कोरोना के खिलाफ लड़ाई में अपने इम्युनिटी को बढ़ाने के लिए उठाये ये जरूरी कदम - Boosting your immune system to fight the coronavirus in Hindi - Healthunbox
हेल्थ टिप्स

कोरोना के खिलाफ लड़ाई में अपने इम्युनिटी को बढ़ाने के लिए उठाये ये जरूरी कदम – Boosting your immune system to fight the coronavirus in Hindi

कोरोना के खिलाफ लड़ाई में अपने इम्युनिटी को बढ़ाने के लिए उठाये ये जरूरी कदम - Boosting your immune system to fight the coronavirus in Hindi

जब पूरी दुनिया कोरोना के खिलाफ एकजुट होकर लड़ रही है, तो यह महत्वपूर्ण है कि हम भी एक जिम्मेदार नागरिक बनकर अपनी प्रतिक्रिया दें। इस लड़ाई में सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि अपनी रोग प्रतिरोधक क्षमता को मजबूत करना है क्योंकि यह वायरस कमजोर इम्युनिटी वाले लोगों पर जल्दी प्रभाव डालता है। इसलिए आज हम आपके साथ कुछ विशेष टिप्स साझा करने जा रहे हैं, जिनका पालन करके आप अपनी इम्युनिटी भी बढ़ा सकते हैं और कोरोना के खिलाफ लड़ सकते हैं, तो देरी किस बात की, आइए जानते हैं इसके बारे में।

व्यायाम करें

हमारा वातावरण हमें कई बीमारियों की चपेट में ले सकता है। हमें हर दिन कुछ न कुछ शारीरिक गतिविधि करते रहना चाहिए। नियमित व्यायाम आपको प्र रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने में मदद कर सकता है। शोध बताते हैं कि शारीरिक गतिविधियां प्रतिरक्षा प्रणाली की कोशिकाओं और एंटीबॉडी के उत्पादन को बढ़ावा देती हैं। इसका मतलब यह नहीं हो सकता है कि यदि आप 60 वर्ष से अधिक उम्र के हैं, तो आपको जिम जाना चाहिए, लेकिन घर पर तेज चलना शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली और मांसपेशियों की ताकत को बनाए रखने में मदद कर सकता है। अगर आप इम्युनिटी को बढ़ाना चाहते हैं, भले ही आप बहुत व्यस्त हों, तो सुबह में 15-20 मिनट घर पर की जाने वाली एक्सरसाइज करें। व्यायाम करने से ब्लड प्रेशर कंट्रोल में रहने के साथ-साथ वजन नहीं बढ़ता है और शरीर की बीमारियों से लड़ने की ताकत भी बढ़ रही है।

शराब और स्मोकिंग को कहें न

स्मोकिंग और शराब आज एक चलन बन गया है। केवल पुरुष ही नहीं, बल्कि महिलाएं भी सिगरेट पीने में पीछे नहीं हैं। यह उनके स्वास्थ्य के लिए घातक साबित हो रहा है। संतान न होने की बढ़ती समस्या का सबसे बड़ा कारण यही है। स्मोकिंग और शराब से कई तरह के कैंसर होने का खतरा भी बढ़ जाता है। इसलिये। शराब से दूरी बनाएं, शराब पीना आजकल आम हो गया है। पीने वाले इसे अपना गौरव मान सकते हैं, लेकिन यह लीवर को नुकसान पहुंचा रहा है। इसलिए अगर आप जीना चाहते हैं, तो तुरंत शराब पीना छोड़ दें।

ड्राईफ्रूट्स भी फायदेमंद हैं

कुछ लोग इन्हें इसलिए नहीं खाते हैं ताकि वे ज्यादा मोटे न हो जाएं। वास्तव में, यह उनके मन का भ्रम है, इसके बिपरीत ड्राईफ्रूट्स में मोजूद विटामिन, खनिज, फाइबर, आदि की उच्च मात्रा के कारण ये आपकी रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाते हैं।

प्रोबायोटिक्स लें

हमारे शरीर में गुड और बैड, दोनों ही बैक्टीरिया हैं। जब शरीर में खराब बैक्टीरिया बढ़ते हैं, तो हम बहुत जल्दी बीमार होने लगते हैं। इसलिए दही को अपने भोजन का हिस्सा बनाएं। इससे आपकी इम्युनिटी पॉवर बढ़ेगी।

अच्छी नींद लें

विभिन्न चिकित्सा अध्ययनों से पता चला है कि जो लोग पर्याप्त नींद नहीं लेते हैं, वे स्वास्थ्य जोखिमों से अधिक प्रभावित होते हैं, जो कम से कम 7-8 घंटे की नींद भी नहीं लेते हैं। नींद की खराब गुणवत्ता भी युवा और स्वस्थ लोगों में प्रतिरक्षा कम कर सकती है। पूरी नींद शरीर की आत्म-मरम्मत और सूजन और संक्रमण से लड़ने के लिए महत्वपूर्ण है। इसलिए इम्युनिटी पॉवर बढ़ाने के लिए 7-8 घंटे की नींद लेना बहुत जरुरी है।

पानी और हरी सब्जियां

रोग प्रतिरोधक क्षमता पानी और हरी सब्जियां फायदेमंद होती हैं, पानी शरीर से विषाक्त पदार्थों को निकालने का काम करता है, और सब्जियों में भरपूर मात्रा में कैल्शियम, फाइबर, विटामिन मौजूद होते हैं, जो न केवल शरीर के काम करने की शक्ति को बढ़ाते हैं, बल्कि बीमारियों से लड़ने की शक्ति भी बढ़ाते हैं।

जिंक, आयरन, कॉपर, फोलिक एसिड, विटामिन ए, विटामिन बी और विटामिन सी, ये सभी आपके इम्यून सिस्टम को चरम पर रखने में महत्वपूर्ण हैं। एक अच्छा पौष्टिक आहार या पूरक आहार यह सुनिश्चित करेगा कि शरीर को वह सब मिल जाए जो किसी भी संक्रमण या बीमारी को दूर करने के लिए आवश्यक एंटीबॉडी और प्रतिरक्षा बनाता है।

तनाव को कम करें

हालांकि तनाव और प्रतिरक्षा प्रणाली के बीच कोई सीधा संबंध नहीं है, तनाव और आपके महत्वपूर्ण शारीरिक कार्यों के बीच संबंध हैं। समय के साथ, तनाव शरीर की प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया को कम कर देता है और हृदय संबंधी बीमारियों और मनोवैज्ञानिक मुद्दों जैसे प्रमुख स्वास्थ्य चिंताओं को बढ़ा सकता है। रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए तनाव को प्रबंधित करना और इसे नीचे रखना बहुत महत्वपूर्ण है, खासकर 21 वीं सदी में, जहां जीवनशैली खुद काफी तनाव-उत्प्रेरण है। इसलिए इसे कम करने के लिए तनाव से लड़ने के मजेदार तरीके खोजें।

स्वच्छता बनाए रखें

खाने से पहले और बाद में, अपने हाथों को साबुन और पानी से धोना, खाना बनाना, शौचालय का उपयोग करना, सफाई करना और किसी ऐसे व्यक्ति की देखभाल करना जो खुद संक्रमित हो तब भी आपको अपने हाथों को साबुन और पानी से धोना चाहिए। बुजुर्गों के लिए यह और भी महत्वपूर्ण है क्योंकि वे युवा लोगों की तुलना में संदिग्ध होने की अधिक संभावना रखते हैं। यदि साबुन और पानी नहीं है, तो एक सैनिटाइज़र का उपयोग करें।

इस उपाय को अपनाकर आप अपनी रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ा सकते हैं और स्वस्थ रह सकते हैं।

इम्युनिटी को बढ़ाने के लिए टिप्स

  • एक स्वस्थ जीवन शैली का पालन करें: यानी समय पर सोएं और समय पर जागें।
  • पर्याप्त नींद लें: देर रात तक जागने से लोगों की रोगों से लड़ने की क्षमता कम हो जाती है।
  • पौष्टिक भोजन खाएं: इस तरह से खाद्य पदार्थ चुनें जिससे शरीर को सभी प्रकार के प्रोटीन और विटामिन मिलें।
  • अगर आपके आसपास कोरोना वायरस जैसी बीमारी फैल रही है, तो फलों और हरी सब्जियों का सेवन बढ़ा दें। वर्तमान सीज़न में, विटामिन सी युक्त संतरे जैसे फलों का सेवन कोरोना वायरस के खिलाफ लड़ाई में महत्वपूर्ण माना जाता है।
  • सुबह अच्छा नाश्ता करें। दोपहर के भोजन में दही का प्रयोग करें। रात का खाना कम रखें। सोने से कम से कम दो घंटे पहले खाना खाएं। खाना खाने के तुरंत बाद न सोएं।
  • योग और प्राणायाम को अपने जीवन का हिस्सा बनाएं। यह सभी उम्र के लोगों पर लागू होता है। कोरोना वायरस कमजोर फेफड़ों पर हमला करता है। इसलिए, योग और प्राणायाम करें जो फेफड़ों को मजबूत बनाते हैं।

दुनिया भर में तेजी से फैल रही इस बीमारी से निपटने के लिए कई महत्वपूर्ण सावधानियां बरतने की कोशिश की जा रही है, लेकिन विशेषज्ञों का मानना है कि कमजोर प्रतिरक्षा वाले लोगों को अधिक सावधान रहने की जरूरत है। कोरोनावायरस उन लोगों को अधिक प्रभावित कर रहा है जिनकी इम्युनिटी कमजोर है। वृद्धावस्था एक प्राकृतिक प्रक्रिया है जिसमें विभिन्न अवस्थाएँ होती हैं। उम्र बढ़ने से प्रतिरक्षा प्रणाली सबसे अधिक प्रभावित होती है। कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली संक्रमण वायरस से लड़ने वाली कम प्रतिरक्षा कोशिकाओं का उत्पादन करता है। वृद्ध लोगों में युवा वयस्कों की तुलना में लगभग दो से तीन गुना तीव्र संक्रमण दर होती है। विशेषज्ञों का मानना है कि कई कारक आपकी प्रतिरक्षा को प्रभावित करते हैं। यदि आपकी प्रतिरक्षा कमजोर है, तो वायरस, फ्लू आसानी से आपके शरीर में प्रवेश कर सकते हैं। क्योंकि आपका शरीर उनसे लड़ने के लिए कम प्रतिरोधी है। इस मामले में आपको इस लेख में बताये गए उपायों को करना है ताकि प्रतिरक्षा को आसानी से बढ़ाया जा सके।

और पढ़े – 

इसी तरह की अन्य जानकारी हिन्दी में पढ़ने के लिए हमारे एंड्रॉएड ऐप को डाउनलोड करें। और आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं।

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration