हेल्थ टिप्स

केले के पत्ते पर खाना खाने के फायदे – Benefits of eating in banana leaves in Hindi

केले के पत्ते पर खाना खाने के फायदे - Benefits of eating in banana leaves in Hindi

भारत में केले के पत्तों पर भोजन परोसने की परंपरा प्राचीन समय से चली आ रही है। मान्‍यताओं के अनुसार केले के पत्ते को शुद्ध माना जाता है इसलिए भगवान को भोग लगाने के लिए केले के पत्ते का इस्‍तेमाल भी किया जाता है। केले के पत्ते का इस्‍तेमाल दक्षिण भारत में खाना खाने के लिए विशेष रूप से किया जाता है। हालांकि आज के समय में बहुत ही कम लोग केले के पत्ते में भोजन करते होगें। लेकिन केले के पत्ते में भोजन करने के बहुत से फायदे हैं। बनाना लीफ प्राकृतिक होने के साथ प्रकृति के अनुकूल होती है। केले के पत्ते में भोजन करने से खाना स्‍वादिष्‍ट भी लगता है। केला के पत्ता में खाना खाने का एक और फायदा यह है कि इसे आसानी से साफ या नष्‍ट किया जा सकता है जो प्रकृति को किसी प्रकार का नुकसान नहीं पहुंचाती है।

इस लेख में आप केले के पत्ते में भोजन करने के फायदे संबंधी जानकारी प्राप्‍त करेगें।

केले के पत्ते में भोजन क्‍यों करना चाहिए

केले के पत्ते में भोजन क्‍यों करना चाहिए - Why Should You Eat Food Served on Banana Leaves in Hindi

दक्षिण भारत में केले के पत्तों पर सामान्‍य रूप से भोजन किया जाता है। लेकिन पूरे भारत में भी केले के पत्ते भोजन करने के लिए उपयोग किये जाते हैं। विशेष रूप से धार्मिक कार्य या विशेष शुभ अवसरों में कन्‍या भोग या भंडारे के रूप में इसका उपयोग किया जाता है। ऐसा इसलिए है क्‍योंकि केले के पत्ते में भोजन करना स्‍वास्‍थ्‍य के लिए अच्‍छा माना जाता है। केला के पत्ते में भोजन करने के कुछ सामान्‍य स्‍वास्‍थ्‍य लाभ नीचे बताए गए हैं। जिन्‍हें जानना आपके लिए भी लाभकारी हो सकता है।

(और पढ़े – आयुर्वेद के अनुसार किन चीजों को साथ में नहीं खाना चाहिए)

केले के पत्ते में भोजन करना एंटीऑक्‍सीडेंट बढ़ाय

केले के पत्तों में भोजन करना आपके लिए फायदेमंद हो सकता है। क्‍योंकि इन पत्तों में पौधे आधारित यौगिक होते हैं जिन्‍हें पॉलीफेनॉल्‍स (polyphenols) कहा जाता है। इस प्रकार के घटक ग्रीन टी में भी होते हैं। पॉलीफेनॉल्‍स प्रकृति में एंटीऑक्‍सीडेंट हैं जो फ्री रेडिकल्‍स के प्रभाव को कम करने में सहायक होते हैं। ये फ्री रेडिकल्‍स कैंसर और अन्‍य गंभीर बीमारियों का कारण बन सकते हैं। केले के पत्तों में परोसा गया भोजन इन एंटीऑक्‍सीडेंट और विभिन्‍न प्रकार के पोषक तत्‍वों को अवशोषित करता है। जिसका सीधा लाभ आपके स्‍वास्‍थ्‍य में होता है। केले के पत्तों के ऊपर मौजूद मोम की परत और जीवाणुरोधी गुण पत्तों को हानिकारक जीवाणुओं से बचाती है और यहां तक की इन रोगजनकों को मारने में भी प्रभावी होती है। यदि आप भी अपने भोजन को शुद्ध और पौष्टिक बनाना चाहते हैं तो केले के पत्ते में भोजन कर लाभ ले सकते हैं।

(और पढ़ें – एंटीऑक्सीडेंट युक्त खाद्य पदार्थ, फायदे और नुकसान)

केले के पत्ते स्‍वच्‍छ होते हैं भोजन करने के लि

केले के पत्ते स्‍वच्‍छ होते हैं भोजन करने के लिए – Banana leaves are clean for eating in Hindi

विशेष रूप से शुभ अवसरों पर भोजन करने के लिए केले के पत्तों का उपयोग किया जाता है। ऐसा इसलिए है क्‍योंकि केले के पत्ते अन्‍य बर्तनों की अपेक्षा अधिक स्‍वच्‍छ और शुद्ध होते हैं। किसी भी बड़े कार्यक्रमों भोजन करने के लिए प्‍लास्टिक की प्‍लेटों को किराए में लिया जाता है। इन प्‍लेटों को अच्‍छी तरह से धोया नहीं जाता है। जिससे इनमें रोगजनकों के होने की संभावना अधिक होती है। ऐसी स्थिति में आपके द्वारा खाया जाने वाला भोजन दूषित हो सकता है। लेकिन यदि केले के पत्ते में भोजन परोसा जाता है तो यह इसमें किसी प्रकार के रोगजनक होने की संभावना बहुत ही कम होती है। केले के पत्ते के फायदे इसलिए भी हैं क्‍योंकि इनका उपयोग केवल एक बार होता है और ये आसानी से गल कर नष्‍ट भी हो जाते हैं।

(और पढ़ें – आयुर्वेद के अनुसार भोजन के नियम)

केले के पत्ते पर्यावरण के अनुकूल होते है

केले के पत्ते प्राकृतिक रूप से प्राप्‍त किये जाते हैं उन्‍हें किन्‍हीं भी कृत्रिम रूप से तैयार नहीं किया जाता है। अक्‍सर लोग किसी विशेष सामूहिक कार्यक्रम या शादी जैसे अवसरों में स्‍टायरोफोम प्‍लेटों (styrofoam plates) या डिस्‍पोजेबल प्‍लेटों का उपयोग भोजन परोसने के लिए करते हैं। जबकि ये प्‍लेटें पर्यावरण के लिए हानिकारक होती हैं। लेकिन पर्यावरण को नुकसान से बचाने के लिए आप इन प्‍लेटों की जगह केले के पत्तों का इस्‍तेमाल कर सकते हैं। क्‍योंकि केले के पत्ते पर्यावरण के अनुकूल होते हैं। केले के पत्ते कागज या प्‍लास्टिक प्‍लेटों की अपेक्षा जल्‍दी और आसानी से सड़-गल जाते हैं। जिससे मिट्टी और पर्यावरण को किसी प्रकार का नुकसान नहीं होता है। इस तरह से केले के पत्ते में भोजन करना पर्यावरण के लिए अच्‍छा माना जाता है।

(और पढ़ें – केले के छिलके के फायदे और उपयोग)

भोजन करने के लिए केले के पत्ते का आकार

भोजन करने के लिए केले के पत्ते का आकार - Size of Banana Leaves in Hindi

केले के पत्ते का आकार अन्‍य प्रकार के भोजन करने वाले सभी बर्तनों से अधिक होता है। इसका मतलब यह है कि हिंदू परंपराओं के अनुसार भोजन में शामिल किये जाने वाले लगभग सभी पकवानों का एक साथ ही उपभोग किया जा सकता है। यदि आपने केरल के भोज या साध्‍या के बारे में सुना होगा है, तो आपको पता होगा यह विशेष अवसरों के दौरान बहुत बडी दावत होती है। जिसमें खाने के लिए कई प्रकार की चीजें होती हैं। ऐसे अवसरों पर सभी प्रकार के खाद्य पदार्थ रखने के लिए आपको बड़ी प्‍लेट की आवश्‍यकता होती है। ऐसी स्थिति में आप केले के पत्ते का इस्‍तेमाल कर सकते हैं।

(और पढ़े – खाने के बाद ये काम किया तो हो जाएगी मुसीबत बिगड़ेगी सेहत, पड़ेंगे लेने के देने !)

केले के पत्ते सस्‍ते होते हैं

केले के पत्ते आसानी से प्राप्‍त हो सकते हैं जिनकी कीमत भी कम होती हैं। आप केले के पत्ते को प्रति पीस या प्रति किलों के हिसाब से खरीद सकते हैं। हालांकि उपलब्‍धता के आधार पर इनके मूल्‍यों में अंतर हो सकता है। लेकिन फिर भी ये आपके द्वारा खरीदी गई प्‍लास्टिक या कागज की प्‍लेटों से सस्‍ती ही होती हैं।

(और पढ़े – धीरे-धीरे खाना खाने से होते हैं ये बड़े फायदे)

केले के पत्ते वाटरप्रूफ होते हैं 

केले के पत्ते वाटरप्रूफ होते हैं - Banana leaves are waterproof in Hindi

केले के पत्ते वाटरप्रूफ भी होते हैं जिससे आप उसमें तरल खाद्य पदार्थों को भी आसानी से खा सकते हैं। भारतीय भोजन में परंपरागत रूप से विभिन्न प्रकार के खाद्य पदार्थ तरल अवस्‍था में होते हैं। जैसे दाल, तरी वाली सब्‍जी, रसम, सांभर आदि। आप इस प्रकार के भोजन को भी केले के पत्ते में खा सकते हैं। वाटरप्रूफ केले के पत्ते नेचुरल प्‍लेट के लिए सबसे अच्‍छे विकल्‍पों में से एक है। आप केले के पत्तों को आसानी से प्राप्‍त कर सकते हैं, धो सकते हैं और अपने भोजन के लिए उपयोग कर सकते हैं। इसके साथ ही इन्‍हें उपयोग के बाद नष्‍ट करना भी आसान है। आप केवल एक गढ्ढा खोद कर उसमें इन पत्तियों को गड़ा दें। कुछ ही दिनों में ये सड़-गल कर मिट्टी में मिल जाएगें।

(और पढ़े – संतुलित आहार के लिए जरूरी तत्व , जिसे अपनाकर आप रोंगों से बच पाएंगे)

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration