकता है।

सर्जरी से सर्वाइकल स्पोंडिलोसिस का उपचार – Surgery for Cervical spondylosis in Hindi

यदि ट्रेडीशनल उपचार से राहत नहीं मिलती है या यदि आपके न्यूरोलॉजिकल लक्षण खराब हो – जैसे आपकी बाहों या पैरों में कमजोरी, तो आपको रीढ़ की हड्डी और तंत्रिका जड़ों के लिए और अधिक जगह बनाने के लिए सर्जरी की आवश्यकता हो सकती है।

सर्जरी में शामिल है:

  • कशेरुका या वर्टीब्रा के हिस्से को हटा देना
  • हर्निएटेड डिस्क या हड्डी स्पर्स को हटा देना
  • बोन ग्राफ्ट और हार्डवेयर का उपयोग कर गर्दन के एक खंड को फ्यूज करना

(और पढ़े – पैरों में जलन होने का कारण, निदान और उपचार…)

जीवन शैली और घरेलू उपचार से करे सर्वाइकल स्पोंडिलोसिस ट्रीटमेंट – Life style and home remedies for Cervical spondylosis in Hindi

जीवन शैली और घरेलू उपचार से करे सर्वाइकल स्पोंडिलोसिस ट्रीटमेंट – Life style and home remedies for Cervical spondylosis in Hindi

सर्वाइकल स्पोंडिलोसिस को ठीक करने के लिए निम्नलिखत उपाए अपनाये जा सकते हैं:

गर्मी या बर्फ – एक हीटिंग पैड या ठंडा पैक को अपनी गर्दन में लगाने से गर्दन की मांसपेशियों का दर्द कम किया जा सकता है।

नरम गर्दन ब्रेस Soft neck brace – ब्रेस आपकी गर्दन की मांसपेशियों को आराम देने में मदद करता है। हालांकि, गर्दन की ब्रेस केवल छोटी अवधि के लिए पहनी जानी चाहिए क्योंकि यह अंततः गर्दन की मांसपेशियों को कमजोर कर सकती है।

नियमित व्यायाम – गतिविधि को बनाए रखने से रिकवरी में मदद मिलेगी, भले ही आपको गर्दन के दर्द के कारण अस्थायी रूप से अपने कुछ अभ्यासों को संशोधित करना पड़े। जो लोग रोज चलते हैं उनमे गर्दन और पीठ दर्द कम होता हैं।

(और पढ़े – पीठ दर्द से छुटकारा पाना है तो अपनाएं ये घरेलू उपाय…)

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration