शिवलिंगी बीज के फायदे, उपयोग और नुकसान – Shivlingi Seeds Benefits Usage and Side effects in Hindi

शिवलिंगी बीज के फायदे, उपयोग और नुकसान - Shivlingi Seeds Benefits Usage and Side effects in Hindi
Written by Jaideep

जानिए शिवलिंगी बीज के फायदे, उपयोग करने का तरीका और क्या शिवलिंगी बीज लेने से लड़का पैदा होने की सम्भावना बढ़ जाती है के बारे में, आयुर्वेद की सबसे प्रसिद्ध खोजो में से एक है, शिवलिंगी बीज जिसका वैज्ञानिक नाम ब्रायनिया लैसिनीसा (Bryonia laciniosa) है। शिवलिंगी बीज का उपयोग विशेष रूप से बॉझपन (sterility) के उपचार में किया जाता है। इन बीजों में एंटीऑक्‍सीडेंट, एंटीमाइक्रोबायल, एनाल्‍जेसिक, एंटी-फंगल, दर्द कम करने वाले, एंटीहाइपरलिपिडेमिक(लिपिड को कम करने वाले) और शुक्राणु को बढ़ाने बाले गुण होते हैं। ये गुण इसे प्रभावी गर्भाशय टॉनिक (uterine tonic) बनाते हैं जो महिलाओं में बांझपन का इलाज करने में मदद करते हैं। (Shivlingi Beej Ke Fayde Use Side effects in Hindi)

शिवलिंगी बीज एक कड़वा तेज स्‍वाद के लिए जाना जाता है। प्रमाणित या पेशेवर पर्यवेक्षण के तहत उपयुक्‍त मात्रा में सेवन करने पर अधिकांश व्‍यक्तियों के लिए यह सुरक्षित और फायदेमंद होता है। आइऐ जाने शिवलिंगी (Bryonia Laciniosa) से होने वाले फायदे जो आपके स्‍वास्‍थ्‍य के लिए बहुत ही लाभकारी होते है।

1. शिवलिंगी का पौधा – – Shivlingi plant in Hindi
2. शिवलिंगी बीज के फायदे – Shivlingi Beej Ke Fayde in Hindi

3. पुत्रजीवक बीज एंड शिवलिंगी बीज का उपयोग – Use of shivlingi beej and putrajeevak in Hindi
4. शिवलिंगी बीज लेने से लड़का पैदा होने की सम्भावना बढ़ जाती है – Does shivlingi beej guarantee male child in Hindi
5. शिवलिंगी बीज साइड इफेक्ट्स हिंदी – Shivlingi beej side effects in Hindi

शिवलिंगी का पौधा – – Shivlingi plant in Hindi

शिवलिंगी का पौधा - – Shivlingi plant in Hindi

ब्रायनिया लैसिनीसा, या जिसे हम शिवलिंगी के नाम से जानते है, एक पतला तेज पौधा (slender pungent plant) है जो अप्रैल ओर दिसंबर के महीनों के बीच भारत में मिलता है। शिवलिंगी पौधे के लगभग सभी घटक जैसे भूरे रंग के बीज, गोलकार फल और इसकी चंचल पत्तियों सभी औषधीय गुणों (medicinal properties) वाली होती हैं।

भारतीय आयुर्वेद के अनुसार यह अपनी पत्तियों के माध्यम से दर्द और सूजन को कम करता है। इसके बीज के माध्यम से यौन शक्ति को बढ़ाया जा सकता है। आज, शिवलिंगी मुख्य रूप से प्राकृतिक कामोद्दीपक औषधि ओर प्रजनन क्षमता को बढ़ाने वाली जड़ी बूटी के रूप में प्रयोग किया जाता है जिसे मर्दाना ताकत और जवानी (masculinity and youthfulness) को बढ़ावा देने के लिए जाना जाता है।

(और पढ़े – यौन शक्ति बढ़ाने के लिए प्राक्रतिक जड़ी बूटी)

शिवलिंगी बीज के फायदे – Shivlingi Beej Ke Fayde in Hindi

  1. शिवलिंगी के फायदे महिला बांझपन में – Shivlingi Beej For Female Fertility in Hindi
  2. शिवलिंगी बीज ड्यूरिंग प्रेगनेंसी – shivlingi beej during pregnancy in Hindi
  3. शिवलिंगी बीज का प्रयोग टेस्‍टोस्‍टेरोन बढ़ाने में – Shivlingi Beej Ke Fayde For Testosterone in Hindi
  4. शिवलिंगी के बीज के फायदे यौन शक्ति बढ़ाने में – Shivlingi Seed Enhances Male Libido in Hindi
  5. शिवलिंगी बीज के फायदे बुखार को कम करने में – Shivlingi Beej for Lowers Fever in Hindi
  6. शिवलिंगी के बीज का उपयोग कब्ज के इलाज में – Use of Shivlingi Beej for Constipation in Hindi
  7. शिवलिंगी सीड्स फ़ॉर वेट लोस – Shivlingi Seeds for Weight Loss in Hindi

शिवलिंगी के फायदे महिला बांझपन में – Shivlingi Beej For Female Fertility in Hindi

शिवलिंगी के फायदे महिला बांझपन में – Shivlingi Beej For Female Fertility in Hindi

महिला प्रजनन क्षमता (female fertility) को बढ़ाने के लिए शिवलिंगी बीज फायदेमंद होते हैं, और माना जाता है कि शिवलिंगी का सेवन करने वाली महिला के गर्भवती होने की संभावना बढ़ जाती है।

शिवलिंगी बीज एक प्राकृतिक आयुर्वेदिक जड़ी बूटी है जिसका उपयोग बांझपन उपचार के लिए किया जाता है । यह महिला बांझपन के इलाज के लिए एक प्राकृतिक उपाय है। यह हार्मोन को संतुलित करने और प्राकृतिक रूप से बांझपन उपचार में मदद करता है। फायदेमंद परिणाम प्राप्त करने के लिए इसे नियमित रूप से लिया जा सकता है। शिवलिंगी बीज बांझपन उपचार के लिए इस्‍तेमाल होने वाली उम्र से सम्बंधित समस्याओं के लिए जाना जाता है। यह मादा अंगों को पोषण प्रदान करता है और सामान्‍य कामकाज का समर्थन करता है। शिवलिंगी बीज परंपरागत रूप से मादा अंगों को पोषित करने और गर्भवस्‍था को बनाए रखने के लिए हार्मोन को संतुलित करने के लिए जाना जाता है। यह बार-बार होने बाले गर्भपात से पीड़ित महिलाओं के लिए एक बहुत अच्‍छा प्राकृतिक उत्‍पाद है।

(और पढ़े – जानें, मां बनने में महिला के अंगों की क्या है भूमिका)

शिवलिंगी बीज ड्यूरिंग प्रेगनेंसी – shivlingi beej during pregnancy in Hindi

शिवलिंगी बीज ड्यूरिंग प्रेगनेंसी - shivlingi beej during pregnancy in Hindi

अच्‍छे परिणाम पाने के लिए शिवलिंगी बीज का इस्‍तेमाल पुत्रीजीवक बीज के साथ किया जा सकता है। शिवलिंगी बीज मादा हार्मोन को संतुलित करके मासिक धर्म विकारों के इलाज में मदद करता है। शिवलिंगी बीज सामान्‍य कार्यों के लिए यौन अंगों को पोषण देता है और बांझपन के उपचार में मदद करता है। शिवलिंगी बीज महिला बांझपन के लिए एक सुरक्षित उत्‍पाद है और इसे लंबे समय तक लिया जा सकता है क्‍योंकि यह किसी दुष्‍पभाव का उत्‍पादन नहीं करता है।

(और पढ़े – पीरियड्स की जानकारी और अनियमित पीरियड्स के लिए योग और घरेलू उपचार)

शिवलिंगी बीज का प्रयोग टेस्‍टोस्‍टेरोन बढ़ाने में – Shivlingi Beej Ke Fayde For Testosterone in Hindi

शिवलिंगी का उपयोग पारंपरिक रूप से एफ्रोडायसियाक और प्रजनन (aphrodisiac and fertility) बूस्‍टर के लिए किया जाता है। शिवलिंगी टेस्‍टोस्‍टेरोन उत्पादन को उत्तेजित करके टेस्‍टोस्‍टेरोन के स्तर में वृद्धि कर सकता है। एक पशु अध्ययन में बताया गया है कि शिवलिंगी को ल्‍युटिनिजिंग हार्मोन का स्राव बढ़ाने के लिए हाइपोथेलेकिम-पिट्यूटरी-ग्लैंड (hypothalamic-pituitary-gonadal)  को प्रभावित करने के लिए दिखाया गया था, जो बाद में टेस्‍टोस्‍टेरोन उत्पादन में वृद्धि करता है। टेस्‍टोस्‍टेरोन के स्तर को जिन्सेंग (Ginseng) और कई अन्य आयुर्वेदिक टेस्‍टोस्‍टेरोन बूस्‍टर में उसी मार्ग के माध्‍यम से बढ़ाते दिखाया गया है। शिवलिंगी बीज पुरुषों में शुक्राणुओं की संख्‍या बढ़ाने और यौन व्‍यवहार को बढ़ावा देने में भी मदद करते हैं।

(और पढ़े – पुरुषों में टेस्टोस्टेरोन बढ़ाने के आसान घरलू उपाय)

शिविलिंगी में सैपोनिन (saponins) की उच्च मात्रा संभावित रूप से कुछ अन्य अज्ञात तंत्र के माध्यम से टेस्‍टोस्‍टेरोन को सक्रिय भी कर सकती है

शिवलिंगी के बीज के फायदे यौन शक्ति बढ़ाने में – Shivlingi Seed Enhances Male Libido in Hindi

शिवलिंगी के बीज के फायदे यौन शक्ति बढ़ाने में – Shivlingi Seed Enhances Male Libido in Hindi

आयुर्वेद चिकित्सकों द्वारा शिवलिंगी बीजों को पुरुष यौन स्‍वास्‍थ्‍य पर उनके सकारात्‍मक प्रभाव के कारण एक शक्तिशाली कामोद्दीपक औषधि के रूप में उपयोग किया जाता है। इन बीजों का उचित मात्रा एपिडिडिस, वृषण और पौरुषग्रंथि (testes and prostate) जैसे महत्‍वपूर्ण पुरुष यौन अंगों के वजन को बढ़ाने के लिए पाया गया है। न केवल यह शुक्राणुओं की संख्‍या में वृद्धि करने में मदद करता है बल्कि यह शुक्राणु कोशिकाओं में फ्रक्‍टोज सामग्री (fructose) को बढ़ाकर शुक्राणु तरल पदार्थ के पोषण स्‍तर को भी बढ़ावा देता है। ये सभी पुरुष कामेच्छा और प्रजनन क्षमता के लिए लाभदायक होते हैं।

(और पढ़े – शुक्राणुओं की संख्या बढ़ाने का घरेलू उपाय)

शिवलिंगी बीज के फायदे बुखार को कम करने में – Shivlingi Beej for Lowers Fever in Hindi

शिवलिंगी बीज के फायदे बुखार को कम करने में - Shivlingi Beej for Lowers Fever in Hindi

आयुर्वेद में बुखार, ज्वर निवारक और पीड़ा-नाशक प्रभावों को दूर करने के लिए शिवलिंगी बीज का उपयोग किया जाता है। शिवलिंगी पत्तियों की ज्वर हटाने वाली क्रिया (antipyretic action) पैरासिटामोल की तरह होती है जो हमारे शरीर के तापक्रम को कम कर बुखार को दूर करने में मदद करते हैं।

(और पढ़े – ऐसे दूर रहें वायरल फीवर से)

शिवलिंगी के बीज का उपयोग कब्ज के इलाज में – Use of Shivlingi Beej for Constipation in Hindi

शिवलिंगी के बीज का उपयोग कब्ज के इलाज में – Use of Shivlingi Beej for Constipation in Hindi

ग्‍लूकोमन (glucomannan) नामक प्राकृतिक आहार फाइबर शिवलिंगी बीजों में पाया जाता है, जो पानी में घुलनशील फाइबर होता है। यह पानी को अवशोषित करके आंत में पानी की मात्रा को अधिक बनाता है और आंत्र आंदोलन (bowel movement) में मदद करता है, जिससे मल त्यागने में आसानी होती है। इस प्रकार कब्ज के लिए प्रभावी इलाज के रूप में कार्य करता है। विशेष तौर पर बच्चों के लिए।

(और पढ़े – कब्ज के कारण और इलाज)

शिवलिंगी सीड्स फ़ॉर वेट लोस – Shivlingi Seeds for Weight Loss in Hindi

शिवलिंगी बीज का सेवन एक मोटापा विरोधी कार्रवाई करते हैं। जब नियमित रूप से और सही मात्रा में इसका सेवन किया जाता है, तो ये बीज शरीर द्रव्‍यमान सूचकांक (body mass index) और शरीर के वजन को कम करने में महत्वपूर्ण भूमिका अदा कर सकते हैं। यह क्रिया ग्‍लूकोमोनन के परिणाम की सबसे अधिक संभावना है जो स्‍वस्‍थ्‍य आंत्र आंदोलन (bowel movement) और मल त्यागने में सहायता करती है।

(और पढ़े – मोटापा कम करने के घरेलू उपाय)

पुत्रजीवक बीज एंड शिवलिंगी बीज का उपयोग – Use of shivlingi beej and putrajeevak in Hindi

गर्भावस्था की संभावनाओं को बढ़ाने के लिए शिवलिंगी के बीज और पुत्रजीवक के बीज का पाउडर साथ में लिया जा सकता है। इसे नाश्ते और रात के खाने से एक घंटे पहले दूध के साथ 1 चम्मच के खुराक पर लिया जा सकता है। इस दवा का सेवन करने से पहले आयुर्वेद डॉक्टर की सलाह अवश्य ले क्योंकि वह आपको इसकी सही खुराक के बारे में और अच्छे से बता सकते है।

शिवलिंगी बीज लेने से लड़का पैदा होने की सम्भावना बढ़ जाती है – Does shivlingi beej guarantee male child in Hindi

बच्चे का लिंग पूरी तरह से पिता गुण सूत्र ( लड़की के लिए X और लड़के के लिए Y) पर निर्भर करता है। शिवलिंगी बीज गर्भधारण (pregnancy) की संभावनाओं को बढ़ा सकते हैं, लेकिन बच्‍चे के लिंग को निर्धारित करने में उसकी कोई भूमिका नहीं है।

(और पढ़े – लड़का पैदा करने के घरेलु उपाय)

(और पढ़े – जाने गर्भ में लड़का होने के लक्षण क्या होते है)

शिवलिंगी बीज साइड इफेक्ट्स हिंदी – Shivlingi beej side effects in Hindi

शिवलिंगी बीज साइड इफेक्ट्स हिंदी - Shivlingi beej side effects in Hindi

आयुर्वेद डॉक्टर की सलाह पर सही तरीके से शिवलिंगी के बीज का सेवन करने से इसके कोई ज्ञात दुष्प्रभाव नहीं होते है

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration