दिवाली के त्योहार को बच्चों के लिए ऐसे बनाएं सेफ और हैप्‍पी – Tips To Celebrate A Safe And Happy Diwali With Kids in Hindi

दिवाली के त्योहार को बच्चों के लिए ऐसे बनाएं सेफ और हैप्‍पी - Tips To Celebrate A Safe And Happy Diwali With Kids in Hindi
Written by Jaideep

Safe And Happy Diwali With Kids in Hindi असत्‍य पर सत्‍य की विजय का प्रतीक दिवाली का त्‍यौहार आने वाला है। हर साल लोग इस त्‍यौहार का बड़ी बेसब्री से इंतेजार करते हैं, क्‍योंकि इस त्यौहार को अपने पूरे परिवार और दोस्‍तों के साथ सेलिब्रेट किया जाता है। वैसे तो सभी त्‍यौहार खुशीयां मनाने के लिए मनाए जाते हैं। लेकिन दिवाली की बात ही कुछ और है क्‍योंकि इस त्‍यौहार में हर व्‍यक्ति को अपनो से बड़ों का आर्शिवाद और कीमती गिफ्ट जो मिलते है। लेकिन यदि आप केयरफुल नहीं हैं तो दिवाली का त्‍यौहार आपको और आपके परिवार को परेशानी में डाल सकता है। जी हां हम आपके बच्‍चों की सुरक्षा के बारे में बात कर रहे हैं।

क्‍योंकि दीपावली मनाने के दौरान बच्‍चे अक्‍सर पटाके छुडाने के लिए बहुत ही एक्‍साइटेड रहते हैं। इसलिए उन पर विशेष ध्‍यान दिया जाना चाहिए। इस लेख में कुछ ऐसे ही टिप्‍स बताए जा रहे हैं जिन्‍हें अपना कर आप अपने बच्‍चों की दिवाली को सेफ और हैप्‍पी बना सकते हैं।

(और पढ़ें – जानिए कैसे मना सकते हैं, स्वस्थ दिवाली)

इलेक्ट्रिक लाइट

इलेक्ट्रिक लाइट

दिवाली का त्‍यौहार विशेष रूप से लाइट और दियें की रोशनी में मनाया जाने वाला त्‍यौहार है। दिवाली के दौरान पूरे घरों को विभिन्‍न रंगों की लाइट से सजाना आम बात है। लेकिन यदि आप अपनी और अपने बच्‍चों की दिवाली को हैप्‍पी और सेफ बनाना चाहते हैं तो विशेष सावधानी रखें। यह सुनिश्चित करें कि आप अच्‍छी गुणवत्ता वाली लाइटिंग का उपयोग करें, लाइट लगाने के दौरान खुले हुए तारों को नीचे न लटकने दें, यदि वे खुले हुए हैं तो अच्‍छी तरह से टेप करें और बच्‍चों की पहुंच से ऊपर बांधें। इसके अलावा लाइटिंग के लिए अच्‍छी अर्थिंग के साथ ही एक्‍सटेंशन बोर्ड का उपयोग करें। क्‍योंकि ढ़ीले और खुले तारों को छूने या खींचने से आपके बच्‍चों को करंट लग सकता है या शॉर्टशर्किट भी हो सकता है।

दिया जलाना

दिया जलाना

आप चाहें कितना भी अपने घर में इलेक्ट्रिक लाइट लगा लें, लेकिन बिना दिया या मोमबत्ती जलाएं दिवाली कुछ फीकी सी लगती है। लेकिन दिया जलाते समय भी आपको कुछ विशेष सावधानी रखनी चाहिए। यह सुनिश्चित करें कि बच्‍चे दिये को ऐसे स्‍थान पर रखें जहां पहले से कोई ज्‍वलनशील पदार्थ न हो। जिससे घर के अन्‍य किसी सामान में आग न लगे। दियों को अपने दरवाजे के बाहर न रखें। दिया जलाने के दौरान आपको अपने बच्चों के साथ होना चाहिए, जिससे द्वीप प्रज्‍वलित करने के दौरान बच्‍चे आग में न जलें।

कपड़े

कपड़े

दिवाली का त्‍यौहार हो और बच्‍चों को नए कपड़े न मिलें तो यह दिवाली उनके लिए उतनी उत्‍साह भरी नहीं होती है। इसलिए दिवाली के त्यौहार के दौरान बच्‍चों के कपड़े खरीदते समय आपको सावधानी रखना चाहिए। क्‍योंकि बच्‍चे अक्‍सर इन नए कपड़ों को पहनकर ही दिवाली में पटाके फोड़ते हैं। इसलिए आप बच्‍चों को हमेशा कॉटन के कपड़े ही दिलाएं या दिवाली के दिन ऐसे कपड़े न पहनाएं जो सिंथेटिक मटेरियल से नहीं बने हैं। क्‍योंकि सूती या कॉटन के कपड़ों की अपेक्षा सिंथेटिक कपड़ों में आग तेजी से लगती है। यह आपके बच्‍चों की दिवाली को सुरक्षित रूप से मनाने का सबसे अच्‍छा तरीका है।

(और पढ़ें – ऐसे मना सकते हैं छोटे बच्चों के साथ दिवाली)

पटाखों की क्‍वालिटी

पटाखों की क्‍वालिटी

जैसे आप अपने बच्‍चों के लिए हमेशा अच्‍छे ब्रांड के खाद्य पदार्थ और कपड़ों को चुनते हैं। ठीक इसी तरह से दिवाली के दौरान भी आपको यह ध्‍यान रखना चाहिए कि किसी प्रतिष्‍ठत दुकान और अच्‍छे ब्रांड के पटाखे खरीदें। इसके साथ ही पटाखों का उपयोग करने से पहले उनका उपयोग करने के लिए दिये गए सभी निर्देशों को अच्‍छी तरह से पढ़ लें। क्‍योंकि ऐसा करना आपके बच्‍चों को पटाखों से होने वाली दुर्धटना से बचाया जा सकता है। अन्‍यथा हर साल न्‍यूज में यही सुनने मिलता है कि पटाखों की बजह से इतने बच्‍चे जल गए या पटाखों ने इतने घरों को जला दिया। आप भी पूरी सुरक्षा के साथ पटाखे फोड़ें जो जो आपकी और आपके बच्‍चों की दिवाली को हैप्पी बनाता है।

बच्‍चों के साथ में रहें

बच्‍चों के साथ में रहें

बच्‍चों को दिवाली की पूजा से मतलब नहीं होता है, उन्‍हें तो केवल स्‍वादिष्‍ट मिठाईयां और पटाखे चाहिए होते हैं। इसलिए आपको अपने बच्‍चों को पटाखों का इस्‍तेमाल करने से पहले पूरी सुरक्षा सावधानियों के बारे में बताना चाहिए। आप उन्‍हें पटाखे फोड़ने से पहले पटाके में आग लगाने के सही त‍रीके के बारे में बताएं। जिससे उन्‍हें पटाखे जलाते समय किसी प्रकार की समस्‍या न हो। सबसे बड़ी बात है कि बच्‍चों को ज्यादा बड़े फटाके या बंब फोड़ने के लिए न दें। इसके अलावा पटाके फोड़ते समय आपको पूरे समय उनके साथ ही रहना चाहिए। जिससे उन्हें बीच-बीच में सही मार्गदर्शन मिलता रहे। इस तरह से आप अपने बच्‍चों की दिवाली को सेफ और हैप्‍पी बना सकते हैं।

सुरक्षा का ध्‍यान रखें

सुरक्षा का ध्‍यान रखें

अक्‍सर देखा जाता है कि छोटे बच्‍चे पटाखे फोड़ने की खुशी में घर के बिल्‍कुल करीब या आगन में ही पटाखे फोड़ने लगते हैं। जो कि जगह कम होने के कारण कई बार हादसों का कारण बन सकता है। इसलिए बच्‍चों को पटाखे फोड़ने के लिए घर के बाहर और खुली जगह पर अपने साथ ले जाएं। इसके अलावा जहां पटाके फोड़े जा रहे हैं उस स्‍थान के आस-पास अग्निशामक उपकरणों का होना आवश्‍यक है। यदि ये उपकरण नहीं हैं तब भी आपको कम से कम पानी से भरी हुई बाल्‍टी या रेत की व्‍यवस्‍था करना चाहिए। जिससे यदि कहीं आग लगती है तो उसे तुरंत ही नियंत्रित किया जा सके।

खुला वातावरण

खुला वातावरण

यदि आप अपनी और अपने बच्‍चों की दिवाली को सेफ और हैप्‍पी बनाना चाहते हैं तो हमेशा पटाखे खुली जगह पर ही फोड़े। पटाखे फोड़ते समय न केवल बच्‍चों को बल्कि घर के बड़ों को इस बात का विशेष ध्‍यान रखना चाहिए। क्‍योंकि बंद जगह या कमरों के अंदर पटाखे फोड़ना बच्‍चों के लिए हादसों का कारण बन सकता है। इसलिए बच्‍चों को हमेशा खुली और शांत जगहों में जहां यातायात न हो वहां पटाखे फोड़ने के लिए अपने साथ ले जाना चाहिए। अपने बच्‍चों की दिवाली को हैप्‍पी बनाने के इस प्रकार के कदम बहुत ही प्रभावी होते हैं।

फर्स्‍ट एड किट

फर्स्‍ट एड किट

हादसे किसी को बता कर नहीं आते हैं। इसलिए दिवाली में आप और आपके बच्‍चे जहां भी पटाखे फोड़ रहे हैं वहां फर्स्‍ट एड किट का होना बहत ही आवश्‍यक है। जिससे पटाखे फोड़ने के दौरान यदि किसी को कोई गंभीर या सामान्‍य चोट लगे तो उसका प्राथमिक उपचार तुरंत ही किया जा सके।

(और पढ़ें – फर्स्ट एड बॉक्स क्या है, प्रकार, लिस्ट, महत्व और रखने का स्थान)

इस्‍तेमाल पटाकों को फेंक दें

इस्‍तेमाल पटाकों को फेंक दें

अक्‍सर छोटे बच्‍चे फूटे हुए पटाखों को और जो पूरी तरह से फूट नहीं पाते है उन्‍हें इक्‍हट्ठा कर लेते हैं। जो कि उनके लिए घातक होता है। इसलिए यह बड़ों की जिम्‍मदारी होती है कि इस्‍तेमाल किये हुए पटाखों को तुरंत ही सावधानी से किसी सुरक्षित स्‍थान पर फेंक दें। आप इन पटाकों को पानी की बाल्‍टी में भी डाल सकते हैं या रेत में दबा सकते हैं। ऐसा करने से आपके बच्‍चे इन बेकार पटाकों के कारण होने वाले हादसों से बच सकते हैं।

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration