HDPE Grow Bagscontent/uploads/2023/01/HDPE-Grow-Bag-For-Home-Gardeing-1024x1024.jpg" alt="" width="810" height="810" class="alignnone size-large wp-image-105811" />
स्वास्थ्य समाचार

कोविड-19: क्या ‘सोशल डिस्टेंसिंग’ एक गलती है, जिसे अब WHO ‘फिजिकल डिस्टेंसिंग’ के जरिये सुधारने की कोशिश कर रहा है?

कोविड-19: क्या 'सोशल डिस्टेंसिंग' एक गलती है, जिसे अब WHO 'फिजिकल डिस्टेंसिंग' के जरिये सुधारने की कोशिश कर रहा है?

कोविड -19 महामारी के कारण, एक शब्द दुनिया भर में सबसे अधिक इस्तेमाल किया  जा रहा है, वह  शब्द है ‘सोशल डिस्टेंसिंग’। कोविड -19 के लिए जिम्मेदार नए कोरोना वायरस, SARS-COV-2 के आगे प्रसार को रोकने के लिए भारत सहित कई देशों में ‘सोशल डिस्टेंसिंग’ (सामाजिक दूरी) की नीति अपनाई जा रही है। इसके कारण, करोड़ों लोगों ने एक-दूसरे से दूरी बनाए रखते हुए खुद को घरों में बंद कर लिया है। लेकिन अब इस ‘सोशल डिस्टेंसिंग’ की नीति को एक नए शब्द ‘फिजिकल डिस्टेंसिंग’ के साथ चुनौती दी जा रही है।

क्या है विशेषज्ञों की राय

वास्तव में, कई चिकित्सा विशेषज्ञों का कहना है कि लोगों के बीच ‘फिजिकल डिस्टेंसिंग, (शारीरिक दूरी), ‘सोशल डिस्टेंसिंग से बेहतर विकल्प है। यह ऐसे समय में कहा जा रहा है जब विश्व स्वास्थ्य संगठन ने स्वयं सोशल डिस्टेंसिंग के बजाय ‘फिजिकल डिस्टेंसिंग शब्द का उपयोग शुरू कर दिया है। कई चिकित्सा विशेषज्ञों ने डब्ल्यूएचओ की इस नई शब्दावली को ‘सही दिशा’ में एक कदम बताया है।

डब्ल्यूएचओ की आधिकारिक वेबसाइट पर कोविड -19 से जुड़ी टाइमलाइन बताती है कि यह संयुक्त राष्ट्र शाखा अब लोगों को कोरोना वायरस से दूर रखने की शब्दावली बदल रही है। उसी समय, अंतर्राष्ट्रीय रिपोर्ट बताती है कि 20 मार्च को, डब्ल्यूएचओ के अधिकारियों ने एक बयान में कहा कि इस महामारी के कारण फिजिकल डिस्टेंसिंग को बनाए रखना बहुत महत्वपूर्ण है, इसका मतलब यह नहीं है कि हम सामाजिक रूप से अपने परिवार से और प्यार करने वाले लोगों से अलग हैं।

ये भी पढ़ें – सूंघने और स्वाद लेने की क्षमता खोना भी हो सकते हैं कोरोना वायरस के शुरूआती लक्षण!

डब्ल्यूएओ के एपिडेमियॉलजिस्ट (महामारी विज्ञानी) मारिया वैन केर्खोव ने कहा, ‘आज तकनीक इस स्तर की है कि हम फिजिकल उपस्थिति के बिना कई मायनों में एक-दूसरे से जुड़े रह सकते हैं। इसलिए हम अब बदलाव के तहत फिजिकल डिस्टेंसिंग को ‘सोशल डिस्टेंसिंग’ की जगह कहना शुरू कर रहे हैं, क्योंकि हम चाहते हैं कि लोग एक-दूसरे से जुड़े रहें।

जानिए कोरोना वायरस कैसे शरीर पर हमला करता है? क्यों कुछ लोगों की इस से मौत हो रही है?

लोग इसकी गलत व्याख्या न करें

डब्ल्यूएचओ ने क्या कहा, इसका मतलब यह नहीं है कि लोगों को अपने घरों को छोड़ देना चाहिए और पहले की तरह मिलना जुलना शुरू कर देना चाहिए। उसका उद्देश्य यह बताना है कि ‘सोशल डिस्टेंसिंग’ का अर्थ है एक दूसरे से फिजिकल दूरी बनाए रखना है। लेकिन चूंकि बहुत से लोग ‘सामाजिक’ शब्द के कारण इस दूरी को ‘समाज से कटने’ या ‘बातचीत बंद करने’ के रूप में मानते हैं (इसलिए कि वे बीमारी का शिकार न हों), इसलिए इसके मनोवैज्ञानिक और सामाजिक दुष्प्रभावों को ध्यान में रखते हुए। अब, फिजिकल डिस्टेंसिंग शब्द शुरू किया गया है। ऐसी स्थिति में, यह संभावना है कि जल्द ही, ‘सोशल डिस्टेंसिंग’ की जगह फिजिकल डिस्टेंसिंग प्रचलित हो जायेगी।

कैसे पता चलेगा साधारण खांसी है या कोरोना?, घर बैठे मोबाइल से जानें

भारत के लिए इस परिवर्तन का महत्व

अब यह महसूस किया गया है कि ‘सोशल डिस्टेंसिंग’ के बजाय, जल्द ही अंतर्राष्ट्रीय मीडिया और अन्य प्लेटफार्मों पर फिजिकल डिस्टेंसिंग का इस्तेमाल किया जाएगा। भारत के संदर्भ में इसका बहुत महत्व है, क्योंकि सरकार से लेकर आम लोगों तक ‘सोशल डिस्टेंसिंग’ शब्द बहुत लोकप्रिय हो गया है। सरकार इस शब्द का उपयोग कोरोना वायरस से संबंधित हर अभियान में कर रही है।

हालांकि कोविड -19 के मामले में, भारत सरकार डब्ल्यूएचओ के निर्देशों का पालन कर रही है, यह संभव है कि नई शब्दावली सरकार के स्तर पर देखने को मिल सकती है। यह देखा जाना बाकी है कि ‘सोशल डिस्टेंसिंग’ शब्द का सही अर्थ समझाने के लिए वह क्या कदम उठाती है जो यहाँ के आम लोगों के मन में अपनी जगह बना चुका है।

और पढ़े – 

इसी तरह की अन्य जानकारी हिन्दी में पढ़ने के लिए हमारे एंड्रॉएड ऐप को डाउनलोड करें। और आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं।

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration