पुत्र प्राप्ति के वैज्ञानिक उपाय - Putra Prapti Ke Vaigyanik Upay - Healthunbox
गर्भावस्था

पुत्र प्राप्ति के वैज्ञानिक उपाय – Putra Prapti Ke Vaigyanik Upay

पुत्र प्राप्ति के वैज्ञानिक उपाय - Putra Prapti Ke Vaigyanik Upay

Putra Prapti Ke Vaigyanik Upay: क्‍या आपके मन में भी पुत्र प्राप्ति की लालसा है? यदि हां तो आज हम आपको पुत्र प्राप्ति के वैज्ञानिक उपाय के बारे में बताएंगें। भले ही लड़का और लड़की में कोई अंतर नहीं होता है लेकिन फिर भी भारत में आज भी लोग पुत्र प्राप्ति की कामना करता है।

ऐसा पहले कहा जाता था कि पुत्र या पुत्री का पैदा होना ईश्‍वर के हाथ में है। लेकिन विज्ञान के इस दौर में पुत्र प्राप्‍त करने के तरीके भी खोज लिए गए हैं। यदि आप पुत्र प्राप्ति के लिए वैज्ञानिक तरीका के बारे जानना चाहते है तो आज के इस आर्टिकल में हम आपको पुत्र प्राप्ति के साइंटिफिक उपाय (Putra Prapti Ke Scientific Upay) के बताएंगें।

लड़का बनने की प्रक्रिया – The process of becoming a boy in Hindi

लड़का बनने की प्रक्रिया – The process of becoming a boy in Hindi

पुरुष के वीर्य में 2 तरह के शुक्राणु होते है, ये दोनों तरह के शुक्राणु ही निर्धारित करते है की गर्भ में लड़का बनेगा या लड़की। आइये माँ के गर्भ में लड़का या लड़की बनने की प्रक्रिया को विस्तार से जानते है।

शुक्राणु दो टाइप के होते है, जिन्हें क्रोमोसोम (chromosome) कहते है। पुरुष के वीर्य में X क्रोमोसोम और Y क्रोमोसोम होते है, जो पुत्र या पुत्री का निर्धारण करते है। संभोग के दौरान पुरुष वीर्य में दोनों में से कोई भी गुणसूत्र उत्सर्जित हो सकता है।

जबकि स्त्री के अंडाशय में केवल दो XX क्रोमोसोम ही होते हैं। जब सम्भोग के बाद पुरुष के वीर्य का Y क्रोमोसोम महिला के अंडे (eggs) से मिलता है तब लड़का पैदा होता है।  यदि गर्भाधान के समय यदि स्त्री के  X क्रोमोसोम पुरुष के X क्रोमोसोम से मिल जाये तो लड़की का जन्म होता है।

इस वैज्ञानिक तथ्य से यह साबित होता है की लड़की या लड़के के जन्म के लिए पुरुष ही जिम्मेदार होता है। किसी स्त्री को लड़के को जन्म न देने के लिए दोषी ठहराना सर्वथा अनुचित है।

(और पढ़ें – पुत्र प्राप्ति के लिए हमें क्या करना चाहिए, जानें लड़के का गर्भ धारण करने के लिए क्या करें?)

पुत्र प्राप्ति के लिए गर्भ धारण करने का तरीका – How to conceive for boy in Hindi

पुत्र प्राप्ति के लिए गर्भ धारण करने का तरीका – How to conceive for boy in Hindi

पुत्र की प्राप्ति के लिए आपको पुरुष के X क्रोमोसोम की लाइफ साइकिल का नेचर पता होना चाहिए। पुत्र प्राप्ति के वैज्ञानिक उपाय में आपको निम्न दो बातों को जानना बहुत ही महत्वपूर्ण है।

  • पुरुष के एक्स क्रोमोसोम पुत्री के जन्म के लिए ज़िम्मेदार होते है। पुरुष के X क्रोमोसोम, Y क्रोमोसोम की तुलना में अधिक शक्तिशाली होता है, यह महिला के शरीर में अधिक समय तक जीवित रह सकता है।
  • पुरुष के वाई क्रोमोसोम पुत्र प्राप्ति के लिए ज़िम्मेदार होते है। पुरुष के Y क्रोमोसोम महिला के शरीर में, X क्रोमोसोम की तुलना में अधिक तेज गति से चलता है।

साइंटिफिक तरीके से पुत्र प्राप्ति के लिए ओवुलेशन पीरियड का टाइम बहुत महत्वपूर्ण है।

(और पढ़ें – लड़का पैदा करने के घरेलू उपाय)

पुरुष शुक्राणु और चक्र समय – Male Sperm And Cycle Timing in Hindi

पुरुष शुक्राणु और चक्र समय – Male Sperm And Cycle Timing in Hindi

पुत्र प्राप्ति की संभावना पुरुष शुक्राणु और समय चक्र पर निर्भर करता है। इसलिए गर्भधारण की संभावना को बढ़ाने के लिए ओव्‍यूलेशन के आस-पास विशेष रूप से सेक्‍स किया जाना चाहिए। यदि आप अंडोत्‍सर्जन के कई दिन पहले सेक्‍स करते हैं तो पुरुष शुक्राणु ओव्‍यूलेशन के समय तक स्‍वत: ही नष्‍ट हो जाते हैं। हालांकि यह निश्चित करना भी मुश्किल है महिला ओव्‍यूलेशन कर रही है या नहीं। इसलिए महिलाओं को अपने मासिक चक्र का पूरा रिकार्ड रखना चाहिए। इसके अलावा महिलाओं को ओव्‍यूलेशन टेस्‍ट किट का भी उपयोग करना चाहिए।

(और पढ़ें – गर्भावस्था में अल्ट्रासाउंड कब और कितनी बार करवाना चाहिए)

पुत्र प्राप्ति के लिए ओवुलेशन पीरियड का टाइम – Ovulation period time to get a son in Hindi

पुत्र प्राप्ति के लिए ओवुलेशन पीरियड का टाइम - Ovulation period time to get a son in Hindi

ओवुलेशन पीरियड में ही महिला का X  क्रोमोसोम या अंडाणु उपलब्ध होता है। यह समय पीरियड साइकिल के 30 दिनों में केवल 5 दिन के आस पास का होता हैं। इस समय संबंध बनाने से पुत्र प्राप्ति की संभावना अधिक रहती है।

पीरियड की सही गिनती करें मासिक धर्म शुरू होने वाले दिन को पहला दिन गिनना चाहिए। पुत्र प्राप्ति के लिए मासिक धर्म (Period) शुरू होने वाले दिन से गिन कर चौथी, छठी, 8वीं, 10वीं, 12वीं, 14वीं और 16वीं रात को सम्भोग करना चाहिए।

(और पढ़े – गर्भ में लड़की होने के लक्षण)

पुत्र प्राप्ति के लिए क्‍या खाना चाहिए – What To Eat To Conceive A Boy in Hindi

पुत्र प्राप्ति के लिए क्‍या खाना चाहिए – What To Eat To Conceive A Boy in Hindi

हमारे द्वारा खाया जाने वाला आहार भी लड़का पुत्र प्राप्ति की संभावना को बढ़ा सकता है। कुछ ऐसे विशेष खाद्य पदार्थ भी होते हैं जो पुत्र प्राप्ति के गर्भधान प्रक्रिया को प्रभावित कर सकते हैं। आइए जाने पुत्र प्राप्ति की संभावना को बढ़ाने के लिए किस प्रकार का आहार करना चाहिए।

  • पुत्र प्राप्ति के लिए पुरुष को दूध से बनी हुई चीजें जैसे पनीर, दूध, मक्खन, मावा, रबड़ी आदि का सेवन करना चाहिए।
  • पुत्र प्राप्ति के लिए केला खाना चाहिए। केला में खनिज पदार्थ और विटामिनों की उच्‍च मात्रा होती है। लड़के को पैदा करने में केला मदद करता है क्‍योंकि इसमें पोटेशियम की उच्‍च मात्रा होती है।
  • बेटा पैदा करने लिए करें ग्‍लूकोज का सेवन करें। पुत्र प्राप्ति के लिए पोटेशियम और सोडियम के साथ ग्‍लूकोज की आवश्‍यकता होती है। अध्‍ययनों से पता चलता है कि ग्‍लूकोज भी पुरुष लड़के के जन्‍म की संभावना बढ़ा सकता है।
  • तरबूज का सेवन करने से पुत्र प्राप्ति की संभावना होती है। इसमें विटामिन और खनिज पदार्थ उच्‍च मात्रा में होते हैं। नियमित रूप से तरबूज का सेवन पुत्र प्राप्ति की सभी बाधाओं को दूर करने में सहायक होता है।

(और पढ़े – जाने गर्भ में लड़का होने के लक्षण क्या होते है)

पुत्र प्राप्ति के वैज्ञानिक उपाय (Putra Prapti Ke Vaigyanik Upay) का यह लेख आपको कैसा लगा हमें कमेंट्स कर जरूर बताएं।

इसी तरह की अन्य जानकारी हिन्दी में पढ़ने के लिए हमारे एंड्रॉएड ऐप को डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक करें। आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं।

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration