सिजेरियन डिलीवरी के टांकों में संक्रमण के लक्षण, कारण और इलाज – Post-Cesarean Wound Infection In Hindi

सिजेरियन डिलीवरी के टांकों में संक्रमण के लक्षण, कारण और इलाज - Post-Cesarean wound infection in Hindi
Written by Akansha

सिजेरियन डिलीवरी के बाद टांकों में संक्रमण जिसे पोस्ट सिजेरियन घाव संक्रमण भी कहा जाता है, आमतौर पर सर्जिकल साइट में लगे चीरे में एक तरह के जीवाणु संक्रमण (bacterial infection) के कारण होता है। टांको में घाव के संक्रमण के कुछ सामान्य संकेत होते है जैसे बुखार, घाव की संवेदनशीलता (wound sensitivity), लाल निशान और चीरे के स्थान पर सूजन, और पेट के निचले हिस्से में दर्द आदि। संक्रमण से होने वाली जटिलताओं को रोकने के लिए तुरंत इसका इलाज करवाना बहुत ही महत्वपूर्ण है।

आज इस लेख में जानेंगे की सिजेरियन डिलीवरी (सी सेक्शन) के टांकों में संक्रमण कैसे हो जाता है इसके क्या लक्षण कारण जोखिम कारक जटिलताएं और इलाज है और इन टांकों की देखभाल कैसे करें।

  1. सिजेरियन डिलीवरी के बाद टांकों में संक्रमण – Post Cesarean wound infection in Hindi
  2. सिजेरियन डिलीवरी के टांके पकने के लक्षण – Cesarean delivery wound infection symptoms in Hindi
  3. सिजेरियन डिलीवरी के टांकों के पकने का कारण – C-Section wound infection causes in Hindi
  4. सिजेरियन डिलीवरी के घाव के जोखिम कारक – Cesarean delivery wound infection risk factor in Hindi
  5. सिजेरियन डिलीवरी के टांको में संक्रमण से होने वाली जटिलताएं – C-Section wound infection complications in Hindi
  6. सिजेरियन डिलीवरी के टांको में संक्रमण की जांच – Cesarean delivery wound infection diagnosis in Hindi
  7. सिजेरियन डिलीवरी के बाद टांके में संक्रमण का इलाज – Cesarean Delivery wound infection treatment in Hindi
  8. सिजेरियन डिलेवरी टांके की देखभाल – Cesarean delivery wound infection prevention in Hindi
  9. सिजेरियन डिलीवरी के टांको के घाव जल्दी भरने के लिए उपाय – Cesarean Delivery Wound Healing Tips In Hindi

सिजेरियन डिलीवरी के बाद टांकों में संक्रमण – Post Cesarean wound infection in Hindi

सिजेरियन डिलीवरी के बाद टांकों में घाव के बाद संक्रमण तब हो सकता है जब बैक्टीरिया चीरे के घाव में पहुंच जाते हैं। डॉक्टर सर्जिकल टांकों के घाव के संक्रमण के लिए दवाएं देते है और टांकों के घाव की उचित देखभाल के साथ ही इलाज भी करते हैं।

अनुमानित 3–15 प्रतिशत महिलाओं में सिजेरियन डिलीवरी के बाद चीरे के घाव में कभी न कभी संक्रमण विकसित होते हुए जरुर देखा गया है।

(और पढ़ें – प्रसव (डिलीवरी) के बाद टांके और उनकी देखभाल)

सिजेरियन डिलीवरी के टांके पकने के लक्षण – Cesarean delivery wound infection symptoms in Hindi

सिजेरियन ऑपरेशन के टांके पकने के किसी भी लक्षण को देखने के लिए महिलाओं को हर दिन टांकों के घाव की जांच करनी चाहिए। कई प्रकार के संक्रमण सर्जरी के 4-7 दिनों तक कोई लक्षण पैदा नहीं करते हैं। सिजेरियन डिलीवरी के टांकों में घाव के बाद संक्रमण के लक्षण हल्के से लेकर चरम दर्द और संक्रमण की गंभीरता के आधार पर अलग अलग होते हैं।

सी सेक्शन के बाद टांकों के पकने पर कुछ सामान्य लक्षण दिखाई देते हैं-

  • बुखार आना
  • कोमलता (tenderness)
  • घाव लाल हो जाना
  • चीरा लगे हुए स्थान के पास सूजन
  • ऑपरेशन के टांके में दर्द होना
  • मवाद या अन्य तरह का फ्लूइड निकलना
  • त्वचा का सख्त हो जाना
  • पेशाब करने में दर्द
  • बदबूदार योनि स्राव
  • रक्तस्राव होना जिसमें बड़े थक्के निकल रहे हो
  • पैरों में दर्द या सूजन आना

नोट- यदि आपको पोस्ट-सिजेरियन टांको में घाव के संक्रमण के कोई भी लक्षण दिखाई दे, तो तुरन्त अपने डॉक्टर से संपर्क करके सलाह लें।

(और पढ़ें – टांके के निशान हटाने के घरेलू उपाय)

सिजेरियन डिलीवरी के टांकों के पकने का कारण – C-Section wound infection causes in Hindi

सिजेरियन डिलीवरी, जिसे सी-सेक्शन भी कहा जाता हैं, एक प्रकार की प्रमुख सर्जरी होती है। इस सर्जरी में उसी तरह के जोखिम होते है जैसे अन्य प्रकार की सर्जरी में होते है जैसे घाव के संक्रमण। टांको के घाव में संक्रमण तब होता है जब बैक्टीरिया घाव में प्रवेश करते हैं। स्टैफिलोकोकस ऑरियस या स्टैफ बैक्टीरिया (Staphylococcus aureus or staph bacteria) नामक बैक्टीरिया ही सिजेरियन डिलीवरी के बाद के टांकों के पकने का सबसे आम कारण होते हैं। सिजेरियन डिलीवरी में इस बैक्टीरिया से संक्रमित होने के अनुमानित 15-20 प्रतिशत मामले सामने आते हैं।

स्टैफ बैक्टीरिया (staph bacteria) स्वाभाविक रूप से लोगों के बालों और त्वचा पर पाए जाते हैं और जब यह बैक्टीरिया दोगुने होते है तो यह घाव में प्रवेश करते हैं, और कई प्रकार के संक्रमण का कारण बनते हैं।

स्टैफ बैक्टीरिया के निम्न प्रकार ही सिजेरियन डिलीवरी के टांको के पकने का कारण बनते  है, जिनमे शामिल है-

रोड़ा (Impetigo)- इम्पीटिगो संक्रमण एक तरह के उथले (shallow), द्रव से भरे फफोले (fluid-filled blisters) का कारण बनता है जो टूट जाता है और शहद के रंग के क्रस्ट्स को वहीं छोड़ देता है। इस तरह के संक्रमण से बहुत ज्यादा दर्द और खुजली हो सकती है।

फोड़े (Abscesses)- फोड़े-फुंसियां (Abscesses) ​​मृत त्वचा और मवाद (pus) से भरी होती हैं जो त्वचा के नीचे विकसित होती हैं। यह बहुत ही गर्म और दर्दनाक महसूस होती  हैं।

कोशिका (Cellulitis)-सेल्युलाइटिस (Cellulitis) त्वचा और उसके नीचे के ऊतकों में पैदा होने वाला संक्रमण है। इस संक्रमण के लक्षण जल्दी से चीरे के स्थान के बाहर की ओर फैल जाते हैं और आमतौर पर दर्द होते है, लाल निशान बन जाते और स्पर्श करने में गर्म लगते हैं।

सी सेक्शन डिलीवरी के घाव के संक्रमण आमतौर पर 4-7 दिनों के बाद ही उत्पन्न होते हैं। लेकिन यदि लक्षण 28 घंटों के भीतर ही शुरू हो जाते हैं, तो यह स्ट्रेप्टोकोकस या स्ट्रेप बैक्टीरिया (Staphylococcus aureus or staph bacteria) के कारण ही होता है।

स्ट्रेप संक्रमण (staph infection) के कारण एरिथिपेलस (erysipelas) हो सकता है। यह एक प्रकार का सेल्युलाइटिस होता है, जिसमें लिम्फ प्रणाली में भी संक्रमण होता है। एरिज़िपेलस संक्रमण वाली महिलाओं में आमतौर पर लाल, चमकदार, स्पष्ट मार्जिन के साथ घाव दिखाई देते हैं।

सिजेरियन डिलीवरी के घावों में संक्रमण पैदा करने वाले अन्य बैक्टीरिया में शामिल हैं-

  • यूरियाप्लाज्मा यूरियालिक्टिकम (Ureaplasma urealyticum)
  • स्तवकगोलाणु अधिचर्मशोथ (Staphylococcus epidermidis)
  • एन्तेरोकोच्चुस फैकैलिस (Enterococcus faecalis)
  • इशरीकिया कोली (Escherichia coli)
  • रूप बदलने वाला मिराबिलिस (Proteus mirabilis)

सिजेरियन डिलीवरी के घाव के जोखिम कारक – Cesarean delivery wound infection risk factor in Hindi

ऐसे कई जोखिम कारक होते हैं जो किसी महिला को पोस्ट-सीज़ेरियन घाव के संक्रमण के विकास की संभावना को बढ़ा देते हैं, जिसमे शामिल है-

  • हेमेटोमा (hematoma) होना
  • एमनियोटिक द्रव, या कोरियोमायोनीइटिस में बैक्टीरियल संक्रमण होना
  • गर्भावस्था के दौरान तंबाकू का सेवन करना
  • चीरे का आकार बड़ा हो, या चीरा 16.6 सेंटीमीटर से अधिक हो
  • प्रसव पूर्व पर्याप्त देखभाल नहीं मिल पाना
  • मोटापा बढ़ना
  • कॉर्टिकोस्टेरॉइड्स (corticosteroids) का इस्तेमाल करना
  • मधुमेह या गर्भावधि में मधुमेह होना (having diabetes or gestational diabetes)
  • जुड़वाँ बच्चे पैदा होना
  • पिछली बार भी सिजेरियन डिलीवरी करवाई हो
  • एक एपिड्यूरल (epidural) होना
  • एक ख़राब हो चुका गर्भाशय
  • रक्त आधान (blood transfusions) हुआ हो
  • किसी तरह की आपातकालीन सर्जरी हुई हो

यह सभी जोखिम कारक सिजेरियन डिलीवरी के घाव में संक्रमण होने के मुख्य कारण हो सकते है।

सिजेरियन डिलीवरी के टांको में संक्रमण से होने वाली जटिलताएं – C-Section wound infection complications in Hindi

सिजेरियन डिलीवरी के टांकों में संक्रमण पैदा करने वाले स्टैफ बैक्टीरिया आमतौर पर त्वचा की सतह पर रहते हैं, हालांकि वे रक्तप्रवाह (bloodstream) में भी यात्रा कर सकते हैं और अन्य अंगों को प्रभावित कर सकते हैं जिससे संक्रमण होने का खतरा बढ़ जाता है।

स्टैफ संक्रमण (Staph infection) से जुड़ी कुछ संभावित जटिलताओं में शामिल हो सकते है-

एंडोकार्डिटिस (endocarditis)- यह एक तरह का हृदय वाल्वों (heart valves) में होने वाला संक्रमण है।

ऑस्टियोमायलिटिस (Osteomyelitis)- यह एक प्रकार का हड्डियों में होने वाला  संक्रमण है।

बैक्टीरिमिया (Bacteremia)- यह एक प्रकार का रक्तप्रवाह (bloodstream) का संक्रमण है।

स्टैफ बैक्टीरिया विषाक्त एपिडर्मल नेक्रोलिसिस (toxic epidermal necrolysis) का भी  कारण बन सकता है, जो एक गंभीर संक्रमण है यह त्वचा के बड़े पैच को छीलने का कारण बनता है। कुछ दुर्लभ मामलों में, स्ट्रेप्टोकोकस पाइोजेन्स (Streptococcus pyogenes) जो स्ट्रेप बैक्टीरिया का एक प्रकार है, वह नेक्रोटाइज़िंग फासिसाइटिस (necrotizing fasciitis) नामक एक प्रकार का गंभीर और संभावित घातक संक्रमण पैदा करता है। यह बैक्टीरिया त्वचा और अंतर्निहित ऊतकों (underlying tissues) को नष्ट कर देता है। नेक्रोटाइज़िंग फैसीसाइटिस की वजह से बुखार और अत्यधिक दर्द का अनुभव होता है जो समय के साथ तेजी से बढ़ता है।

सिजेरियन डिलीवरी के टांको में संक्रमण की जांच – Cesarean delivery wound infection diagnosis in Hindi

सिजेरियन डिलीवरी के टांकों के घाव में संक्रमण की जांच डॉक्टरों द्वारा कई प्रकार से की जाती है, जिसमे शामिल है-

घाव की दिखावट (wound appearance) घाव भरने की प्रगति (healing progress) आम संक्रमण के लक्षणों की उपस्थिति (presence of common infection symptoms) कुछ बैक्टीरिया की उपस्थिति (presence of certain bacteria) सिजेरियन डिलीवरी के बाद टांके में संक्रमण के विभिन्न स्तरों को देखने के बाद डॉक्टर को निदान करने और उचित उपचार प्रदान करने के लिए घाव को खोलना पड़ सकता है। यदि मवाद चीरे में से निकल रहा है, तो डॉक्टर घाव के अंदर से मवाद निकालने के लिए सुई का उपयोग करते हैं। किसी भी प्रकार के बैक्टीरिया की पहचान करने के लिए द्रव को प्रयोगशाला में भेजा जाता है जिससे यह पता चल सके की संक्रामण कौन से बैक्टीरिया द्वारा उत्पन्न हुआ है और उसके अनुसार ही इलाज दिया जा सके।

सिजेरियन डिलीवरी के बाद टांके में संक्रमण का इलाज – Cesarean Delivery wound infection treatment in Hindi

सिजेरियन डिलीवरी के टांकों में घाव के संक्रमण को ठीक करने के लिए आपका डॉक्टर एंटीबायोटिक्स दवाईयों के सहारे उन सभी संक्रमण का इलाज कर सकता है।

यदि आपको सेल्युलाइटिस बैक्टीरिया की वजह से घाव हुआ है, तो एंटीबायोटिक्स दवाईयों को लेकर संक्रमण को ठीक किया जा सकता है। एंटीबायोटिक्स दवाईयां विशेष रूप से स्टेफिलोकोकल (staphylococcal) और स्ट्रेप्टोकोकल (streptococcal) बैक्टीरिया को ख़त्म करती हैं। अस्पताल में, घाव के संक्रमण का इलाज आमतौर पर अंतःशिरा एंटीबायोटिक (intravenous antibiotics) दवाओं के द्वारा किया जाता है।

घाव यदि फोड़े (abscesses) जैसे है तो उनका भी उपचार एंटीबायोटिक दवाओं के साथ ही किया जाता है और इसमें विशेष देखभाल की भी आवश्यकता होती है। इस तरह के संक्रमण को ठीक करने के लिए सबसे पहले आपका डॉक्टर पूरे संक्रमित क्षेत्र के चीरे को  खोल देगा, और फिर मवाद को उसमे से बाहर निकाल देगा।

संक्रमित क्षेत्र को ध्यान से धोने के बाद, डॉक्टर उस पर एंटीसेप्टिक लगाकर मवाद संचय (pus accumulation) को रोक देते है। घाव ठीक तरह से भर रहा है या नहीं इसको सुनिश्चित करने के लिए नियमित रूप से जांच करवाने की आवश्यकता होती है। एंटीबायोटिक उपचार देने के कई दिनों के बाद, आपका डॉक्टर चीरे की फिर से जाँच करते है।

सिजेरियन डिलेवरी टांके की देखभाल – Cesarean delivery wound infection prevention in Hindi

सिजेरियन डिलीवरी के टांको में घाव के संक्रमण की अच्छे से देखभाल करना बहुत जरुरी है नहीं तो उससे और ज्यादा गंभीर स्थिति होने का खतरा बना रह सकता है।

घाव के संक्रमण को ठीक करने के लिए कुछ देखभाल के नियम अपनाने पड़ेंगे, जिसमे शामिल है –

  • घाव के बाद की सर्जरी की उचित देखभाल करें और किसी भी प्रकार की चिंताजनक स्थिति में तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें।
  • डिलेवरी टांके की देखभाल के लिए एंटीबायोटिक दवाईयों की खुराक समय से लें ।
  • घाव की सफाई और ड्रेसिंग नियमित रूप से करें।
  • चीरे के स्थान पर ढीले कपड़े पहनें और किसी भी तरह के लोशन को घाव के आस पास लगाने से बचें।
  • घाव पर दबाव पड़ने से बचने के लिए स्तनपान के दौरान बच्चे को रखने के विभिन्न तरीकों का विकल्प चुनें।
  • यदि मवाद, दर्द या सूजन के लक्षण दिखाई देने लगे, तो तुरंत अपने डॉक्टर से संपर्क करें और सलाह लें।

(और पढ़ें – बच्चे को दूध पिलाने (स्तनपान कराने) के तरीके और टिप्स)

सिजेरियन डिलीवरी के टांको के घाव जल्दी भरने के लिए उपाय – Cesarean Delivery Wound Healing Tips In Hindi

यहाँ हम आपको कुछ ऐसे टिप्स बताने जा रहे है जिससे आपके सिजेरियन डिलीवरी के टांकों में हो रहे घाव को जल्दी भरने में मदद मिलेगी।

  • सुनिश्चित करें कि आप दर्द और सूजन के इलाज के लिए नियमित रूप से दवाईयां ले रही है या नहीं।
  • छींकते समय अपने पेट को सहारा दें, और अपनी पीठ पर बिना कोई खिंचाव डाले बिलकुल सीधे चलें।
  • बहुत सारे तरल पदार्थ जैसे पानी, नारियल पानी आदि पिएं।
  • कोई भी भारी सामान बिलकुल ना उठाएं।
  • बच्चे को फीड कराने के बाद जितना समय मिले उसमे हो सके तो आराम करें।

सी-सेक्शन संक्रमण उचित चिकित्सा देखभाल के साथ इलाज योग्य हैं। यदि आप अपने टांकों में किसी भी प्रकार के लक्षण को नोटिस करती हैं, तो अपने डॉक्टर से मिलें और जितनी जल्दी हो सके उनकी जांच कराएँ। इसके अलावा, सिजेरियन डिलीवरी के टांकों की उचित देखभाल करें और संक्रमण के जोखिम को कम करने के लिए अपने डॉक्टर से परामर्श करें।

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration