अशोक के पेड़ के फायदे और नुकसान – Health benefits and side effects of Ashoka Tree in Hindi

अशोक के पेड़ के फायदे और नुकसान - Health benefits and side effects of Ashoka Tree in Hindi
Written by Anamika

Ashoka Tree in Hindi अशोक मुख्य रूप से वर्षा वाले वनों को पेड़ है और यह सुस्वादित पत्तों और सुंदर नारंगी-पीले फूलों से भरा होता है। फूल के गुच्छे भारी औऱ सुगंधित होते हैं। अशोक का पेट आमतौर पर हिमालय की तलहटी में ज्यादा पाया जाता है। अशोक का पेड़ महिलाओं के लिए वरदान माना जाता है। क्योंकि यह स्त्रियों की कई सारी समस्याओं एवं बीमारियों को ठीक करता है और उन्हें जवान बनाए रखने में भी मदद करता है। स्त्रियों के शरीर में होने वाले दर्द को यह दूर करने में लाभकारी होता है और उन्हें स्वस्थ रखने में सहायक होता है। इस आर्टिकल में हम आपको अशोक के पेड़ के फायदे (Benefits of Ashoka Tree in Hindi) और अशोक के पेड़ के नुकसान (Side Effects of Ashoka Tree in hindi) के विषय में बताएंगे।

1. अशोक पेड़ के फायदे – Ashok ped ke fayde in Hindi
2. अशोक पेड़ के नुकसान – Ashok ped ke nuksan in hindi

Ashoka Tree अशोक के पेड़ में बहुत सारे औषधीय गुण मौजूद होते हैं और इसके तने पत्ते और फूलों को कई जगहों पर लोग सुखाकर अपने घरों में रखते है अशोक के पेड़ के बीज फूल और छालों का उपयोग टोनिक और कैप्सूल बनाने में किया जाता है और भारत में कई तरह की बीमारियों को ठीक करने के लिए अशोक के पेड़ का उपयोग किया जाता है।

अशोक के पेड़ के फायदे – Ashok ke fayde in Hindi

अशोक के पेड़ के फायदे स्त्री रोगों में – Ashoka Tree for Gynecological Problems in Hindi

स्त्री रोगों से जुड़ी समस्याओं के इलाज के लिए अशोक का पेड़ बहुत ही उपयोगी माना जाता है। यह स्त्रियों में मासिक धर्म से जुड़ी परेशानियों को दूर करने में मदद करता है। यह जड़ी-बूटी के रूप में गर्भाशय की मांसपेशियों एवं एंडोमेट्रियम के लिए टॉनिक का काम करता है और आंत एवं पेट दर्द को नियंत्रित करने का काम करता है। इसके अलावा यह मासिक चक्र (menstruation cycle) को ठीक रखता है और मासिक धर्म की अनियमितता को खत्म करता है। यह ल्यूकोरिया और अल्सर की समस्या को भी खत्म करने में फायदेमंद होता है।

(और पढ़े – पीरियड्स की जानकारी और अनियमित पीरियड्स के लिए योग और घरेलू उपचार)

स्किन का रंग साफ करने में अशोक का पेड़ फायदेमंद – Ashoka Tree bark for Skin Complexion in Hindi

अशोक का पेड प्राकृतिक रूप से त्वचा के रंग को बेहतर करने के लिए उपयोग किया जाता है। यह खून को प्यूरिफाई करता है और त्वचा के एलर्जी से बचाता है। यह विषाक्त पदार्थों को दूर कर त्वचा के रंग (Skin Complexion) को साफ करने में मदद करता है। अशोक के पेड़ के छाल का अर्क त्वचा के जलन को दूर करने में बहुत लाभप्रद माना जाता है।

दर्द निवारक के रूप में अशोक का पेड़ लाभप्रद – Ashoka Tree Properties for Pain Relief in Hindi

अशोक के पेड़ में कई तरह के दर्द निवारक गुण पाये जाते हैं और यह सुरक्षित रूप से एनाल्जेसिक के रूप में इस्तेमाल किया जाता है। अशोक के पेड़ का छाल उतारकर और उसका महीन पेस्ट बनाकर लगाने से घुटनों एवं पैरों के दर्द से छुटकारा मिल जाता है।

(और पढ़े – हाथ और पैरों के तलवों में जलन से निजात पाने के लिए असरदार घरेलु उपाय)

अशोक के पेड़ के फायदे अंदरूनी रक्तस्राव दूर करने में – Ashoka Tree reduces Internal Bleeding in Hindi

आंतरिक रक्तस्राव के इलाज के लिए अशोक का पेड़ काफी प्रभावी रूप से कार्य करता है। अशोक के फूल का इस्तेमाल पेचिश के इलाज में किया जाता है। अशोक के फूल को पीसकर इसमें थोड़ा सा पानी मिलाकर पीने से पेचिश एवं पेट की अन्य समस्या सहित मल में खून आने की समस्या भी पूरी तरह दूर हो जाती है।

मधुमेह में अशोक के फूल के फायदे – Ashoka tree flower benefits for Diabetes in Hindi

इसके कई बड़े फायदों में एक फायदा यह भी है कि अशोक के सूखे फूलों (dry flowers of Ashoka tree) का इस्तेमाल करने से डायबिटीज को दूर करने में फायदा मिलता है। इसके फूलों की बनी टॉनिक या रेगुलर सूखे फूलों को सेवन करने से मधुमेह रोगियों को इस रोग से राहत मिलती है।

बवासीर दूर करने में अशोक का पेड़ फायदेमंद – Ashok ki chaal ke fayde for Piles in Hindi

आपको बता दें कि अशोक के पेड़ का उपयोग बवासीर में भी किया जाता है। इसके पेड़ का अर्क अंदरूनी बवासीर और बवासीर में खून आने की समस्या को दूर कर देता है। इसकी जड़ी बूटियों से तैयार सप्लिमेंट बाजारों में भी बिकते हैं, इन जड़ी बूटियों से काढ़ा बनाकर पीने से भी बवासीर में बहुत राहत मिलती है।

(और पढ़े – बवासीर का सफल घरलू इलाज़)

इंफेक्शन दूर करने में अशोक का पेड़ उपयोगी – Ashoka tree benefits for Infections in Hindi

कवकों एवं जीवाणुओं के इंफेक्शन को दूर करने में अशोक के पेड़ की छाल बहुत ही लाभदायक होती है। इसके छाल में बहुत सारे गुण पाये जाते हैं। यह शरीर को प्यूरीफाई करने का काम करता है और शरीर के संक्रमण को भी दूर करता है।

पेट की कृमि दूर करने में अशोक का पेड़ फायदेमंद – Ashok tree for Worms in Hindi

कृमि के संक्रमण को दूर करने में भी अशोक के पेड़ का इस्तेमाल किया जाता है। अशोक के पेड़ की पत्तियों और छालों को खाने से पेट में मौजूद कृमि मरकर पेट से बाहर निकल आते हैं। इसके साथ ही यह पेट के दर्द और सूजन को भी कम करने में मदद करता है।

अशोक का पेड़ डायरिया दूर करने में – Ashoka tree is good for Diarrhea in Hindi

बिना किसी तरह का नुकसान पहुंचाए हुए अशोक का पेड़ दस्त (diarrhea) को दूर करने में बहुत ही लाभकारी होता है। अशोक के पेड़ की पत्तियां, फूल और छाल टॉनिक का काम करते हैं और डायरिया से निजात दिलाने में मदद करते हैं। यह खून को प्यूरिफाई करके शरीर की क्रिया को बेहतर बनाते हैं।

(और पढ़े – दस्त ठीक करने के घरेलू उपाय)

किडनी का स्टोन दूर करने में अशोक के पेड़ के फायदे – Ashoka tree reduces Kidney Stones in Hindi

अशोक के बीज का पावडर गुर्दे की पथरी (kidney stone) को प्राकृतिक रूप से ठीक करने में मदद करता है। इस पावडर को पानी के साथ नियमित रूप से लेने पर यह पेट में पथरी से होने वाले भयंकर दर्द को कम करता है। अशोक के पेड़ (ashoka tree)में शरीर की तमाम बीमारियों को दूर करने के गुण मौजूद होते हैं। इसलिए लोग अशोक के पेड़ को अधिक महत्व देते हैं।

अशोक के पेड़ के नुकसान – Side-Effects of Ashoka Tree in hindi

Ashoka treeअशोक का पेड़ बीमारियों को दूर करने के गुण के लिए जाना जाता है। इसके बावजूद भी इसके इस्तेमाल से कुछ नुकसान हो सकता है। आइये जानते हैं कि आखिर अशोक का पेड़ हमें किस तरह नुकसान (Ashoka tree side effects) पहुंचा सकता है।

प्रेगनेंट महिलाओं को अशोक के पेड़ का सेवन नहीं करना चाहिए अन्यथा महिला को गर्भपात हो सकता है।

हृदय विकारों से पीड़ित मरीजों को भी अशोक के पेड़ का इस्तेमाल करने से परहेज करना चाहिए अन्यथा उनकी समस्या बढ़ सकती है।

अमेनहोरिया (amenhorrhea) से ग्रसित महिलाओं को भी अशोक के पेड़ का उपयोग नहीं करना चाहिए।

इस आर्टिकल में आपने जाना अशोक के पेड़ के फायदे (Benefits of Ashoka Tree in Hindi) और अशोक के पेड़ के नुकसान (Side Effects of Ashoka Tree in hindi) के बारें में।

Leave a Comment

1 Comment

Subscribe for daily wellness inspiration