एब्डोमिनल बेल्ट डिलीवरी के बाद पेट को कम करने के लिए – Benefits of Abdominal Belt after delivery in Hindi

डिलीवरी के बाद पेट को कम करने के लिए एब्डोमिनल बेल्ट का इस्तेमाल - Benefits of Abdominal Belt after delivery in Hindi
Written by Pratistha

Abdominal Belt in hindi एब्डोमिनल बेल्ट के फायदे डिलीवरी के बाद पेट को कम करने के लिए बहुत ही लोकप्रीय है गर्भावस्था के दौरान महिलाओं के शरीर में बहुत से परिवर्तन होते हैं। हार्मोन्स के बदलाव के कारण महिलाओं का वजन बढ़ने, बालों के झड़ने, त्वचा पर मुंहासे होने जैसी कई समस्याएं पैदा हो जाती है। शिशु को जन्म देने के बाद बढ़े हुए पेट और वजन को कम करना महिलाओं की पहली प्राथमिकता होती है। गर्भावस्था के दौरान महिलाओं के शरीर में सबसे ज्यादा चर्बी पेट पर जमा हो जाती है जिससे बढ़े हुए पेट को कम करने के लिए महिलाओं को काफी मेहनत करनी पड़ती है।

लेकिन गर्भावस्था के बाद महिलाओं को स्तनपान भी करवाना पड़ता है इसलिए हैवी वर्कआउट करने के लिए महिलाओं के शरीर में इतनी अधिक ऊर्जा नहीं बचती है। पेट की चर्बी को कम करने के लिए महिलाएं कुछ अन्य उपायों का इस्तेमाल भी कर सकती हैं जिनमें एब्डोमिनल बेल्ट का इस्तेमाल करना सबसे ज्यादा लाभकारी और लोकप्रिय माना जाता है। एब्डोमिनल बेल्ट एक सामान्य बेल्ट होता है जो कि वजन कम करने के लिए उपयोगी होता है। इस आर्टिकल में हम एब्डोमिनल बेल्ट के इस्तेमाल के फायदे के बारे में विस्तार से बताने जा रहे हैं। आइए जानते हैं Abdominal Belt के इस्तेमाल से जुड़ी कुछ बातें।

1. एब्डोमिनल बेल्ट का इस्तेमाल कैसे करें – How to Use Abdominal Belt in Hindi
2. डिलीवरी के बाद पेट कम करने के एब्डोमिनल बेल्ट के फायदे-  Benefits Abdominal Belt for Weight Loss in Hindi
3. डिलीवरी के बाद मोटापा कम करने के लिए एब्डोमिनल बेल्ट के प्रकार- Types of Abdominal Belt for Weight Loss in Hindi

4. पेट कम करने के अलावा एब्डोमिनल बेल्ट के अन्य फायदे – Other Benefits of Abdominal Belt in Hindi

एब्डोमिनल बेल्ट का इस्तेमाल कैसे करें – How to Use Abdominal Belt in Hindi

डिलीवरी के बाद पेट को कम करने के लिए एब्डोमिनल बेल्ट का इस्तेमाल करना काफी आसान होता है। इसका इस्तेमाल करने के लिए इसे पेट के चारों और बेल्ट को बांध लें और निम्न स्टेप को फोलो करें।

Step-1- बिल्कुल सीधा खड़ा हो जाएं और कमर सीधी कर लें।

Step-2 – इस बेल्ट को बहुत ज्यादा ढ़ीला ना बांधे और सांस लेना मुश्किल हो जाए इतना कसकर भी नहीं बांधना चाहिए। इसे आराम से बांधें ताकि आप आराम से सांस ले पाएं।

Step-3 – एब्डोमिनल बेल्ट त्वचा के सीधे संपर्क में होना चाहिए यानि आपने जो भी कपड़े पहने हैं उन पर बेल्ट बांधने की बजाय सीधे पेट पर इस बेल्ट को बांधना चाहिए।

Step-4 – इन तीन चरणों के अनुसार एब्डोमिनल बेल्ट को पेट पर बांधें और इसे अपने कंफर्ट के हिसाब से उसे कसे या ढ़ीला करें और एक निश्चित समय तक बेल्ट को पेट पर बांधे रखना चाहिए।

सिजेरियन के बाद पेट कम करने के लिए एब्डोमिनल बेल्ट के फायदे-  Benefits Abdominal Belt for Weight Loss in Hindi

एब्डोमिन एरिया के पास फैट तेजी से जमा होता है। Abdominal Belt तेजी से वजन कम करने में मदद करता है। इसके लिए आपको किसी भी तरह की अतिरिक्त मेहनत नहीं करनी पड़ती और बल्कि रोजाना बेल्ट बांधने से आपको एब्डोमिन एरिया पर पर्याप्त मात्रा में पसीना आता है। यह बेल्ट एब्डोमिन एरिया को कंप्रेस कर देता है यानि कि पेट और उसके निचले हिस्से पर दबाव डालता है जिससे पेट की मसल्स कंप्रेस हो जाती है जिससे यह आपका वजन कम करने के साथ-साथ पेट की मसल्स को भी टोन करता है।

(और पढ़े – जल्दी वजन घटाना चाहते हैं तो करें जुंबा डांस)

प्रसव के बाद पेट कम करने के लिए एब्डोमिनल बेल्ट के प्रकार- Types of Abdominal Belt for Weight Loss in Hindi

  1. सिंपल एब्डोमिन बेल्ट – Simple Abdominal Belts for Weight Loss in Hindi
  2. इलेक्ट्रिक एब्डोमिन बेल्ट – Electric Stimulating Abdominal Belts for Weight Loss in Hindi

1) सिंपल एब्डोमिनल बेल्ट – Simple Abdominal Belts for Weight Loss in Hindi

यह एब्डोमिन बेल्ट डिलीवरी के बाद महिलाओं को पेट पर बांधना होता है जो कि पेट की मसल्स पर दबाव बनाता है जिससे ज्यादा पसीना आता है और पेट की मसल्स को टोन बनाने में भी उपयोगी होता है।

(और पढ़े – इस टिप्स से कुछ ही सप्ताह में बनेंगी ज़बरदस्त मसल्स)

2) इलेक्ट्रिक एब्डोमिनल बेल्ट – Electric Stimulating Abdominal Belts for Weight Loss in Hindi

ये नॉन- इलेक्ट्रोनिक एब्डोमिनल बेल्ट की तुलना में अधिक तेजी से काम करते हैं। इन बेल्ट्स में इलेक्ट्रिक पैड्स होते हैं जो कि आवेगों को भेजते हैं और जिससे मांसपेशियां बंध जाती है और बेल्ट से पैदा गर्मी मेटाबॉलिक रेट को बढ़ा देती है जिससे से तेजी से कैलोरी बर्न होती है। इलेक्ट्रिकल एब्डोमिनल बेल्ट के साथ एक कंट्रोलर भी आता है जो कि इंपल्स लेवल को कम कर सकता है और बढ़ा भी सकता है।

पेट कम करने के अलावा एब्डोमिनल बेल्ट के अन्य फायदे – Other Benefits of Abdominal Belt in Hindi

  1. एब्डोमिनल बेल्ट के फायदे शारीरिक समस्याओं को दूर करता है- Abdominal Belt Prevents Health Problems in Hindi
  2. एब्डोमिनल बेल्ट के फायदे महिलाओं के लिए लाभकारी- Abdominal Belt Beneficial For Women in Hindi
  3. मुद्रा सुधार में एब्डोमिनल बेल्ट के फायदे – Abdominal Belt Helps in Improves Posture in Hindi

पेट कम करने के अलावा एब्डोमिनल बेल्ट के अन्य फायदे - Other Benefits of Abdominal Belt in Hindi

वजन कम करने और मोटापा घटाने के लिए एब्डोमिन बेल्ट का इस्तेमाल करने के अलावा यह अन्य कई तरीकों से फायदेमंद होता है। आइए जानते हैं Abdominal Belt के अन्य फायदों के बारे में।

एब्डोमिनल बेल्ट के फायदे शारीरिक समस्याओं को दूर करता है- Abdominal Belt Prevents Health Problems in Hindi

मोटापे के साथ-साथ कई सारी समस्याएं आती है। बहुत ज्यादा मोटा होने से शरीर में अलग-अलग प्रकार जैसे दिल की समस्या, ब्लड प्रेशर और डायबिटीज आदि कई परेशानियां पैदा हो जाती है। इसलिए शारीरिक समस्याओं को दूर करने के लिए भी एब्डोमिन बेल्ट का इस्तेमाल करना लाभकारी होता है।

एब्डोमिनल बेल्ट के फायदे महिलाओं के लिए लाभकारी- Abdominal Belt Beneficial For Women in Hindi

शिशु के जन्म के बाद महिलाओं को शिशु और खुद को स्वस्थ रखने के लिए अच्छी डाइट का सेवन करना जरुरी होती है। अगर पोषक तत्वों का सेवन नहीं करती हैं तो इससे स्तनपान करवाने संबंधी समस्याओं से लेकर कुपोषण तक की परेशानी पैदा हो सकती है। यह बेल्ट पेट की चर्बी को कम करने के लिए लाभकारी तो होता है साथ ही महिलाओं को अपने खान-पान में कटौती नहीं करनी पड़ती इसलिए वजन कम करने के लिए Abdominal Belt का उपयोग फायदेमंद होता है।

(और पढ़े – पेट की चर्बी को कम करने के घरलू उपाय )

मुद्रा सुधार में एब्डोमिनल बेल्ट के फायदे – Abdominal Belt Helps in Improves Posture in Hindi

एब्डोमिनल बेल्ट मुद्रा को सुधारने में मदद करता है। यह न्यूरोप्रीन मेटीरियल से बना होता है जो कि नरम, ठोस और टिकाऊ होता है। इस बेल्ट को पहनकर आपको कमर सीधी करके बैठना पड़ता है जिससे आपकी मुद्रा में सुधार होता है। एक सही मुद्रा कमर और गर्दन का दर्द कम करने में मदद करती है।

(और पढ़े – फिट रहने के लिए प्लैंक एक्सरसाइज जानें फायदे और सावधानियाँ)

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration