मानसून में फंगल इंफेक्शन के घरेलू उपाय – Fungal Infection During Monsoon In Hindi

मानसून में फंगल इंफेक्शन के घरेलू उपाय - Fungal Infection During Monsoon In Hindi
Written by Jaideep

बारिश के मौसम में फंगल संक्रमण होना सबसे आम बात हैं। यहां जानिए इन्हें रोकने के टिप्स…….बेशक सभी मौसमों की अपनी स्किनकेयर रूटीन होती हैं लेकिन मॉनसून में स्किनकेयर अधिक महत्वपूर्ण हो जाती है। और इसका कारण हमेशा गीला, आर्द्र मौसम है जो समय पर ध्यान नहीं दिए जाने पर कई प्रकार की त्वचा संबंधी समस्याओं को जन्म देता है। त्वचा रोग विशेषज्ञ कहते हैं “फंगल संक्रमण बारिश के मौसम की सबसे आम शिकायतें हैं। अपनी त्वचा को लंबे समय तक गीला न रखें। गुनगुने पानी से स्नान करना और एंटी-फंगल क्रीम, साबुन और पाउडर का उपयोग करना फंगल इंफेक्शन से निपटने में प्रभावी साबित होगा। इनमें से कुछ सामान्य संक्रमण एथलीट फुट, दाद, या गीले नम कपड़ों के कारण होने वाली खुजली हैं। “यहाँ मानसून में फंगल इंफेक्शन से बचाव के कुछ सुझाव दिए गए हैं …

बरसात का मौसम किसे अच्छा नहीं लगता है, हर व्यक्ति बारिश के पानी में भीगना चाहता है। मानसून हमारे चारों ओर हरियाली लाता है इसके अलावा बरसात कई प्रकार के रोग और बिमारियों को भी अपने साथ लाती हैं। मानसून में फंगल इन्फेक्शन होना आम बात है और अधिकांश लोग इस समस्या से परेशान रहते हैं। फंगल संक्रमण (fungal infections) एक आम प्रकार का संक्रमण है। फंगल इंफेक्शन होने का मुख्य कारण नमी का होना होता हैं। बरसात के पानी के कारण हमारे शरीर में नमी बनी रहती है जिसके कारण हमारी स्किन पर फंगल इंफेक्शन हो जाता है। फंगल इंफेक्शन को सामान्यतः सभी लोग दाद के रूप में जानते हैं। आइये विस्तार जाते है कि आप किस प्रकार से मानसून में फंगल इंफेक्शन से बच सकते हैं।

1. फंगल इन्फेक्शन क्या है – What are Fungal Infections in Hindi
2. फंगल इन्फेक्शन के लक्षण – Fungal Infections Symptoms in Hindi
3. फंगल इन्फेक्शन के प्रकार – Types of Fungal Infections in Hindi
4. फंगल इन्फेक्शन के कारण – Causes of Fungal Infections in Hindi
5. मानसून में फंगल इंफेक्शन के घरेलू उपाय – fungal infection Home remedies during monsoon in Hindi
6. मानसून के मौसम में फंगल इन्फेक्शन से बचने के लिए टिप्स – Avoid fungal infections during monsoons in Hindi

फंगल इन्फेक्शन क्या है – What are Fungal Infections in Hindi

फंगल इन्फेक्शन (Fungal Infections) मानव शरीर को प्रभावित करने वाला एक कवक संक्रमण है। यह तब होता है, जब कवक की अधिक मात्रा शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली को कमजोर कर देती है। जिससे कवक से प्रभावित त्वचा में लाला धब्बे, दाद, खुजली और त्वचा में घाव आदि लक्षण दिखाई देने लगते है। हानिकारक कवक ही फंगल संक्रमण (Fungal Infections) का कारण बनते हैं। यदि इस संक्रमण का सही समय पर निदान और उपचार ना किया जाये, तो ये अधिक जोखिम दायक होते है।

(और पढ़ें – फंगल इन्फेक्शन क्या है, कारण, लक्षण, इलाज और घरेलू उपचार)

फंगल इन्फेक्शन के लक्षण – Fungal Infections Symptoms in Hindi

मानसून में होने वाले फंगल इन्फेक्शन (Fungal Infections) के लक्षण निम्न हैं-

  • प्रभावित क्षेत्र पर लाली या छाले पड़ना
  • त्वचा में पपड़ी निकलना
  • संक्रमित क्षेत्र में खुजली या जलन होना
  • योनि के आसपास खुजली और सूजन
  • सफेद दाग आना और अत्यधिक खुजली होना
  • पेशाब करने या संभोग करने के दौरान जलन या दर्द होना
  • त्वचा रूखी हो जाना तथा दरारें पड़ जाना

(और पढ़ें – जांघों के बीच फंगल संक्रमण के लिए घरेलू उपचा)

फंगल इन्फेक्शन के प्रकार – Types of Fungal Infections in Hindi

फंगल संक्रमण के सभी सामान्य प्रकारों में निम्नलिखित स्थितियां शामिल हैं जो कि आपको बरसात के मौसम में हो सकती हैं।

एथलीट फुट – Athlete’s foot

Athlete’s foot (एथलीट फुट) एक सामान्य फंगल संक्रमण (Fungal Infections) है, जिसमें कवक गर्म और नम वातावरण में अपनी वृद्धि करते है। इस प्रकार के संक्रमण को टिनिया पेडीस (Tinea pedis) के नाम से भी जाना जाता है, जो सामान्यतः व्यक्तियों के पैरों को प्रभावित करता है। यह इन्फेक्शन (Fungal Infections) पैर की उंगलियों के होता है।

(और पढ़ें – एथलीट फुट के कारण, लक्षण, बचाव और उपचार)

दाद – Ringworm

दाद (Ringworm) एक फंगल इन्फेक्शन का ही प्रकार है। यह त्वचा संक्रमण जॉक इच (Jock itch) और एथलीट फुट का कारण बनता है। टिनिया कॉर्पोरेट (Tinea corporis) या दाद (ringworm) एक त्वचा संक्रमण है जो मृत ऊतकों जैसे त्वचा, बाल और नाखूनों पर कवक के पाये जाने के कारण होता है।

(और पढ़ें – दाद ठीक करने के असरदार घरेलू उपाय)

यीस्ट इन्फेक्शन – Yeast infection

यीस्ट संक्रमण, कैंडिडा अल्बिकन्स (Candida albicans) नामक यीस्ट के कारण होता है। यह एक सामान्य योनि यीस्ट संक्रमण है। यह संक्रमण योनि में कैंडिडा के बढ़ने से बैक्टीरिया और कुछ यीस्ट (खमीर) के संतुलन में परिवर्तन होने के कारण उत्पन्न होता है, इस स्थिति में खमीर कोशिकाएं आपस में वृद्धि करती हैं। यह संक्रमण योनी में तीव्र खुजली, सूजन और जलन का कारण बनता है। यह संक्रमण कुछ एंटीबायोटिक्स (antibiotics), तनाव और हार्मोन असंतुलन या खराब खाने के कारण हो सकता है।

(और पढ़ें – योनि यीस्ट संक्रमण क्या है)

नाखून कवक – Nail Fungus

नाखून कवक (Nail Fungus) मुख्य रूप से विकृत, भंगुर (टूटने योग्य) और मोटे नाखून के रूप में जाना जाता है। यह हाथ के नाखूनों या पैर के नाखूनों को प्रभावित करने वाला फंगल इन्फेक्शन (Fungal Infections) है। यह इन्फेक्शन सामान्यतः अधिक उम्र के व्यक्तियों या बुजुर्ग व्यक्तियों में आम है।

(और पढ़ें – नाखूनों को ऐसे रखें स्वस्थ और बनायें खूबसूरत)

फंगल इन्फेक्शन के कारण – Causes of Fungal Infections in Hindi

फंगल संक्रमण (Fungal Infections) होने के कई कारण हो सकते हैं। और यह किसी भी मौसम में हो सकता हैं लेकिन बरसात के मौसम में फंगल इन्फेक्शन होने की संभावना अधिक बढ़ जाती हैं। बरसात के मौसम में हवा में नमी रहती है और पानी भी गिरता है जिसके कारण हमारे शरीर पर भी नमी आ जाती हैं। हमारी त्वचा पर यह नमी कवक को जन्म देती हैं। जो कि फंगल इन्फेक्शन का कारण बन जाता हैं। इसके अलावा फंगल संक्रमण (Fungal Infections) एक पर्यावरणीय दशाओं के कारण होने वाला रोग है। अतः इसका मुख्य कारण मिट्टी, हवा और पर्यावरण में मौजूद कवक (fungus) होते हैं। इसलिए कोई भी व्यक्ति इस प्रकार की समस्याओं को ग्रहण कर सकता है।

(और पढ़ें – बारिश के मौसम में फंगल इन्फेक्शन से बचने के टिप्स)

मानसून में फंगल इंफेक्शन के घरेलू उपाय – fungal infection Home remedies during monsoon in Hindi

यदि आप बरसात के मौसम में होने वाले फंगल इन्फेक्शन से बचना चाहते है तो आप निम्न उपायों को अपनाएं-

बरसात में फंगल इन्फेक्शन के लिए एलोवेरा – Aloe Vera for fungal infection during monsoon in Hindi

एलोवेरा मानसून से होने वाले फंगल इन्फेक्शन से बचाने में बहुत ही अच्छा होता है। एलोवेरा के असंख्य औषधीय लाभ हैं, यह त्वचा के साथ-साथ हमारी हेल्थ को भी कई प्रकार की समस्याओं से दूर रखता है। यह आसानी से त्वचा पर होने वाले फंगल इन्फेक्शन के चकत्ते और संक्रमण को ठीक कर सकता है। इसका प्रयोग करने के लिए आप थोड़ा सा ताजा एलोवेरा जेल लें और उसे प्रभावित क्षेत्र लगायें। फिर इसे आधे घंटे के लिए छोड़ दें, उसके बाद आप इसे ठंडे पानी से धो लें। कुछ समय तक आप एलोवेरा प्रयोग करें, यह फंगल इन्फेक्शन से आपको दूर रखने में मदद करेगा।

(और पढ़ें – एलोवेरा के फायदे और नुकसान)

मानसून में फंगल इन्फेक्शन से बचने के लिए नीम – Neem for fungal infection during monsoon in Hindi

बरसात में होने वाले फंगल इन्फेक्शन से बचने के लिए नीम बहुत ही लाभदायक होती हैं। नीम के पत्तों में पाया जाने वाले एंटी-फंगल, एंटी-बैक्टीरियल (anti-bacterial) और एंटी-इंफ्लेमेटरी (anti-inflammatory) गुण आपको मानसून में होने वाले वाले फंगल इन्फेक्शन से दूर रखता हैं। नीम के पत्तों का आयुर्वेद में एंटी-फंगल गुणों के कारण महत्वपूर्ण स्थान है। नीम के पत्ते त्वचा के दाने सहित विभिन्न बीमारियों का इलाज कर सकते हैं। बरसात के कारण होने वाले फंगल इन्फेक्शन से बचने और इसे ठीक करने के लिए आप एक मुठ्ठी नीम के पत्ते लेकर इसे 10 मिनट तक उबाल लें। अब इस नीम के पानी को छानकर नहाने वाले पानी की बाल्टी में मिला लें और इससे स्नान करें। नीम की पत्तियों के रोगाणुरोधी (antimicrobial) गुण त्वचा में मौजूद अशुद्धियों और विषाक्त पदार्थों को दूर करेंगे।

(और पढ़ें – नीम की पत्ती के फायदे और नुकसान)

मानसून में फंगल इंफेक्शन का घरेलू उपाय एप्पल साइडर विनेगर – Apple cider vinegar fungal infection Home remedies during monsoon in Hindi

एप्पल साइडर सिरका एलर्जी सहित त्वचा की कई समस्याओं के लिए एक बहुत अच्छा उपचार है। यदि आप मानसून के मौसम में फंगल इन्फेक्शन से बचना चाहते है तो आपको इसका प्रयोग अवश्य करना चाहिए। इसका फंगल संक्रमण के उपचार के लिए आप पानी के साथ एप्पल साइडर सिरका की एक छोटी मात्रा को पतला करें और इसे कपास की गेंद का उपयोग करके प्रभावित क्षेत्र पर धीरे से लागू करें। इसमें मौजूद शक्तिशाली एंटीसेप्टिक, जीवाणुरोधी और एंटी फंगल गुण हमारी त्वचा पर होने वाले फंगल इन्फेक्शन और त्वचा के लाल दानों को ठीक करने में मदद करते है।

(ओर पढ़ें – एप्पल साइडर विनेगर करेगा स्किन से जुड़ी परेशानियों को दूर)

पानी से होने वाले फंगल इंफेक्शन के लिए कोल्ड कंप्रेस – Cold compress for fungal infections in rainy season in Hindi

यदि आपको बरसात के मौसम में पानी की वजह से होने वाले फंगस इन्फेक्शन के कारण त्वचा पर होने वाले चकत्ते फफोले में विकसित हो जाते हैं, तो आप कोल्ड कंप्रेस अर्थात ठंडी सिकाई की कोशिश करें। यदि आपके पास घर पर कोल्ड कंप्रेस नहीं है, तो आप इसे कुछ ही देर में आसानी से तैयार कर सकते हैं। घर पर कोल्ड कंप्रेस बनाने के लिए आप एक प्लास्टिक की थैली में बर्फ के टुकड़े भर दें और इसके चारों ओर ठंडे पानी में धोया गया एक वॉशक्लॉथ लपेट दें। फिर आप लगभग 10-15 मिनट के बाद फंगल इन्फेक्शन से प्रभावित स्थान पर इस होममेड कोल्ड कंप्रेस को धीरे से थपथपाएं। ध्यान रखें कि आप इसे अपनी त्वचा पर बहुत लंबे समय तक नहीं रखेंगे क्योंकि इससे सुन्नता हो सकती है।

बरसात में फंगल इन्फेक्शन का घरेलू इलाज है दही – Greek yogurt for fungal infection during monsoon in Hindi

दही को प्रोबियोटिक (probiotic) माना जा सकता है क्योंकि इसमें लैक्टोबैसिलस (Lactobacillus) नामक बैक्टीरिया पाया जाता है। जो कि बरसात के मौसम में फंगल इन्फेक्शन से बचाता है। दही शरीर में असंतुलन के कारण उत्पन्न समस्याओं का इलाज करने में मदद कर सकता हैं।

(और पढ़ें – दही खाने से सेहत को होते हैं ये बड़े फायदे )

मानसून में फंगल इन्फेक्शन का घरेलू उपाय है नारियल का तेल – Coconut oil for fungal infection during rainy season in Hindi

नारियल का तेल एक फैटी तेल (fatty oil) है। जिसमें एंटीफंगल गुणों सहित कई स्वास्थ्य लाभ पाए जाते हैं। अध्ययनों से पता चला है कि नारियल का तेल कैंडिडा अल्बिकन्स (Candida albicans) के लिए प्रभावी उपचार है। नारियल के तेल का उपयोग करके बरसात के मौसम में नमी के कारण होने वाले खमीर संक्रमण का इलाज करने में बेहद मदद मिलती है। आप नारियल के तेल को सीधे प्रभावित क्षेत्र में लगा सकते हैं।

(और पढ़ें – नारियल तेल के फायदे, उपयोग और नुकसान)

फंगल संक्रमण के घरेलू उपाय है विटामिन सी – Vitamin C for Fungal Infection Treatment In Hindi

विटामिन सी एक प्रतिरक्षा प्रणाली में सुधार कर सकता है। एक मजबूत प्रतिरक्षा प्रणाली शरीर को संतुलन करने में महत्वपूर्ण योगदान निभाती है। विटामिन सी में एंटीमिक्राबियल (antimicrobial) घटक होते हैं, जो फंगल संक्रमण के इलाज में अपना योगदान देते है। आप बरसात के मौसम में विटामिन सी युक्त खाद्य पदार्थों का सेवन करें।

(और पढ़ें – विटामिन सी की कमी दूर करने के लिए ये खाद्य पदार्थ)

मानसून के मौसम में फंगल इन्फेक्शन से बचने के लिए टिप्स – Avoid fungal infections during monsoons in Hindi

त्वचा को साफ करें: त्वचा को दिन में तीन से चार बार नॉन-सोप फेस वॉश से साफ करना चाहिए। यह त्वचा के छिद्रों से अत्यधिक तेल और गंदगी को साफ करने और सांस लेने में मदद करता है।

त्वचा की टोनिंग आवश्यक है: त्वचा के पीएच संतुलन को बनाए रखने के लिए दिन में दो बार त्वचा को टोन करने के लिए गैर-अल्कोहल त्वचा टोनर का उपयोग किया जाना चाहिए। टोनिंग त्वचा को पुनर्जीवित करता है और इसे एक निर्मल चमक देता है।

शुष्क त्वचा को मॉइस्चराइज्ड रखना: यदि आपकी त्वचा सूखी दिखती है, तो एक अच्छे मॉइस्चराइज़र का उपयोग करें। बिस्तर पर जाने से पहले गुलाब जल, ग्लिसरीन या बादाम का तेल लगाने से लाभ होता है और त्वचा कोमल और स्वस्थ रहती है।

तैलीय त्वचा को साफ रखें: यदि आपकी त्वचा तैलीय है और आपके पास व्हाइटहेड्स या ब्लैकहेड्स हैं, तो पानी आधारित मॉइस्चराइज़र, क्लीन्ज़र का उपयोग करके और साइट्रस फेस पैक लगाकर त्वचा से तेल स्राव को कम करने का प्रयास करें। बहुत सारा पानी पीने से तेल उत्पादन को कम करने में भी मदद मिलती है।

अपनी त्वचा को ढालें: सिर्फ इसलिए कि यह मौसम बादलदार है, इसका मतलब यह नहीं है कि आपकी त्वचा धूप से सुरक्षित है। आपकी त्वचा को सूरज की हानिकारक यूवी किरणों से बचाना बेहद ज़रूरी है, इसलिए हमेशा उच्च एसपीएफ कारक वाले अच्छे सनस्क्रीन का इस्तेमाल करें। स्किन पर एक अच्छे मॉइस्चराइज़र का उपयोग करें।

डेड स्किन हटाने के लिए एक्सफोलिएशन: मृत त्वचा कोशिकाओं को दैनिक रूप से हटा दिया जाना चाहिए। उन मृत कोशिकाओं से छुटकारा पाने के लिए और अपनी त्वचा को चमकदार बनाने के लिए एक अच्छे स्किन स्क्रब का उपयोग करें।

पर्याप्त पानी पियें: त्वचा के जलयोजन को बनाए रखने के लिए कम से कम सात से आठ गिलास पानी पिएं, क्योंकि पसीने के कारण त्वचा बहुत पानी खो देती है।

बालों को बार-बार धोएं: बालों को बार-बार धोएं जो आप आमतौर पर मानसून में करते हैं क्योंकि सभी नमी और पसीने से यह जल्दी गंदा हो जाता है और इससे धूल और प्रदूषण फैलता है। क्योंकि सिर नमी और पसीने से यह जल्दी गंदा हो जाता है जो कि फंगल इन्फेक्शन का कारण है।

आर्टिफिशियल ज्वेलरी से बचें: जिन लोगों की त्वचा बहुत संवेदनशील होती है, उनके लिए पूरी तरह से भारी ज्वैलरी पहनने से बचना सबसे अच्छा होता है। जब यह किसी भी नमी के संपर्क में आता है तो नमी आपकी त्वचा को तोड़ सकती है। इसलिए अपनी गर्दन और कलाई के आसपास के आर्टिफिशियल ज्वेलरी और गहनों को पहनने  से बचें और अपनी त्वचा को सांस लेने दें।

त्वचा को शुष्क रखें: बरसात में अपने त्वचा को शुष्क रखें। यदि आपकी त्वचा पर नमी नहीं रहेगी तो फंगल इन्फेक्शन होने का खतरा कम हो जाता हैं।

एक बोनस टिप: रासायनिक छिलके एक चमकदार त्वचा को तरोताजा करने का एक शानदार तरीका है। कई प्रकार के छिलके उपलब्ध हैं – संवेदनशील त्वचा के लिए छिलके, आंखों के नीचे के काले घेरे के लिए आर्गिनिन के छिलके आदि, बेशक, ये सभी बाहरी प्रयास व्यर्थ होंगे यदि आप अंदर से स्वस्थ नहीं हैं। इसलिए सब्जियां और फल खाएं और सुनिश्चित करें कि आपको पर्याप्त आराम मिले और अपेक्षाकृत तनाव मुक्त रहें।

आप इस मानसून में फंगल संक्रमण से सुरक्षित रहें और सभी आवश्यक सावधानियों के साथ इस बारिश के मौसम का आनंद लें।

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration