ये संकेत बताते हैं क‍ि आप ड‍िप्रेशन में हैं, इन तरीको से निकलें बाहर - Ways to Help Yourself Through Depression in Hindi - Healthunbox
हेल्थ टिप्स

ये संकेत बताते हैं क‍ि आप ड‍िप्रेशन में हैं, इन तरीको से निकलें बाहर

ये संकेत बताते हैं क‍ि आप ड‍िप्रेशन में हैं, इन तरीको से निकलें बाहर - Ways to Help Yourself Through Depression in Hindi

बहुत से लोगों को अवसाद (Depression) या मानसिक परेशानी के बारे में गलत धारणा है कि यह केवल उन्हें होती हैं जिनके जीवन में एक बड़ी दुर्घटना हुई है या जिनके दुखी होने के बड़े कारण हैं। डिप्रेशन किसी भी सामान्य इंसान को हो सकता है। अवसाद के दौरान, मानव शरीर में खुशी देने वाले हार्मोन जैसे ऑक्सीटोसिन का निर्माण कम हो जाता है।

यही कारण है कि अवसाद में आप चाहकर भी खुश नहीं रह पाते हैं। आपने किसी ऐसे व्यक्ति को देखा होगा जो खुद से बात करता रहता है या हमेशा मरने की बात करता है। हर छोटी से छोटी बात पर रोना शुरू कर देता है। आप उन खुश और शांत लोगों से भी मिले होंगे, जो आत्महत्या की खबरों को नहीं मानते। ऐसे लोग डिप्रेशन या मानसिक समस्याओं के शिकार होते हैं। आइए जानते हैं कि कैसे आप डिप्रेशन से लड़कर जिंदगी की जंग जीत सकते हैं।

ऐसे समझे आप ड‍िप्रेशन में हैं

ऐसे समझे आप ड‍िप्रेशन में हैं

हमारे मस्तिष्क में एक सफेद पदार्थ (व्हाइट मैटर) होता है जिसमें फाइबर होते हैं। यह मस्तिष्क की कोशिकाओं को एक दूसरे से जुड़ने से रोकता है। सफेद पदार्थ (व्हाइट मैटर) के माध्यम से ही हम भावनाओं को महसूस करने में सक्षम हो पाते हैं और कुछ सोचने की क्षमता रखते हैं। हालांकि, अवसाद लोगों के लिए, आज एक साधारण बीमारी है जिसमें अगर कोई व्यक्ति सो नहीं पा रहा है, घबराया हुआ है या तनावग्रस्त है, तो समझ लें कि आप अवसाद से पीड़ित हैं।

(और पढ़े – चिंता दूर करने के उपाय, तरीके और घरेलू नुस्खे…)

ये हार्मोंस भी होते है ड‍िप्रेशन के जिम्‍मेदार

ये हार्मोंस भी होते है ड‍िप्रेशन के जिम्‍मेदार

हमारे मस्तिष्क में न्यूरोट्रांसमीटर होते हैं जो विशेष रूप से सेरोटोनिन, डोपामाइन या नॉरपेनेफिरिन को खुशी और आनंद की भावनाओं को प्रभावित करते हैं लेकिन अवसाद की स्थिति में इन्हें असंतुलित किया जा सकता है। उनके असंतुलन के कारण, किसी व्यक्ति को ड‍िप्रेशन हो सकता है, लेकिन यह संतुलन से बाहर क्यों जाता है, यह अभी तक ज्ञात नहीं है। आइये अब हम डिप्रेशन के लक्षण जान लेते हैं।

(और पढ़े – मानसिक तनाव के कारण, लक्षण एवं बचने के उपाय…)

डिप्रेशन के लक्षण

डिप्रेशन के लक्षण

अगर आपको याद नहीं है कि आप पिछली बार कब खुश थे।

दैनिक दिनचर्या जैसी चीजें जैसे बिस्तर से उठना या स्नान करना भी आपको एक बोझ लगता है।

आपका लोगों से दूर रहना शुरू हो गया है।

आप खुद से नफरत करते हैं और खुद पर हावी होना चाहते हैं।

इन चीजों के अलावा, यदि आप Google पर आत्महत्या के तरीके खोजते हैं, तो आपको तुरंत मदद लेनी चाहिए।

अवसाद के रोगी हमेशा भीतर से बेचैन रहते हैं और हमेशा चिंता में डूबे दिखाई देते हैं।

वे खुद को कोई भी निर्णय लेने में असमर्थ पाते हैं और हमेशा असमंजस की स्थिति में रहते हैं।

अस्वस्थ भोजन के प्रति डिप्रेशन का रोगी अधिकआसक्त होता है।

डिप्रेशन के मरीज किसी भी समस्या का सामना करने पर बहुत जल्दी निराश हो जाते हैं।

कुछ अवसाद रोगियों में, अत्यधिक क्रोध की समस्या भी देखी जाती है।

हर समय कुछ बुरा होने की संभावना से घिरा रहना।

(और पढ़े – अवसाद (डिप्रेशन) क्या है, कारण, लक्षण, निदान, और उपचार…)

अवसाद होने पर क्या करें?

अवसाद होने पर क्या करें?

सदा मुस्कराते रहें

अधिक से अधिक लोगों से मिलने की कोशिश करें।

हर रोज धूप में बैठें, इससे अवसाद का खतरा कम होता है।

हमेशा सकारात्मक सोच रखें।

बच्चों के साथ खेलें और उनके साथ समय बिताएं।

कुत्ता या अन्य कोई पालतू जानवर पालें।

किसी मनो चिकित्सक से परामर्श लें।

रोज सुबह ध्यान करें।

अपने पसंदीदा संगीत को सुनें और पसंदीदा फिल्में देखें।

आशान्वित रहें क्योंकि हम सभी समस्याओं का सामना करते हैं, लेकिन चिंता का समाधान नहीं है। शांत मन से समस्याओं पर विचार करें। एक रास्ता या दूसरा रास्ता निश्चित रूप से दिख जाएगा क्योंकि हम इस अवसाद के कारण पथ सामने होने पर भी इसे देखने में असमर्थ हैं।

अपने परिवार के साथ समय बिताएं और अपनी समस्याओं को साझा करें। इससे आपका दिमाग हल्का होगा और वे आपको सही दिशा दिखाने में मदद करेंगे।

मान लें कि “परिवर्तन सत्य है” और इसे अपने व्यवहार में लागू करने का प्रयास करें। (और पढ़े – कोर्टिसोल (तनाव हार्मोन) को कम करने के उपाय…)

शांत, स्वच्छ और रमणीय स्थान पर जाएं। अच्छी पुस्तकें पढ़ें जैसे – पसंदीदा उपन्यास और दर्शन से संबंधित पुस्तकें।

उन तत्वों से दूरी बनाएं जो आपको लगातार परेशान करते हैं।

श्रीमद भगवद गीता को आत्मसात करने का प्रयास करें। और कर्म करें फल की इच्छा छोड़ दें।

रोजाना योग करें और मनपसंद खाना खाएं।

और पढ़ें – 

इसी तरह की अन्य जानकारी हिन्दी में पढ़ने के लिए हमारे एंड्रॉएड ऐप को डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं। आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

Leave a Comment

1 Comment

Subscribe for daily wellness inspiration