बिना हाथ उठाए, बच्चों को अनुशासन कैसे सिखाएं – Teach Discipline To Your Child Without Raising Hands In Hindi

बिना हाथ उठाए, बच्चों को अनुशासन कैसे सिखाएं - Teach Discipline To Your Child Without Raising Hands In Hindi
Written by Deepti

अक्सर माता पिता यह जानना चाहते हैं की बच्चों को आज्ञाकारी कैसे बनाये अपने बच्चे किसे प्यारे नहीं होते। कुछ बच्चे आसानी से अपने पेरेंट्स की बात मान लेते हैं लेकिन कुछ बच्चों से बात मनवाने के लिए बहुत पापड़ बेलने पड़ते हैं। आपको अपने बच्चे को उसकी उम्र के हिसाब से अनुशासित करना होगा।

पैरेंट्स बच्चों की हर छोटी-बड़ी इच्छा पूरी करने के लिए बड़ा त्याग करते हैं, इस त्याग का ज्यादातर बच्चे गलत फायदा उठाते हैं। लेकिन ये बिल्कुल भी जरूरी नहीं है कि उनकी हर इच्छा तुरंत पूरी की जाए। ऐसे में बच्चे अक्सर जिदद् करके बैठ जाते हैं और मिसबिहेव करने लगते हैं। इन्हें समझाने के लिए कई पैरेंट्स उन पर हाथ तक उठा देते हैं। बता दें कि ये तरीका आपके बच्चे को उस समय तो सुधार सकता है लेकिन उसके भीतर अनुशासन नहीं ला सकता। ऐसे में जरूरी है कि बच्चों पर बिना हाथ उठाए, उनके लिए लिमिट तय करें और उन्हें अनुशासन में रहना सिखाएं।

हालांकि हर पैरेंट के लिए बहुत शर्मिंदगी भरा होता है, जब उन्हें बच्चे के लिए कुछ सीमाएं तय करनी होती हैं। लेकिन आज के समय में हर पैरेंट को बच्चे को अनुशासित और व्यवहारिक बनाने के लिए ऐसा करना पड़ता है। ये आर्टिकल हर उन माता-पिता के लिए है, जो बढ़ती उम्र में अपने बच्चों को अनुशासन सिखाने जा रहे हैं। और जानना चाहते हैं कि बच्चों को अच्छे संस्कार कैसे दे, इस आर्टिकल में न केवल आप अनुशासन सिखाने के टिप्स जानेंगे, बल्कि उन्हें हैंडल कैसे करना है, वो भी बिना हाथ उठाए, ये सब भी हम आपको बताएंगे।

  1. बच्चों को अच्छे संस्कार देने के लिए खुद बनें बच्चे के रोल मॉडल – Become a role model for child in hindi
  2. बच्चों को अनुशासन सिखाने के लिए भावनाओं के साथ सहानभूति करें व्यक्त – Express Your Feelings With Child in Hindi
  3. बच्चों को आज्ञाकारी बनाने से पहले उसे सपोर्ट करें – Support Them Before Give Lesson in Hindi
  4. बच्चे को सही आदत सिखाने के लिए पहले उससे जुड़ें – Connect before you correct Them In Hindi
  5. बच्चों के अच्छे व्यवहार के लिए उसे प्रोत्साहित करें – Baccho Ke Ache Vyavhar Ke Lie Unhe Protsahit Kare In Hindi
  6. बच्चों को अनुशासन सिखाने के लिए जिम्मेदारी सौंपें – Handing Responsibility On Children In Hindi
  7. बच्चे के अच्छे व्यवहार के लिए अच्छा माहौल बनाएं – Make Good Environment For Good Behaviour Of Child In Hindi
  8. बच्चों को अनुशासित करने के कुछ आसान तरीके – Simple Tips To Handle Your Child in hindi
  9. बच्चों को अनुशासन के साथ सम्मान सिखाना भी जरूरी – Teaching Respect With Discipline Also In Hindi

बच्चों को अच्छे संस्कार देने के लिए खुद बनें बच्चे के रोल मॉडल – Become a role model for child in Hindi

बच्चों को अच्छे संस्कार देने के लिए खुद बनें बच्चे के रोल मॉडल - Become a role model for child in Hindi

माता-पिता हर बच्चे के रोल मॉडल होते हैं। जैसा आप करेंगे बच्चा भी वैसा ही करेगा। ऐसे में जरूरी है कि पहले आप खुद अपने इमोशंस पर कंट्रोल करें। किसी भी स्थिति में तुरंत कोई रिएक्शन देने के बजाए गहरी सांस लें और थोड़ा कूल हो जाएं। ये बच्चे को बिना हाथ उठाए अनुशासन सिखाने का बेसिक तरीका है।

(और पढ़े – अगर बच्चों को बनाना है कामयाब तो इन चीजें को करें फॉलो…)

बच्चों को अनुशासन सिखाने के लिए भावनाओं के साथ सहानभूति करें व्यक्त – Express Your Feelings With Child in Hindi

बच्चों को अनुशासन सिखाने के लिए भावनाओं के साथ सहानभूति करें व्यक्त - Express Your Feelings With Child in Hindi

बच्चों को पहले अपना दोस्त बनाएं। उनकी बात को पैरेंट के बजाए दोस्त बनकर सुनें और समझें। अपनी भावनाओं के साथ उसके प्रति सहानभूति भी व्यक्त करेंगे तो बच्चा खुद अनुशासित रहेगा और आपसे अपनी सारी समस्याएं खुद ब खुद शेयर करेगा।

(और पढ़े – शिशु त्‍वचा की देखभाल के लिए टिप्‍स…)

बच्चों को आज्ञाकारी बनाने से पहले उसे सपोर्ट करें – Support Them Before Give Lesson in Hindi

बच्चों को आज्ञाकारी बनाने से पहले उसे सपोर्ट करें - Support Them Before Give Lesson in Hindi

बच्चे को कुछ भी सिखाना बहुत मुश्किल है। हर पैरेंट की आज यही शिकायत है कि बच्चा सुनता नहीं है सीखता नहीं है। लेकिन उसे सिखाने से पहले हर पैरेंट को अपने बच्चे का सपोर्ट करना बेहद जरूरी है। पहले आप खुद उस चीज में रूचि दिखाएं, तब आपका बच्चा खुद उसमें इंटरेस्ट लेने लगेगा।

(और पढ़े – किशोरावस्था की शुरुआत और पैरेंट्स की ज़िम्मेदारियाँ…)

बच्चे को सही आदत सिखाने के लिए पहले उससे जुड़ें – Connect before you correct Them In Hindi

बच्चे को सही आदत सिखाने के लिए पहले उससे जुड़ें - Connect before you correct Them In Hindi

बच्चे को कुछ भी सही बात सिखाने से पहले आप उससे भावनात्मक रूप से जुड़ें। इससे आपको उसे कुछ भी सिखाने में परेशानी नहीं आएगी। विशेषज्ञों की मानें तो एक बच्चा मिसबिहेव तभी करता है, जब वह या तो बहुत बुरा फील कर रहा हो या फिर पैरेंट्स से दूर हों। ऐसे में उससे आंख से आंख मिलाकर पूछें कि वो अपसेट क्यों है। अपना हाथ उसके कंधों पर रखकर उसे भरोसा दिलाएं कि जो भी हो, आप हमेशा उसके साथ हैं।

(और पढ़े – माता-पिता से अपने रिश्तों को बेहतर कैसे बनाएं…)

बच्चों के अच्छे व्यवहार के लिए उसे प्रोत्साहित करें – Baccho Ke Ache Vyavhar Ke Lie Unhe Protsahit Kare In Hindi

बच्चों के अच्छे व्यवहार के लिए उसे प्रोत्साहित करें - Baccho Ke Ache Vyavhar Ke Lie Unhe Protsahit Kare In Hindi

बच्चे कभी न कभी तो कुछ अच्छा काम करते हैं। ऐसे में आप हमेशा अपने बच्चों के अच्छे व्यवहार को सराहें। इससे बच्चे में आत्मविश्वास बढ़ेगा साथ ही उसके बुरे व्यवहार में भी अंतर आएगा।

(और पढ़े – नवजात शिशु की देखभाल कैसे करें…)

बच्चों को अनुशासन सिखाने के लिए जिम्मेदारी सौंपें – Handing Responsibility On Children In Hindi

बच्चों को अनुशासन सिखाने के लिए जिम्मेदारी सौंपें - Handing Responsibility On Children In Hindi

आप अपने बच्चे को हमेशा बच्चा न समझें। बच्चे जब खुद परेशान या बोर होते हैं, तो वो आपको भी परेशान कर देते हैं। ऐसे में जरूरी है कि आप उन्हें कोई काम सौंप दें। इससे वे बोर भी नहीं होंगे और थोड़े जिम्मेदार भी बनेंगे।

(और पढ़े – अगर चाहिए परीक्षा के समय तेज दिमाग तो बच्चों के आहार में सामिल करें इन चीजो को…)

बच्चे के अच्छे व्यवहार के लिए अच्छा माहौल बनाएं – Make Good Environment For Good Behavior Of Child In Hindi

बच्चे के अच्छे व्यवहार के लिए अच्छा माहौल बनाएं - Make Good Environment For Good Behaviour Of Child In Hindi

अपने आसपास के माहौल का असर बच्चे के व्यवहार पर भी पड़ता है। ऐसे में जरूरी है कि आप अपने परिवार का माहौल कुछ इस तरह बनाएं कि बच्चा सबसे कुछ न कुछ सीखे और उस पर अमल करे।

(और पढ़े – एक अच्छे पिता कैसे बने, जाने एसे लक्षण जो एक बढ़िया पिता बनाते हैं…)

बच्चों को अनुशासित करने के कुछ आसान तरीके – Simple Tips To Handle Your Child in Hindi

बच्चों को अनुशासित करने के कुछ आसान तरीके - Simple Tips To Handle Your Child in hindi

नजरअंदाज करें- बच्चा अगर किसी चीज की जिद करे, रोए या चिल्लाए, तो आप उसे एंटरटेन करने के बजाए उसे नजरअंदाज कर दें। कमरे से बाहर आ जाएं और अपने किसी काम में व्यस्त हो जाएं। कुछ देर बाद सब नॉर्मल हो जाएगा। आपका गुस्सा भी और आपका बच्चा भी।

ओवरटॉक न करें- जब बच्चा गुस्से में हो तो वह सारे अनुशासन भूल जाता है। ऐसे में कई पैरेंट्स बच्चे की गलतियां बताने लग जाते हैं। बता दें कि बच्चे गुस्से में किसी की नहीं सुनते, तो आपका कुछ भी कहना व्यर्थ है। बेहतर है ओवरटॉक न करें और उसे अकेला छोड़ दें।

उन्हें फील कराएं कि वो आपके लिए जरूरी हैं- अगर आपका बच्चा जिद्दी है और हर वक्त बुरा व्यवहार करता है, तो आप उसे परिवार की मदद करने की एक छोटी सी जिम्मेदारी सौंप सकते हैं। उसे फील कराना जरूरी है कि वो आपके लिए कितना जरूरी है। इसके साथ अगर आप उसके काम की तारीफ कर दें, तो उसका आत्मसम्मान तो बढ़ेगा ही साथ ही वह दूसरों का सम्मान करना भी जल्दी सीख जाएगा।

(और पढ़े – शिशु के रोने के कारण और उसे चुप कराने के तरीके…)

बच्चों को अनुशासन के साथ सम्मान सिखाना भी जरूरी – Teaching Respect With Discipline Also In Hindi

बच्चों को अनुशासन के साथ सम्मान सिखाना भी जरूरी - Teaching Respect With Discipline Also In Hindi

बच्चों में अनुशासन के अलावा बड़ों का सम्मान करने की भी आदत डालें। लेकिन इसके लिए बच्चों को डांट फटकारकर नहीं, बल्कि प्यार से समझाने की जरूरत होती है। बच्चों को सबसे पहले बताएं कि बड़ों का सम्मान हमेशा करना है। अगर बच्चा फिर भी न समझे तो हाथ उठाने के बजाए आप समझें कि वो बड़ों का सम्मान आखिर क्यों नहीं करता। उन्हें बताएं कि उन्हें बड़ों का सम्मान क्यों करना चाहिए।

आपके बच्चे की उम्र के हिसाब से, आपको उन्हें अलग-अलग तरीके से अनुशासित करना होगा। अपने बच्चे को अनुशासित करते वक़्त, कुछ ऐसे नियम बनाकर शुरुआत करें, जिसे आपका बच्चा अच्छी तरह से समझ पाये।

(और पढ़े – गलती करने पर बच्चे को ऐसे दें सजा…)

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration