जीभ पर छाले होने का कारण, लक्षण और घरेलू उपचार – Tongue ulcer causes, symptoms and home treatment in Hindi




जीभ पर छाले होने का कारण, लक्षण और घरेलू उपचार - Tongue ulcer causes, symptoms and home treatment in Hindi
Written by Daivansh

Tongue ulcer in Hindi जीभ हमारे शरीर का एक अतिसंवेदनशील (susceptible) हिस्सा होती है। लेकिन आमतौर पर इसकी अधिक देखभाल नहीं की जाती है। जब जीभ के दांतों से कटने, चोट लगने या अन्य विभिन्न कारणों से जीभ पर छोटे-छोटे घाव जैसे छाले उभर आते हैं तो इसे जीभ का अल्सर कहा जाता है। ये छाले जीभ के अलावा मुंह को भी प्रभावित करते हैं। जीभ पर छाले हो जाने से व्यक्ति को सबसे अधिक कुछ खाने-पीने में असुविधा (discomfort) होती है। इस दौरान मसालेदार खाद्य सामग्री खाने से जीभ की बेचैनी और जलन अधिक बढ़ जाती है। जीभ के छाले बहुत आसानी से ठीक नहीं होते हैं और इन्हें ठीक होने में चार से पांच दिन या इससे भी अधिक समय लग सकता है। इस लेख में आप जानेंगे जीभ पर छाले होने का कारण, लक्षण और जीभ पर छाले के लिए घरेलू उपचार – Tongue ulcer causes, symptoms and home treatment in Hindi के बारे में।

1. जीभ के छाले के कारण – Tongue ulcer causes in Hindi
2. जीभ पर छाले होने के लक्षण – Symptoms of Tongue ulcer in Hindi
3. जीभ के छालों का घरेलू उपचार और इलाज – Tongue ulcer home treatment in Hindi

जीभ के छाले के कारण – Tongue ulcer causes in Hindi

जीभ के छाले के कारण - Tongue ulcer causes in Hindi

अक्सर जीभ पर छाले पड़ने का कोई एक कारण नहीं होता है। इस समस्या के पीछे कई कारण (causes) होते हैं। लेकिन छाले पड़ने पर जल्द से जल्द इसका इलाज कराना चाहिए अन्यथा ये छाले बड़े घाव का भी रूप ले सकते हैं। आइये जानते हैं कि जीभ पर छाले (blisters) किस वजह से पड़ते हैं।

  • मुंह में यीस्ट इंफेक्शन हो जाने से।
  • गलती से अपने ही दांतों से जीभ कट जाने से।
  • अधिक धूम्रपान करने से।
  • अधिक नमकयुक्त (salty) और मसालेदार खाद्य पदार्थ खाने से।
  • आंत और पेट से संबंधित कोई समस्या होने से। (और पढ़े – अपच या बदहजमी (डिस्पेप्सिया) के कारण, लक्षण, इलाज और उपचार…)
  • शरीर में विटामिन और मिनरल जैसे-फोलिक एसिड औऱ विटामिन बी की कमी होने से।
  • वायरल इंफेक्शन के कारण।
  • मुंह में चोट लगने के कारण।
  • इम्यून सिस्टम कमजोर होने के कारण। (और पढ़े – रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के उपाय…)
  • पेट साफ न होने के कारण।
  • किसी दवा का अधिक सेवन करने के कारण।

(और पढ़े – स्मोकिंग की आदत कैसे लगती है, इसके नुकसान और छोड़ने के तरीके…

जीभ पर छाले होने के लक्षण – Symptoms of Tongue ulcer in Hindi

जीभ पर छाले हो जाने से व्यक्ति आसानी से कुछ भी खाने पीने में सक्षम नहीं होता है और उसे हमेशा बेचैनी महसूस होती है। आइये जानते हैं कि जीभ पर छाले होने के लक्षण क्या हैं।

  • मुंह और जीभ में जलन होना।
  • जीभ के ऊपर गोल फफोले एवं छाले तथा घाव उभर आना।
  • जीभ पर लाल और सफेद घाव हो जाना।
  • मुंह से लगातार पानी निकलना।
  • जीभ के छालों के कारण बुखार आ जाना।
  • चूंकि जीभ के छाले बहुत पीड़ादायक (painful) होते हैं इसलिए इनसे निजात पाने के लिए जल्दी ही इनका इलाज करना चाहिए। जीभ के छालों का इलाज घर पर भी बहुत आसानी से किया जाता सकता है।

(और पढ़े – मुंह के छाले दूर करने के घरेलू उपाय…)

जीभ के छालों का घरेलू उपचार और इलाज – Tongue ulcer home treatment in Hindi

जीभ पर छाले होना कोई गंभीर समस्या नहीं है और ऊपर बताये गए कारणों में से किसी भी कारण से किसी भी समय व्यक्ति जीभ के छालों से परेशान हो सकता है। लेकिन घबराने की बात नहीं है क्योंकि जब भी जीभ पर छाले पड़े तो इन घरेलू उपायों के जरिए आप जीभ के छालों से निजात पा सकते हैं।

एलोवेरा जीभ के छालों के इलाज के लिए – Aloe Vera for Tongue ulcer in Hindi

एलोवेरा जीभ के छालों के इलाज के लिए - Aloe Vera for Tongue ulcer in Hindi

एंटी इंफ्लैमेटरी गुणों से युक्त होने के कारण एलोवेरा जीभ पर उभरे छालों को ठंडक (cooling) प्रदान कर उन्हें शांत रखता है और दर्द में भी राहत प्रदान करता है। एलोवेरा जीभ के छालों एवं मुंह से संबंधित विभिन्न समस्याओं के लिए फायदेमंद होता है। जीभ के छाले दूर करने के लिए एलोवेरा के पत्तियों से जेल निकालकर सीधे जीभ पर लगाएं। दिन में तीन से चार बार लगाने पर छाले शांत पड़ जाते हैं और जीभ में जलन और दर्द भी नहीं होता है। इसके अलावा एलोवेरा जेल से दिन में तीन से चार बार कुल्ला करने से भी जीभ पर उभरे छाले ठीक हो जाते हैं।

(और पढ़े – एलोवेरा के फायदे और नुकसान…)

बेकिंग सोडा जीभ के छाले के इलाज के लिए – Baking Soda for Tongue ulcer treatment in Hindi

बेकिंग सोडा जीभ के छाले के इलाज के लिए - Baking Soda for Tongue ulcer treatment in Hindi

बेकिंग सोडा का विलयन बनाकर जीभ के प्रभावित हिस्से (affected area) पर लगाने से छाले 24 घंटे के अंदर शांत पड़ जाते हैं। बेकिंग सोडा में एंटी इंफ्लैमेटरी गुण पाया जाता है जो जीभ के छालों एवं दर्द को दूर करने में प्रभावी तरीके से काम करता है।आधा चम्मच बेकिंग सोडा को पानी में मिलाकर पेस्ट तैयार कर लें। इसके बाद इस पेस्ट को सीधे जीभ पर उभरे छालों पर लगाकर कुछ मिनट के लिए छोड़ दें औऱ फिर गर्म पानी से कुल्ला करके मुंह साफ कर लें। आप चाहें तो गर्म पानी में बेकिंग सोडा डालकर विलयन तैयार कर इससे कुल्ला कर सकते हैं। छालों को दूर करने में यह विलयन बहुत सहायक होता है।

(और पढ़े – बेकिंग पाउडर और बेकिंग सोडा में अंतर …)

जीभ के छालों का घरेलू इलाज है शहद – Honey for Tongue ulcer in Hindi

जीभ के छालों का घरेलू इलाज है शहद - Honey for Tongue ulcer in Hindi

शहद में औषधिवर्धक गुण पाये जाते हैं और यह जीभ के छालों को दूर करने के लिए यह सर्वोत्तम उपचार है। दिन में कई बार जीभ के छालों पर शहद लगाने से छाले शांत हो जाते हैं और दर्द से भी आराम मिलता है। इसके अलावा एक चम्मच शहद में आधा चम्मच हल्दी मिलाकर पेस्ट बना लें और जीभ के प्रभावित हिस्सों पर इस पेस्ट को लगाएं। दिन में तीन से चार बार इस पेस्ट को लगाने से जीभ पर पड़े छाले ठीक हो जाते हैं और आप आराम से खाना भी खा सकते हैं।

(और पढ़े – शहद के फायदे उपयोग स्वास्थ्य लाभ और नुकसान…)

ग्लिसरीन लगाने से शांत हो जाते हैं जीभ के छाले – Glycerin for Tongue ulcer in Hindi

ग्लिसरीन लगाने से शांत हो जाते हैं जीभ के छाले - Glycerin for Tongue ulcer in Hindi

रूई के एक टुकड़े को ग्लिसरीन में डुबोएं और रूई (cotton ball) की सहायता से जीभ के प्रभावित हिस्से पर ग्लिसरीन को लगा लें। कुछ देर तक ग्लिसरीन को जीभ पर लगाकर छोड़ दें ताकि यह उसे ठीक से अवशोषित कर ले। इसके बाद पानी से कुल्ला करके मुंह साफ कर लें। जीभ के छालों को दूर करने के लिए ग्लिसरीन एक बेहतर घरेलू उपचार है। अगर संभव हो तो आप रात में सोते समय जीभ के छालों पर ग्लिसरीन लगाएं और अगली सुबह इसे पानी से साफ करें।

(और पढ़े – खूबसूरती में चार चाँद लगा देता है गुलाब जल, जानिए कैसे…)

ठंडे दूध से भी दूर हो जाते हैं जीभ के छाले – Milk for Tongue ulcer in Hindi

ठंडे दूध से भी दूर हो जाते हैं जीभ के छाले - Milk for Tongue ulcer in Hindi

नमक और लैक्टिक एसिड के साथ दूध को जीभ के छालों (tongue ulcer) पर लगाने से यह बहुत कम समय में ही छालों की समस्या से निजात दिलाने में मदद करता है। दूध में कैल्शियम और प्रोटीन जैसे कई पोषक तत्व मौजूद होते हैं जो जीभ के छालों को शांत करने में मदद करते हैं। छालों को ठीक करने का दूसरा उपाय यह है कि दूध को कुछ देर तक फ्रिज में रख दें और फिर ठंडे दूध को दिन में तीन से चार बार पीयें। चूंकि जीभ के छाले पेट की समस्या से ही उभरते हैं इसलिए यह पेट को ठंडक पहुंचाता है औऱ छालों को ठीक करने में मदद करता है।

(और पढ़े – दूध के फायदे, गुण, लाभ और नुकसान…)

जीभ पर चाय लगाने से दूर हो जाते हैं छाले – Tea for Tongue ulcer in Hindi

जीभ पर चाय लगाने से दूर हो जाते हैं छाले - Tea for Tongue ulcer in Hindi

चाय में टैनिन (tannin)नामक यौगिक पाया जाता है जो जीभ पर छालों के कारण उत्पन्न जलन को ठंडक प्रदान करता है और जीभ की पीड़ा को भी दूर करता है। जीभ के छालों को ठीक करने के लिए आप टी बैग को भिगोकर कुछ मिनट तक प्रभावित क्षेत्र पर लगाएं। दिन में कई बार यह प्रक्रिया दोहराएं। संभव हो तो दिन में अदरक और कैमोमाइल (chamomile) चाय पिएं, इससे जीभ पर उभरे छाले ठीक हो जाते हैं।

(और पढ़े – ग्रीन टी पीने के फायदे और नुकसान…)

बर्फ लगाने से जीभ के छालों को मिलती है ठंडक – Ice for Tongue ulcer in Hindi

बर्फ लगाने से जीभ के छालों को मिलती है ठंडक - Ice for Tongue ulcer in Hindi

जीभ के छालों से निजात पाने के लिए बर्फ एक ऐसा घरेलू उपचार है जिससे तुरंत आराम मिलता है। बर्फ में एंटी इंफ्लैमेटरी और एनेस्थेटिक गुण पाया जाता है जो छालों के कारण जीभ के जलन और पीड़ा को दूर करने में सहायक होता है। बर्फ के टुकड़े को एक कपड़े में लपेटकर जीभ पर हल्के हाथों से लगाएं। दिन में दो से तीन बार यही क्रम दोहराएं। आपको जरूर फर्क दिखायी देगा।

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration