गर्भावस्था

गर्भधारण कैसे होता है? – How Pregnancy Happens in Hindi

गर्भधारण कैसे होता है? - How Pregnancy Happens in Hindi

गर्भधारण कैसे होता है? गर्भधारण होने के लिए पुरुष के शुक्राणु को महिला के अंडे के साथ मिलना होता है गर्भावस्था की शुरुआत तब होती है जब एक निषेचित अंडा गर्भाशय के अस्तर में स्थापित हो जाता है। गर्भवती होने के लिए सेक्स करने के बाद 2 से 3 सप्ताह तक का समय लग सकता है। आज के इस लेख में हम आपको महिलाओं में गर्भ कैसे ठहरता है, औरत को प्रेग्नेंट कैसे किया जाता है, और गर्भधारण कैसे होता है उसके बारे में जानकारी देने जा रहें हैं।

महिला गर्भवती (प्रेगनेंट) कैसे होती है? – How does pregnancy happen in Hindi?

गर्भावस्था वास्तव में एक बहुत जटिल प्रक्रिया है जिसमें कई स्टेप होते हैं महिलाओं में गर्भधारण की प्रक्रिया शुक्राणु कोशिकाओं और एक अंडे के मिलने से शुरू होते हैं।

शुक्राणु (Sperm) वे कोशिकाएं होती हैं जो पुरुष के अंडकोष (testicles) में बनती है। शुक्राणु के साथ अन्य तरल पदार्थ मिलकर वीर्य (semen) का निर्माण करते हैं जो स्खलन के दौरान पुरुष के लिंग से बाहर आता है। हर बार जब एक पुरुष स्खलित (ejaculate) होता है तो लाखों शुक्राणु वीर्य के साथ बाहर निकलते हैं लेकिन आपको बता दें महिला के गर्भवती होने के लिए अंडे को फर्टिलाइज करने के लिए केवल एक शुक्राणु कोशिका की आवश्यकता होती है।

अंडे (Eggs) महिला के अंडाशय (ovaries) में रहते हैं अंडे को स्टोर करने और छोड़ने वाले ये 2 अंग होते हैं, जो गर्भाशय के दोनों तरफ जुड़े होते हैं। अंडाशय एस्ट्रोजन, प्रोजेस्टेरोन और टेस्टोस्टेरोन हार्मोन का उत्पादन भी करते हैं। अंडाशय में अंडे पहले से ही भरे होते हैं, जो महिला के पैदा होने से पहले ही बन जाते हैं। हर मासिक चक्र के दौरान, मासिक धर्म चक्र को नियंत्रित करने वाले हार्मोन हर महीने कुछ अंडे को परिपक्व बनाते हैं। जब आपका अंडा परिपक्व होता है तो इसका मतलब है कि यह एक शुक्राणु कोशिका द्वारा निषेचित (fertilized) होने के लिए तैयार है। यह हॉरमोन गर्भाशय के स्तर (uterus lining) को भी मोटा और स्पंजी बनाते हैं जिससे आपका शरीर गर्भावस्था के लिए तैयार हो जाता है।

महिला के मासिक धर्म चक्र के बीच में (पीरियड्स शुरू होने के 12-14 दिन बाद) एक परिपक्व अंडा अंडाशय को छोड़ देता है जिसे ओव्यूलेशन (ovulation) कहा जाता है यह अंडा गर्भाशय की ओर फैलोपियन ट्यूब (fallopian tube) के माध्यम से आगे बढ़ता है। महिला के शरीर में दो फैलोपियन ट्यूब होती हैं। जिनकी लंबाई लगभग 10 सें.मी. होती है और ये ओव्यूलेशन के दौरान अंडाशय (ovary) से होकर गर्भाशय (uterus) तक एक अंडा ले जाती हैं।

अंडा लगभग 12 से 24 घंटों के लिए ट्यूब में घूमता रहता है इस समय वह शुक्राणु कोशिका को खोजता रहता है।

इसी दौरान यदि योनि में वीर्य छोड़ा जाता है तो शुक्राणु फैलोपियन ट्यूब और गर्भाशय के माध्यम से अंडे की तलाश में आगे बढ़ते रहते हैं इस दौरान शुक्राणु 5 से 6 दिन तक अंडे की खोज में महिला के शरीर में जीवित रहता है।

जब एक शुक्राणु कोशिका अंडे के साथ मिलती है तो इसे निषेचन कहा जाता है। निषेचन तुरंत नहीं होता क्योंकि शुक्राणु अपने गर्भाशय और फेलोपियन ट्यूब में सेक्स करने के 6 दिन बाद तक रह सकते हैं इसलिए सेक्स करने और अंडे के फर्टिलाइजेशन (fertilization) के बीच 6 दिन तक का समय लग सकता है।

यदि एक शुक्राणु अंडे के साथ जुड़ जाता है, तो निषेचित अंडा गर्भाशय की ओर फैलोपियन ट्यूब से नीचे चला जाता है यह धीरे-धीरे अधिक कोशिकाओं में विभाजित करना शुरु हो जाता है जिससे कोशिकाओं की एक गेंद बनती है और अपना आकाश बढ़ाती है। कोशिकाओं की यह गेंद जिसे ब्लास्टोसिस्ट (blastocyst) कहा जाता है निषेचन के लगभग तीन-चार दिनों के बाद गर्भाशय में पहुंच जाती है।

कोशिकाओं की गेंद 2-3 दिनों के लिए गर्भाशय में तैरती है। यदि कोशिकाओं की गेंद आपके गर्भाशय के अस्तर से जुड़ जाती है, तो इसे आरोपण (implantation) कहा जाता है – तब गर्भावस्था आधिकारिक तौर पर शुरू होती है।

निषेचन होने के लगभग 6 दिन बाद प्रत्यारोपण शुरू होता है और पूरा होने में लगभग 3 से 4 दिन लगते हैं भ्रूण (embryo) गेंद के अंदर कोशिकाएं विकसित होती रहती हैं। भ्रूण गेंद की बाहर की कोशिकाएं नाल (placenta) को विकसित करतीं हैं।

जब एक निषेचित अंडा गर्भाशय में प्रत्यारोपित होता है तो यह गर्भावस्था के हॉरमोन को रिलीज करता है जो आपके गर्भाशय के अस्तर को मजबूत बनाता है इसलिए जब महिला गर्भवती होती है तो उसे पीरियड्स नहीं आते हैं।

यदि आपका अंडाणु शुक्राणु के साथ नहीं मिलता है या एक निषेचित अंडा आपके गर्भाशय में आरोपित नहीं हो पाता है तो आप के गर्भाशय की मोटी परत की आवश्यकता नहीं होती है और गर्भाशय की मोटी परत आपके शरीर को आपके पीरियड के दौरान छोड़ देती है। साथ ही अनिषेचित अंडे के अवशेष भी उसी समय निकलते हैं।

सभी निषेचित अंडों में से आधे स्वाभाविक रूप से गर्भाशय में आरोपण (implant) नहीं कर पाते हैं। वह आपके मासिक धर्म के दौरान आपके शरीर से बाहर निकल जाते हैं।

गर्भावस्था के शुरुआती लक्षण क्या हैं? – What are early pregnancy symptoms in Hindi?

बहुत सी महिलाएं गर्भावस्था के पहले लक्षणों का अनुभव करती हैं, लेकिन कुछ मैं कोई लक्षण महसूस नहीं होते हैं।
गर्भावस्था के सामान्य लक्षणों में शामिल हो सकते हैं:

कुछ प्रारंभिक गर्भावस्था के लक्षण कभी-कभी अन्य सामान्य स्थितियों जैसी पीएमएस की तरह महसूस हो सकते हैं। यदि आप गर्भवती हैं तो यह सुनिश्चित करने का एकमात्र तरीका है अपनी गर्भावस्था की जांच करना। इसके लिए आप होम प्रेगनेंसी टेस्ट किट (home pregnancy test) का उपयोग कर सकती हैं। जिसे किसी भी दवा दुकान से ख़रीदा जा सकता है इसके अलावा आप डॉक्टर के पास जाकर रक्त परीक्षण के माध्यम से भी गर्भावस्था की पुष्टि कर सकती हैं।

(और पढ़े – प्रेगनेंसी (गर्भावस्था) के शुरूआती लक्षण)

सेक्स करने के बाद लड़की को गर्भवती होने में कितना समय लगता है? – How long after sex does pregnancy occur in Hindi

जिस दिन आप सेक्स करते हैं, गर्भावस्था शुरू नहीं होती है – शुक्राणु और अंडाणु को एक निषेचित अंडे के साथ जुड़ने और बनने में छह दिन तक का समय लग सकता है। फिर, निषेचित अंडे को गर्भाशय के अस्तर में खुद को पूरी तरह से प्रत्यारोपित करने में तीन से चार दिन लग सकते हैं। गर्भावस्था आरोपण के दौरान शुरू होती है, जब गर्भावस्था का समर्थन करने के लिए आवश्यक हार्मोन जारी होते हैं।

महिला जुड़वा बच्चों के साथ गर्भवती कैसे होते हैं? How do women get pregnant with twins in Hindi?

2 तरीके हैं जिनसे महिला जुड़वा बच्चों के साथ गर्भवती हो सकती हैं। जब पहले से ही निषेचित अंडे 2 अलग-अलग भ्रूणों (embryos) में विभाजित हो जाते हैं, तो जुड़वा बच्चे होते हैं। क्योंकि समान शुक्राणु एक ही शुक्राणु और अंडे से आते हैं, उनके पास एक ही आनुवंशिक सामग्री (डीएनए) होती है जिससे वह बिल्कुल समान दिखते है।

गैर-समान जुड़वाँ (जिसे “भ्रातृ जुड़वा” भी कहा जाता है) तब बनते हैं जब दो अलग-अलग अंडों (separate eggs) को दो अलग-अलग शुक्राणुओं (separate sperm) द्वारा निषेचित किया जाता है, और दोनों निषेचित अंडों को गर्भाशय में प्रत्यारोपित किया जाता है। यह तब हो सकता है जब आपका अंडाशय एक से अधिक अंडे जारी करता हैं, या कुछ प्रकार के प्रेगनेंसी ट्रीटमेंट जैसे आई बीएफ (IVF) के दौरान ऐसा हो सकता है। गैर-समान जुड़वाँ बच्चों में पूरी तरह से अलग आनुवंशिक सामग्री (डीएनए) होती है, और आमतौर पर वे एक जैसे नहीं दिखते हैं।

गर्भावस्था कितने दिनों की होती है – What is gestational age in Hindi?

शब्द गर्भकालीन आयु (gestational age) का मतलब है कि आपकी गर्भावस्था कितने दिनों तक चलने वाली है। गर्भकालीन आयु की गणना आपके अंतिम मासिक धर्म के पहले दिन से शुरू होती है।

गर्भकालीन आयु थोड़ी कन्फुजिंग हो सकती है, क्योंकि यह आपके पिछले पीरियड (period) से गर्भावस्था को मापती है – लगभग 3-4 सप्ताह पहले जब आप वास्तव में गर्भवती नहीं होती हैं। नार्मल गर्भावस्था 9 महीने तक रहती है, और यह सच है कि आप आमतौर पर लगभग 9 महीने तक गर्भवती रहती हैं। लेकिन जिस तरह से गर्भावस्था को मापा जाता है वह थोड़ा लंबा हो जाता है। एक पूर्ण गर्भावस्था अवधि 38-42 सप्ताह की होती है – लगभग 10 महीने।

बहुत सी महिलाएं अपने अंतिम मासिक धर्म की सही तारीख को याद नहीं रख पाती हैं – यह पूरी तरह से नॉर्मल है। आपकी नर्स या डॉक्टर एक अल्ट्रासाउंड (ultrasound) टेस्ट का उपयोग करके गर्भकालीन उम्र का पता लगा लेतीं हैं।

(और पढ़ें – जानें गर्भावस्था में कितने सप्ताह, महीने और ट्राइमेस्टर होते हैं)

गर्भावस्था के चरण क्या हैं? – What are the stages of pregnancy in Hindi

गर्भावस्था लगभग 40 सप्ताह तक रहती है। गर्भावस्था के चरणों को 3 ट्राइमेस्टर में विभाजित किया गया है। प्रत्येक ट्राइमेस्टर 13 सप्ताह से थोड़ा अधिक लंबा होता है।

आप प्रत्येक तिमाही के दौरान कई बदलावों से गुजरेंगीं। कुछ महिलाओं को पहली तिमाही के दौरान काफी असुविधा महसूस होती है जबकि अन्य को किसी भी तरह के लक्षण महसूस नहीं होते हैं।

पहली तिमाही के दौरान, आपके साथ संभवतः बहुत सारे शरीर परिवर्तन होंगे, जिनमें शामिल हैं:

  • थकान
  • स्तनों में सूजन
  • मॉर्निंग सिकनेस
  • कुछ खाद्य पदार्थों को खाने की अधिक इच्छा या अरुचि
  • मूड स्विंग
  • कब्ज
  • बार बार पेशाब आना
  • सरदर्द
  • हॉट बर्न
  • वजन बढ़ना या कम होना

जब आप प्रेगनेंसी के दूसरे ट्राइमेस्टर में जाती हैं तो इनमें से अधिकांश लक्षण दूर हो जाते हैं। यह तब होता है जब आपका थोड़ा पेट बड़ा हो जाता है और आपको भ्रूण की चाल महसूस होने लगती है।

प्रेगनेंसी के दूसरे सेमेस्टर में आप निम्न परिवर्तन भी देख सकती हैं:

  • शरीर मैं दर्द
  • स्ट्रेच मार्क्स
  • आपके एरोला का काला पड़ना
  • आपकी त्वचा पर एक लाइन आपके बेली बटन से नीचे की ओर जाती है
  • गहरे रंग की त्वचा के पैच
  • हाथों में झुनझुनी
  • आपके पेट, हथेलियों और पैरों पर खुजली
  • आपकी टांगो, उंगलियों या चेहरे पर सूजन

प्रेगनेंसी की तीसरी तिमाही में, कुछ समान लक्षण जारी रह सकते हैं। आप भी अनुभव कर सकतीं हैं:

अब तो आप जान गयी होगीं कि प्रेगनेंट कैसे होते हैं (pregnant kaise hote hain), गर्भ कैसे ठहरता है व प्रेग्नेंट होने का सही समय क्या होता है? प्रेग्नेंट कैसे किया जाता है, प्रेग्नेंट कैसे होते हैं, गर्भ ठहरने के लिए क्या करें? यदि आप निश्चित नहीं हैं कि आपके लक्षण सामान्य हैं या नहीं, तो अपने डॉक्टर या दाई को बुलाएं या अपने स्थानीय स्वास्थ्य केंद्र पर जाँच के लिए जाएँ।

इसी तरह की अन्य जानकारी हिन्दी में पढ़ने के लिए हमारे एंड्रॉएड ऐप को डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक करें। और आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration