नाभि में छेद कराने से पहले और बाद में बरतें ये सावधानी – Belly Button (navel) Piercing in Hindi

नाभि में छेद कराने से पहले और बाद में बरतें ये सावधानी - Belly Button (navel) Piercing in Hindi
Written by Akansha

Belly Button Piercing in Hindi नाभि में छेद कराने से पहले और बाद में कुछ सावधानी रखनी जरूरी है, पियर्सिंग (छेद करवाना) शरीर संशोधन के सबसे पुराने और सबसे प्रचलित रूपों में से एक माना जाता है। पिछले कुछ समय में नाभि में छेद कराने सहित शरीर के कई अलग-अलग क्षेत्रों में इस अभ्यास का विस्तार हुआ है। आजकल फैशन के दौर में हमारी युवा पीढ़ी कई तरह के प्रयोग करती है। जिसमे वो खुशी-खुशी नाभि में छेद यानी की पियर्सिंग करवाने से भी पीछे नहीं रहती हैं। बेली बटन पियर्सिंग करवाने के बाद इसे ठीक होने में अधिक समय लगता है।  नाभि में छेद कराने के बाद की देखभाल कैसे करें यह जानने के लिए हमारा यह लेख पढ़ें।

  1. अपने पियर्सर (नाभि छेदने वाला) को समझदारी से चुनें – Choose your piercer wisely in Hindi
  2. विसंक्रमण (स्टरलाइजेशन) की प्रक्रिया – The sterilization process in Hindi
  3. पियर्सिंग गन का इस्तेमाल करने से बचें – Avoid piercing guns in hindi
  4. बेली बटन पियर्सिंग करवाने की प्रक्रिया – Process of getting piercing in hindi
  5. नाभि में छेद करवाने की प्रक्रिया के बाद बरती जाने वाली सावधानियां – Aftercare precaution after getting piercing in hindi
  6. अपने बेली बटन को कैसे साफ़ करें – How to clean your belly button in hindi
  7. नाभि में पियर्सिंग करवाने के बाद संक्रमण के लक्षण – Symptoms of infection after getting pierced in hindi

अपने पियर्सर (नाभि छेदने वाला) को समझदारी से चुनें – Choose your piercer wisely in Hindi

अपने पियर्सर (नाभि छेदने वाला) को समझदारी से चुनें - Choose your piercer wisely in Hindi

जब भी आप पियर्सिंग करवाते है, तो आपको रक्त संबंधी बीमारी होने का जोखिम रहता है, जैसे कि हेपेटाइटिस सी। यही कारण है कि आपके लिए सही पियर्सर चुनना बहुत ही महत्वपूर्ण है। जोखिम का स्तर इस बात पर निर्भर करता है कि आप किस जगह और व्यक्ति से पियर्सिंग करवाने जा रहे हैं। एक विश्वसनीय और सही पियर्सर चुनना बहुत ही जरुरी है। वह जगह अच्छी तरह साफ हो, वहां अच्छी तरह से रोशनी हो, और वह दुकान पूरी तरह से लाइसेंस प्राप्त होना चाहिए। बॉडी पियर्सिंग करवाने के शौकीनों को किसी भी तरह के वीडियो पर भरोसा नहीं करना चाहिए।

(और पढ़े – नाक और कान छिदवाने के फायदे, नुकसान और सावधानियां…)

विसंक्रमण (स्टरलाइजेशन) की प्रक्रिया – The sterilization process in Hindi

जब आप पियर्सिंग करवाने के लिए दुकान पर हों, तो पियर्सर से उनके द्वारा की जाने वाली प्रक्रिया और उनके द्वारा उपयोग की जाने वाली स्टरलाइजेशन विधियों के बारे में पूछें। आमतौर पर, पियर्सर उपकरण पर किसी भी संभावित बैक्टीरिया या अन्य रोगजनकों को मारने के लिए एक आटोक्लेव का उपयोग करते हैं। यह आटोक्लेव का उपयोग आमतौर पर उन उपकरणों को स्टरलाइज़ करने के लिए किया जाता है जिनका इस्तेमाल दोबारा किया जाता हैं, जैसे कि शरीर के गहने खोलने और बंद करने के लिए उपयोग किये जाना वाला उपकरण। यह अच्छी तरह से चेक करे की सभी पियर्सिंग सुइयां पूरी तरह से सील बंद पैकेज में हो।

इसका मतलब यह है कि उनका उपयोग किसी और पर नहीं किया गया है। सुइयों को किसी और से साझा नहीं करना महत्वपूर्ण है, क्योकि सुईयां साझा करने से रक्तजनित बीमारी होने का खतरा बढ़ जाता है। यह भी जांचे की आपके पियर्सर हर समय डिस्पोजेबल दस्ताने ही पहनें।

पियर्सिंग गन का इस्तेमाल करने से बचें – Avoid piercing guns in hindi

पियर्सिंग गन का इस्तेमाल करने से बचें - Avoid piercing guns in hindi

यदि आपका पियर्सर आपकी नाभि छेदने के लिए पियर्सिंग गन का उपयोग करता है, तो आप उससे बिलकुल भी पियर्सिंग ना करवाएं। बार बार एक ही पियर्सिंग गन का इस्तेमाल करने से सभी ग्राहकों में किसी प्रकार का शारीरिक तरल पदार्थ प्रसारित कर सकती हैं। इस पियर्सिंग प्रक्रिया की वजह से आपके शरीर के स्थानीय ऊतकों में क्षति का कारण बन सकते हैं।

(और पढ़े – नाक छिदवाने के बाद देखभाल कैसे करें…)

बेली बटन पियर्सिंग करवाने की प्रक्रिया – Process of getting piercing in Hindi

पियर्सिंग करवाने की प्रक्रिया में सबसे पहले आपका पियर्सर आपसे हाइड्रोलिक कुर्सी पर बैठने के लिए कहेंगा। उसके बाद नाभि छेदने वाला आपकी नाभि के आसपास के क्षेत्र को कीटाणुरहित करेगा। यदि आपकी नाभि के आसपास शरीर के बाल हैं, तो वे इसे एक नए डिस्पोजेबल रेजर के द्वारा साफ़ करेगा। इसके बाद, वे आपकी नाभि पर उस स्थान को चिह्नित करेंगे जिसे वे छेदना चाहते हैं। पारंपरिक तौर पर नाभि पर छेदने के लिए, पियर्सर आपकी नाभि के बिलकुल ऊपर की जगह को चिह्नित करेंगे। प्लेसमेंट की पुष्टि होने के बाद, चिह्नित स्थान में छेद बनाने के लिए पियर्सर एक खोखली सुई का उपयोग करेगा। एक बार छेद हो जाने के बाद, वे नाभि की ज्वेलरी डालते समय त्वचा के तने के क्षेत्र को पकड़ने के लिए फोरसेप्स का उपयोग कर सकते हैं।

इस प्रक्रिया के बाद आपको थोड़ा सा रक्तस्राव का अनुभव हो सकता है। इसके बाद पियर्सर आपकी नाभि को अच्छी तरह साफ करेगा और आपको नाभि में छेद कराने के बाद की देखभाल के लिए सारे निर्देश देगा।

नाभि में छेद करवाने की प्रक्रिया के बाद बरती जाने वाली सावधानियां – Aftercare precaution after getting piercing in Hindi

नाभि में छेद करवाने की प्रक्रिया के बाद बरती जाने वाली सावधानियां – Aftercare precaution after getting piercing in hindi

आपको नाभि में छेद करवाने के बाद बहुत सी सावधानियां रखने की आवश्यकता होती है क्योकि नाभि में पियर्सिंग करवाने के बाद इसे ठीक होने में 6 महीने से लेकर 1 साल तक का समय लगता है। इसलिए जो भी सावधानियां आपको रखनी है नाभि में छेद करवाने के बाद नीचे हम आपको उसके बारे में बता रहे है-

  • नाभि में छेद करवाने के बाद किसी भी तरह की प्रारंभिक खुजली और स्थानीयकृत कोमलता होना सामान्य है।
  • यदि आप किसी प्रकार की असुविधा या जकड़न का अनुभव करते हैं, तो आपको यह सलाह दी जाती है कि आप उन गहनों को हटा दें जो वर्तमान में आप पहने हुए हैं। आप इसे हटाने का काम स्वयं ही साफ हाथों से कर सकते हैं, या यह आप उस दुकान से भी हटवा सकते है जहाँ आपने पियर्सिंग करवाई थी। लेकिन अगर ऐसा करने के बाद भी संक्रमण के संकेत मौजूद हैं, तो आपको चिकित्सा उपचार करवाना चाहिए।
  • आप चाहे तो पियर्सिंग ट्रैक्ट को खुला रखने के लिए, आप इस गहने को एक सुरक्षित, निष्क्रिय प्लास्टिक के टुकड़े के साथ बदल सकते हैं। आप चाहे तो पियर्सिंग ट्रैक्ट को भी खाली छोड़ सकते हैं। हालाँकि, इससे छेद बंद होने की समस्या हो सकती है।
  • पूरी तरह से ठीक होने के लिए बेली बटन पियर्सिंग के लिए नौ महीने से लेकर एक साल तक भी लग सकता है। यह पियर्सिंग के स्थान के निरंतर मूवमेंट के कारण होता है। इस क्षेत्र को जितना संभव हो सके बैक्टीरिया-मुक्त रखना चिकित्सा के लिए बहुत आवश्यक है।

उपचार प्रक्रिया के दौरान, आपको निम्न कार्य करना चाहिए-

  • गर्म पानी के टब, पूल और नदी में जाने से बचें। आपका घाव पानी में बैक्टीरिया के संपर्क में आ सकता है।
  • साफ, ढीले-ढाले कपड़ों का विकल्प चुनें। तंग वस्त्र पियर्सिंग वाले क्षेत्र में परेशानी पैदा कर सकते हैं और बैक्टीरिया से संक्रमित कर सकते हैं।
  • पियर्सिंग वाली जगह की रक्षा करें। जब भी आप व्यायाम करें तो एक सुरक्षात्मक पट्टी का प्रयोग करें, और जलन या संक्रमण से बचने के लिए बाद में क्षेत्र को अच्छी तरह से साफ करें।
  • धूप में जाने से बचें।

(और पढ़े – मानव शरीर के बारे में रोचक तथ्य…)

अपने बेली बटन को कैसे साफ़ करें – How to clean your belly button in Hindi

नाभि में छेद करवाने के बाद पहले कुछ दिनों में इस क्षेत्र से एक सफेद तरल पदार्थ निकलता है। यह द्रव एक क्रस्टी सामग्री बनाता है।

अब नाभि को साफ़ करने के लिए सबसे पहले अपने हाथों को साबुन और पानी अच्छी तरह से धोने के बाद क्षेत्र को गर्म पानी से साफ करें। इस क्षेत्र को ज्यादा उठायें नहीं, क्योंकि यह आगे चलकर जलन या रक्तस्राव का कारण बन सकता है।

आपका पियर्सर आपको सफाई के दौरान निम्नलिखित उपाय करने की सलाह दे सकता है, जैसे-

  • पियर्सिंग वाली जगह पर लगभग 30 सेकंड के लिए साबुन को बिलकुल थोड़ा सा लागू करें। बाद में अच्छी उसे अच्छी तरह से साफ़ करें।
  • प्रतिदिन 5 से 10 मिनट के लिए नाभि के उस क्षेत्र को भिगोने के लिए एक स्टेराइल खारे सलूशन का उपयोग करें।
  • सूखी पैट बनाने के लिए डिस्पोजेबल, सॉफ्ट पेपर उत्पादों का उपयोग करें।

(और पढ़े – हाथ धोने का सही तरीका और फायदे…)

नाभि में पियर्सिंग करवाने के बाद संक्रमण के लक्षण – Symptoms of infection after getting pierced in Hindi

नाभि में पियर्सिंग करवाने के बाद संक्रमण के लक्षण - Symptoms of infection after getting pierced in hindi

नाभि में छेद करवाने के बाद कुछ दिनों के लिए क्षेत्र में दर्द होना सामान्य है। यदि आप ऐसे लक्षण अनुभव कर रहे हैं जो असामान्य हैं या जो पहले कुछ दिनों के बाद होते हैं, तो अपने पियर्सर या डॉक्टर से सलाह जरुर लें।

नाभि में पियर्सिंग करवाने के बाद के संक्रमण के लक्षणों में शामिल हो सकते हैं-

  • लाल चकत्ते आना
  • लालिमा
  • सूजन
  • असामान्य या दुर्गन्ध भरा निर्वहन होना

यदि आप किसी तरह के संक्रमण या अन्य जलन का अनुभव करते हैं, तो उस क्षेत्र में किसी भी मरहम या अन्य सामयिक उपचार को लागू करने से पहले अपने पियर्सर या चिकित्सक से सलाह लेना सुनिश्चित करें।

निष्कर्ष- पियर्सिंग करवाना एक बहुत बड़ा निर्णय है जिसके लिए बाद में बहुत सी सावधानियां रखना  आवश्यक होता है। यह तकनीक तब तक सुरक्षित रूप से कि जा सकता है जब तक आप पियर्सिंग वाले क्षेत्र को साफ और जीवाणुओं से मुक्त रखना सुनिश्चित करते हैं। अपने सामान्य स्वास्थ्य की देखभाल करने से आप तेजी से पियर्सिंग के क्षेत्र को ठीक कर सकते हैं और जटिलताओं के सभी जोखिमों को कम कर सकते हैं।

(और पढ़े – सूजन के कारण, लक्षण और कम करने के घरेलू उपाय…)

इसी तरह की अन्य जानकरी हिन्दी में पढ़ने के लिए हमारे एंड्रॉएड ऐप को डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं। और आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration