क्या है हंता वायरस? जिससे चीन में मौत के बाद सता रहा महामारी बनने का डर – Hantavirus in Hindi - Healthunbox
स्वास्थ्य समाचार

क्या है हंता वायरस? जिससे चीन में मौत के बाद सता रहा महामारी बनने का डर – Hantavirus in Hindi

क्या है हंता वायरस? – Hantavirus in Hindi

चीन में अब हंता वायरस से मौत का मामला सामने आया है। काम के सिलसिले में शोंडोंग प्रांत जा रहा एक युवक बस में मृत पाया गया। अब इससे पहले कि हम घबराएं, यह समझना महत्वपूर्ण है कि हंता वायरस जो हंता वायरस पल्मोनरी सिंड्रोम (hantavirus pulmonary syndrome (HPS) का कारण बनता है क्या है (Hantavirus in Hindi)। आइए जानते हैं कि हंता वायरस क्या है और यह इतना खतरनाक क्यों है?

कोरोना वायरस पर काबू पाने के बाद, चीन अभी ट्रैक पर वापस आया ही था कि एक और वायरस अब यहां उत्पन्न हो चुका है। वायरस का नाम हंता वायरस है, जिसके कारण एक व्यक्ति की भी मौत हो गई है। चीन के सरकारी अखबार ग्लोबल टाइम्स ने इस बारे में जानकारी दी, जिसके बाद पूरी दुनिया में हड़कंप मच गया। तो क्या हंता वायरस कोरोना वायरस जैसा खतरनाक वायरस है, क्या यह बड़े पैमाने पर भी फैल सकता है? आइए विस्तार से जानते हैं हंता वायरस के बारे में:

हाइलाइट

  • कोरोना वायरस से जूझ रहे चीन के युन्नान प्रांत में एक व्यक्ति की मौत हो गई।
  • पीड़ित हंता वायरस से पीड़ित था और शेडोंग प्रांत में काम से लौट रहा था।
  • ग्लोबल टाइम्स द्वारा इस घटना की जानकारी देने के बाद सोशल मीडिया पर हंगामा मच गया है।
  • लोग ट्वीट कर इस आशंका को व्यक्त कर रहे हैं कि कहीं यह कोरोना जैसी महामारी न बन जाए।
  • लोगों का कहना है कि अगर चीन के लोग जिंदा जानवरों को खाना बंद नहीं करेंगे तो पूरी दुनिया को इसका परिणाम भुगतना पड़ सकता है।
  • सोशल मीडिया पर चल रही बहस के बीच, आइए जानते हैं कि हंता वायरस क्या है और क्या यह कोरोना जितना घातक है?
  • भारत में हंता वायरस के छिटपुट मामले सामने आए हैं। 2008 में, हंता वायरस ने, सांप और चूहे पकड़ने वालों के एक समूह को संक्रमित किया था
  • 2016 में, मुंबई में 12 साल के एक बच्चे की हंता वायरस संक्रमण से मृत्यु हो गई थी।

हंता वायरस क्या है

विशेषज्ञों का मानना है कि यह वायरस कोरोना वायरस जितना घातक नहीं है। यह चूहे या गिलहरी के साथ मानवीय संपर्क से फैलता है। सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन के अनुसार, ‘चूहों के घर के अंदर और बाहर हंता वायरस के संक्रमण का खतरा होता है। यहां तक कि अगर कोई स्वस्थ व्यक्ति है और वह व्यक्ति हंता वायरस के संपर्क में आता हैं, तो उनके संक्रमित होने का खतरा होता है।

हालांकि हंता वायरस एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में नहीं फैलता है, अगर कोई व्यक्ति चूहों के मल, मूत्र आदि को छूने के बाद अपनी आंखों, नाक और मुंह को छूता है, तो उसके हंता वायरस से संक्रमित होने का खतरा बढ़ जाता है। चूहे के काटने का कारण भी हो सकता है लेकिन यह बहुत दुर्लभ है।

हंता वायरस से संक्रमण के लक्षण

लक्षण 1 से 8 सप्ताह तक होते हैं। शुरुआती लोगों में हंता वायरस से संक्रमण के लक्षण में शामिल हैं

  • बुखार
  • थकान
  • मांसपेशी में दर्द
  • ये जांघों, कूल्हों, पीठ और शॉल्डर जैसी बड़ी मांसपेशी समूहों में होते हैं

दूसरों में इस वायरस से संक्रमित होने पर व्यक्ति को सिरदर्द, चक्कर आना, ठंड लगना, पेट में दर्द, मतली उल्टी, दस्त आदि हो सकते हैं।

यदि उपचार में देरी होती है, तो बाद के लक्षणों में संक्रमित व्यक्ति के फेफड़ों में पानी से भर जाता हैं, और उसे सांस लेने में परेशानी होती है।

क्या हंता वायरस जानलेवा है?

सीडीसी के अनुसार, हंता वायरस घातक है जो जानलेवा हो सकता है। इससे संक्रमित लोगों की मृत्यु का प्रतिशत 38 प्रतिशत है। यानी हंता वायरस से संक्रमित 100 लोगों में से 38 लोगों के मरने की आशंका होती है। जिससे यह कोरोनोवायरस की तुलना में अधिक खतरनाक है।

हंता वायरस की जाँच और उपचार

सीधे तौर पर हंता वायरस की पहचान कर पाना मुश्किल है क्योंकि लक्षण, कोरोना वायरस के लक्षणों की तरह इन्फ्लूएंजा के साथ भ्रमित कर सकते हैं। बुखार और थकान वाले व्यक्तियों और जो चूहों के संपर्क में आते हैं, उनका परीक्षण किया जाना चाहिए। भारत में, चूहे और सांपों का शिकार करने वाले इरुला जनजाति के लोगों को इसका अधिक खतरा हो सकता है।

हंता वायरस का इलाज

चिकित्सा देखभाल और आईसीयू के अलावा हंता वायरस का कोई विशिष्ट उपचार नहीं, जहां ऑक्सीजन थेरेपी श्वसन संकट से मदद कर सकती है। पहले चरण में मरीज आईसीयू में पहुंचता है, तो बेहतर है।

हंता वायरस से बचाव

घर या काम पर चूहों से संपर्क से बचें। ठीक से साफ-सफाई रखें और कीट नियंत्रण का उपयोग करें।

हंता वायरस का यह मामला चीन में ऐसे समय में आया है जब पूरी दुनिया वुहान से उत्पन्न कोरोना वायरस की महामारी से पीड़ित है। कोरोना वायरस के कारण अब तक हजारों लोगों की इससे मौत हो चुकी है। यही नहीं, दुनिया के लाखों लोग इससे संक्रमित हो चुके हैं। कोरोना वायरस की व्यापकता का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि यह वायरस अब दुनिया के 196 देशों के लोगों को अपना शिकार बना चुका है।

और पढ़े – 

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration