हम सपने क्यों देखते है, अर्थ, मतलब और सपने आने के कारण  – Why do we dream in Hindi

हम सपने क्यों देखते है, अर्थ, मतलब और सपने आने के कारण - sapne kyo aate hai in hindi
Written by Sneha

sapne kyo aate hai in hindi स्वप्न क्या है हम सपने क्यों देखते है, सपने रहस्यमय, परेशान करने वाले, आंख खोलने वाले अच्छे सपने या कभी-कभी रातों की नींद ख़राब कर देने वाले बुरे सपने। सपने हमारे जीवन में बहुत कुछ हैं। इस लेख में आप जानेंगे सपना क्या है, हमें सपने क्यों आते हैं, हम सपना क्यों देखते है, क्या सपने सच होते हैं, सपने आने के फायदे, हम सपनो को कैसे याद कर सकते हैं के बारे में।

कुछ लोग अपने सपनों में मुख्य चीजों का वर्णन कर पाते हैं। वे सीधे उन चीज़ों के बारे में बता सकते हैं जिन्हें उन्होंने हाल ही में देखा है, सुना है या अनुभव किया है, जैसे कि उनका दिमाग जागने के घंटों के दौरान सपनों में देखी हुई जानकारी को एकत्रित करके व्यवस्थित करने का प्रयास कर रहा हो। कई लोग बार-बार एक ही सपना देखने पर उसे नोट भी करते हैं।

  1. सपने क्या हैं – What is dream in Hindi
  2. हम सपना क्यों देखते है- Why we see dreams in Hindi
  3. सपने आने के कारण – Reasons for dreams in hindi
  4. ल्यूसिड ड्रीम क्या होते है – Lucid dream in Hindi
  5. क्या सपने भविष्य की भविष्यवाणी कर सकते हैं – Can lucid dream predict future in Hindi
  6. सपनों को याद रखना क्यों मुश्किल है – Why is it difficult to recall dreams in Hindi
  7. हमें बुरे सपने क्यों आते है – Why do we have bad dreams in Hindi
  8. सपने का किन चीजों से असर पड़ता है – What influences dreams in Hindi
  9. सपनों को याद रखने के टिप्स – How to recall dreams in Hindi

सपने क्या हैं – What is dream in Hindi

सपने क्या हैं - What is dream in Hindi

एक स्वप्न छवियों, विचारों, भावनाओं और उत्तेजनाओं का स्वरूप है जो आम तौर पर नींद के कुछ चरणों के दौरान मन में अनैच्छिक रूप से होता है। हमको तो सपनों में देखी हुई चीजें और उद्देश्य पूरी तरह से समझ में नहीं आती, लेकिन सपने पूरे इतिहास में वैज्ञानिक, दार्शनिक और धार्मिक हितों का विषय रहे हैं। सपनों की व्याख्या सपने से अर्थ खींचने और उसमे छिपे संदेश की खोज करने का प्रयास है।

सपने मूल रूप से वे कहानियां और छवियां हैं जो हमारे दिमाग में तब आती है जब हम सोते हैं। सपने ज्वलंत हो सकते हैं। वे आपको खुश, दुखी या भयभीत महसूस करा सकते हैं। और वे भ्रमित या पूरी तरह से तर्कसंगत भी लग सकते हैं।

सोने के दौरान कभी भी सपने आ सकते हैं। लेकिन सबसे ज्वलंत सपने गहरे, आरईएम (रैपिड आई मूवेमेंट) वाली नींद के दौरान देखे जाते हैं, जब मस्तिष्क सबसे सक्रिय होता है। कुछ विशेषज्ञों का कहना है कि हम प्रति रात कम से कम चार से छह बार सपने देखते हैं।

(और पढ़े – हमें सोना क्यों जरूरी है और आपको कितने घंटों की नींद चाहिए…)

हम सपना क्यों देखते है- Why we see dreams in Hindi

हम क्यों सपने देखते हैं इसके बारे में कई सिद्धांत हैं, लेकिन कोई भी निश्चित रूप से इसका कारण नहीं जानता है। कुछ शोधकर्ताओं का कहना है कि सपनों का कोई उद्देश्य या अर्थ नहीं है और नींद में मस्तिष्क की गैरकानूनी गतिविधियां हैं। दूसरों का कहना है कि मानसिक, भावनात्मक और शारीरिक स्वास्थ्य के लिए सपने जरूरी हैं।

अध्ययनों ने हमारे स्वास्थ्य और कल्याण के लिए सपनों का महत्व दिखाया है। एक अध्ययन में, शोधकर्ताओं ने शोध में सम्मिलित लोगो को उनके आरईएम नींद में जाने से पहले जगाया। उन्होंने पाया कि लोगों को बीच नींद में जगाने से या उनके सपने न देख पाने की वजह से उनमें नीचे लिखी समस्याएं पाई गयी :

  • चिंता या तनाव
  • स्मृति हानि
  • विचारों में असंतुलन

(और पढ़े – याददाश्त बढ़ाने के घरेलू उपाय, दवा और तरीके…)

सपने आने के कारण – Reasons for dreams in hindi

सपने आने के कारण - Reasons for dreams in hindi

इस सवाल ने बहुत से लोगों को लंबे समय तक परेशान किया है। उनमें से कुछ बहुत अच्छे सिद्धांतों के साथ आए, जबकि कुछ अन्य भटक गए। आईये सपने आने के कारण को अच्छी तरह से जाने-

1 – आपनी चिंताओं और समस्यायों के बारे में सपना देखना

सपने देखने के कई कारण हैं और अपने सपनों में आप कुछ भावनाओं का अनुभव करते हैं। यह तब होता है अगर आप किसी समस्या से इतना ज्यादा परेशान हो की आपका अवचेतन मन इसे सोने के बाद भी इसे छोड़ न पायें और यही चीजें आपको सपने में दिखाई दें।

(और पढ़े – चिंता दूर करने के उपाय, तरीके और घरेलू नुस्खे…)

2 – सपने आने के कारण आपकी ज़रूरतें जो की पूरी नहीं हुई हों

आपका सपना एक तरीका हो सकता है जिसे आपका दिमाग आपकी अनमोल जरूरतों को पूरा करने के लिए उपयोग करता है। उदाहरण के लिए यदि आप किसी को बहुत ज्यादा मिस कर रहें है तो हो सकता है आपके अवचेतन मन ये रह जाये और आपका सपना ऐसे ही प्रकट हो।

3 – सपने आने का वैज्ञानिक कारण आपका दिमाग यादों को संग्रहित करता है

एक सिद्धांत के मुताबिक सपने दिमाग का पूरे दिन होने वाली घटनाओं की यादों को संग्रहीत करने का अपना तरीका हो सकता है, और यही कारण है कि अगर आप अच्छी तरह सो नहीं पाते हैं तो आप वास्तव में बुरा महसूस कर सकते हैं।

(और पढ़े – दिमाग तेज करने के लिए क्या खाये और घरेलू उपाय…)

4 – सपने आना सीखने की प्रक्रिया का एक हिस्सा

एक और सिद्धांत के मुताबिक सपने सीखने की प्रक्रिया का एक अभिन्न हिस्सा हो सकते हैं जहां मस्तिष्क नए कामों या स्किल्स को सीखने की रिहर्सल करता है। इस थ्योरी के मुताबिक सपना एक ट्रेनिंग ग्राउंड है जिसमें हमारे सर्वायेवल स्किल्स का अभ्यास होता है।

5 – सपने ज्यादा आना आपका अवचेतन मन सोच रहा है

सोते समय आपको कभी-कभी अपनी समस्याओं का समाधान मिलता है। कुछ लोग अवचेतन मन के विचारों को सपनों में देखते हैं। जैसे ही आप सोते हैं, आपका सचेत मन निष्क्रिय हो जाता है लेकिन आपका अवचेतन मन जागता रहता है। हो सकता है की आप एक मुश्किल सवाल से झूझ रहें हो और आपको इसका उपाए सपने में मिल जाये। कई लोग कोई कठिन विषय पढ़ने के बाद या किसी गहन परेशानी को सोचते हुए ,रात के समय सोने से पहले अपने इसी मुद्दे पर ठीक तरह से विचार करके सोते हैं।

(और पढ़े – अनिद्रा के कारण, लक्षण और उपचार…)

6 – सपने आने के कारण सपने किसी चीज का संदेश हो सकते हैं

सपनें आपके अवचेतन द्वारा आपको भेजे गए संदेश हो सकते हैं ताकि आपको कोई कार्रवाई करने, किसी समस्या का समाधान करने या आपको परेशान करने वाली किसी चीज से छुटकारा पाने के लिए प्रेरित किया जा सके।

उदाहरण के लिए यदि आप लंबे समय तक अपने लक्ष्यों को अनदेखा कर रहे हैं तो आपका अवचेतन मन आपको कदम उठाने के लिए सपने का उपयोग कर सकता है।

अवचेतन मन भावनाओं का उपयोग करता है। यह आपकी कुछ भावनाओं को ट्रिगर करता है और नतीजतन आप खुद को प्रेरित करते हैं।

7 – सपने किसी चीज की भविष्य वाणी हो सकते हैं

कई धर्म बताते हैं कि सपने ऐसे दृष्टिकोण हो सकते हैं जो भविष्य के बारे में चीजें बताते हैं। बेशक वे यह नहीं कहते कि सभी सपने ऐसे होते हैं लेकिन वे सिर्फ इतना कहते हैं कि उनमें से कुछ सही हो सकते हैं। वास्तव में यह सपनो के विज्ञान का खंडन नहीं करता है।

(और पढ़े – ज्यादा सोने के नुकसान और स्वास्थ्य पर पड़ने वाले प्रभाव…)

ल्यूसिड ड्रीम क्या होते है – Lucid dream in Hindi

ल्यूसिड ड्रीम क्या होते है - Lucid dream in Hindi

ल्यूसिड ड्रीम वह सपना है जिसे आप देखते हैं जब आप इस बात से वाकिफ हैं   कि आप सपना देख रहे हैं। एक सामान्य ल्यूसिड ड्रीम में आप पाते हैं कि आप सपने देख रहे हैं लेकिन आप जागते नहीं हैं! कुछ लोग इसे और आगे ले जाते हैं और सपने में जो कुछ भी पसंद करते हैं, उनके द्वारा अपने सुन्दर सपने को और भी नियंत्रित करते हैं।

क्या सपने भविष्य की भविष्यवाणी कर सकते हैं – Can lucid dream predict future in Hindi

ऐसी स्थितियों के कई उदाहरण हैं जहां एक सपना सच हो गया था जो किसी  भविष्य की घटना के बारे में बता रहा था। अगर आपने कोई सपना देखा जो सच हो गया और आपके जीवन में वैसा ही घटित हो गया तो चौकियें मत, क्यूंकि विशेषज्ञों ने इसकी संभावना वैज्ञानिक रूप समझाई है:

  • संयोग की स्तिथि
  • दोष पूर्ण स्मृति
  • अचेतन रूप से ज्ञात जानकारी को ही जोड़ तोड़ लेना

हालांकि, कभी-कभी सपने आपको एक निश्चित तरीके से कार्य करने के लिए प्रेरित कर सकते हैं, इस प्रकार आपके भविष्य को बदल सकते हैं।

(और पढ़े – बिना कपड़ों के सोने के फायदे…)

सपनों को याद रखना क्यों मुश्किल है – Why is it difficult to recall dreams in Hindi

शोधकर्ताओं को यह सुनिश्चित नहीं है कि क्यों सपनों को आसानी से भुला दिया जाता है। और हम सपने क्यों भूल जाते है शायद हम अपने सपनों को भूलने के लिए डिज़ाइन किए गए हैं क्योंकि अगर हम अपने सभी सपनों को याद करते हैं, तो हम असली यादों से सपने को अलग करने में सक्षम नहीं हो सकते हैं।

इसके अलावा, सपनों को याद रखना मुश्किल हो सकता है क्योंकि आरईएम नींद के दौरान हमारा शरीर यादों को बनाने के लिए जिम्मेदार हमारे दिमाग के  सिस्टम को बंद कर सकता है। हम केवल उन सपनों को याद रख सकते हैं जो हमें जागने से ठीक पहले होते हैं, जब कुछ मस्तिष्क गतिविधियों को वापस चालू कर दिया जाता है।

(और पढ़े – अगर आप के किसी साथ वाले को है नींद में है बड़बड़ाने की आदत तो ये खबर आपके लिए है…)

हमें बुरे सपने क्यों आते है – Why do we have bad dreams in Hindi

हमें बुरे सपने क्यों आते है - Why do we have bad dreams in Hindi

सपने आपको भावनाओं, यादों और अन्य जानकारी के साथ उत्पादक तरीके से निपटने में मदद करते हैं। बुरे सपने या नाईटमेयर को एक ऐसा सपना माना जाता है जो कि अधिक डरावना या परेशान करने वाला होता है। बुरे सपने  तनाव, चिंता, या कभी-कभी कुछ दवाओं के प्रति प्रतिक्रिया के कारण आते हैं।

हालांकि, अगर आपको अक्सर बुरे सपने आते हैं, तो आपको सोने का विकार या स्लीप डिसऑर्डर हो सकता है। नियमित रूप से होने वाले डरावने सपने को नींद की बीमारी माना जा सकता है यदि आपको :

  • हमेशा सोने के बारे में चिंतित होने का कारण बना रहता है
  • यह आपकी नींद में लगातार बाधाओं का कारण बनता है
  • अन्य नींद या मनोवैज्ञानिक समस्याओं का आपको सामना करना पड़ रहा है

कई लोग अपने पूरे जीवन में कभी-कभी बुरे सपने का अनुभव करते हैं। हालांकि, अमेरिकन स्लीप एसोसिएशन का अनुमान है कि लगभग 5 प्रतिशत आबादी को लगातार सपने के रूप में बुरे सपनों का अनुभव होता है। लेकिन यह भी कहा जाता है की हमें अक्सर सपने थोड़े बुरे आते हैं और सुखद सपने कम ही आते हैं।

(और पढ़े – ऑब्सट्रक्टिव स्लीप एपनिया (खराटे) बन सकता है मोटापे और मधुमेह का कारण…)

सपने का किन चीजों से असर पड़ता है – What influences dreams in Hindi

सपने का किन चीजों से असर पड़ता है – What influences dreams in Hindi

दैनिक गतिविधियां: जैसे ही हो छोटी या बाधित नींद अक्सर आपको अधिक ज्वलंत सपने देखने को मजबूर करती है, लेकिन एक अच्छी रात की नींद उन गहन सपनों को ज्यादा गहरा या ज्वलंत होने से रोकेगी। जो लोग रंनिंग करते हैं वे आरईएम स्लीप को ज्यादा अच्छे से ले पातें हैं और उनमें नाईटमेयर या बुरे सपने आने की संभावना कम होती है।

एक छोटे से अध्ययन में पाया गया कि सुबह में व्यायाम करने से अच्छी नींद आती है। सुबह रनिंग या अन्य कार्डियो कसरत आपकी बॉडी क्लॉक को सेट करने में मदद करती है ताकि आप अधिक नींद में सो सकें और गहरी नींद में अधिक समय बिताएं।

खाद्य पदार्थ: उदाहरण के लिए, उच्च कार्ब खाद्य पदार्थ आपको त्वरित ऊर्जा दे सकते हैं। लेकिन थोड़ी देर के बाद, वे आपको कमजोर महसूस करा सकते हैं। जो कुछ भी आपके जागने के मूड को प्रभावित करता है, उसके आपके अवचेतन अवस्था को भी प्रभावित करने की संभावना है।

स्वास्थ्य की स्थिति: सपने पर सबसे बड़ा प्रभाव इसका है कि आप कितना सो रहे हैं। एक दो रात नींद से वंचित रहने पर आप अंततः आरईएम नींद में फिसलते समय में अपने दिमाग के कुछ हिस्सों को और अधिक सक्रिय बना सकते हैं। यदि आपके पास कुछ बेचैन रातें हैं तो आपको अधिक ज्वलंत सपने देखने की संभावना है। आप उन सपनों को याद करने की भी अधिक संभावना रखते हैं।

(और पढ़े – अच्छी नींद के लिए सोने से पहले खाए जाने वाले खाद्य पदार्थ…)

सपनों को याद रखने के टिप्स – How to recall dreams in Hindi

सपनों को याद रखने के टिप्स - How to recall dreams in Hindi

यदि आप बहुत गहरी नींद में सोतें हैं और सुबह तक जागते नहीं हैं, तो रात में कई बार उठने वाले लोगों की तुलना में आप अपने सपनों को याद रखने की संभावना कम रखते हैं। लेकिन यहां कुछ युक्तियां दी गई हैं जो आपके सपनों को याद रखने की आपकी क्षमता को प्रभावित कर सकती हैं:

ड्रीम प्लेबैक – यदि आप जागने के तुरंत बाद ही सपने के बारे में सोचते हैं, तो इसे बाद में याद रखना आसान हो सकता है।

अलार्म घड़ी के बिना जागने का प्रयास करें – यदि आप अलार्म घड़ी के बजाये स्वाभाविक रूप से जागते हैं तो आपको अपने सपने याद रखने की अधिक संभावना है। एक बार अलार्म बंद हो जाने पर, आपका दिमाग उस कष्टप्रद ध्वनि को बंद करने पर केंद्रित होता है, न कि आपके सपने पर।

सपना याद रखने के लिए खुद को याद दिलाएं – यदि आप अपने सपनों को याद रखना चाहते हैं और ऐसा करने का सचेत निर्णय लेना चाहते हैं, तो सुबह  आपमें अपने सपनों को याद रखने की अधिक संभावना है। सोने से पहले, खुद को यह याद दिलाएं कि आप अपना सपना याद रखना चाहते हैं।

(और पढ़े – सुबह जल्दी उठने के आसान तरीके…)

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration