विद्यार्थी जीवन में अनुशासन का महत्व – Vidyarthi Jeevan Mein Anushasan Ka Mahatva In Hindi

विद्यार्थी जीवन में अनुशासन का महत्व - Vidyarthi Jeevan Mein Anushasan Ka Mahatva In Hindi
Written by Anamika

Vidyarthi jeevan aur anushasan in hindi विद्यार्थी के जीवन में अनुशासन ही सफलता की कुंजी है अनुशासन का हम सभी के जीवन में बहुत ज्यादा महत्व है। लेकिन विद्यार्थियों के जीवन में अनुशासन की भूमिका काफी बढ़ जाती है। इसका कारण यह है कि विद्यार्थियों को कच्चे घड़े के समान माना जाता है। इसका अर्थ यह है कि छात्र अपने विद्यार्थी जीवन से जो कुछ भी सीखता है उसी से उसके भविष्य और व्यक्तित्व का निर्माण होता है। यही कारण है कि घर में माता पिता और स्कूल में शिक्षक हमें अनुशासन में रहना सिखाते हैं। वास्तव में अनुशासित जीवन जीना कभी कभी बहुत मुश्किल काम हो सकता है लेकिन जब इसकी आदत पड़ जाती है और विद्यार्थी को इसका मनचाहा फल मिलने लगता है तो वह इसका आदी हो जाता है। इस आर्टिकल में हम आपको विद्यार्थी जीवन में अनुशासन के महत्व के बारे में बताने जा रहे हैं।

  1. छात्रों के जीवन में अनुशासन की भूमिका आत्मकेंद्रित होने में – Vidyarthi jeevan mein anushasan ka mahatva for Being focused in Hindi
  2. विद्यार्थी के जीवन में अनुशासन का महत्व दूसरों से सम्मान प्राप्त करने में – Discipline students get respect by others in Hindi
  3. विद्यार्थी जीवन में अनुशासन की भूमिका बेहतर स्वास्थ्य के लिए – Vidyarthi jeevan mein anushasan ka mahatva for Stay healthy in Hindi
  4. छात्र जीवन में अनुशासन की भूमिका एक्टिव रहने में – Discipline in students life for Stay active in Hindi
  5. विद्यार्थी जीवन में अनुशासन की आवश्यकता खुद पर नियंत्रण रखने में – Discipline in students life for Self-control in Hindi
  6. स्कूल में बेहतर प्रदर्शन के लिए विद्यार्थी जीवन में अनुशासन की भूमिका – Discipline in students life for Better academic performance in Hindi
  7. विद्यार्थी जीवन में अनुशासन की उपयोगिता तनाव मुक्त रहने के लिए – Discipline in students life for tension free mind in Hindi
  8. छात्रों में अनुशासन की भूमिका आनंद प्राप्त करने के लिए – Chatra jeevan mein anushasan ka mahatva for happiness in Hindi
  9. विद्यार्थी जीवन में अनुशासन का महत्व कक्षा में उपस्थिति दर्ज कराने में – Discipline in students life for Class Attendance in Hindi

छात्रों के जीवन में अनुशासन की भूमिका आत्मकेंद्रित होने में – Vidyarthi jeevan mein anushasan ka mahatva for Being focused in Hindi

छात्रों के जीवन में अनुशासन की भूमिका आत्मकेंद्रित होने में - Vidyarthi jeevan mein anushasan ka mahatva for Being focused in Hindi

विद्यार्थी जीवन से ही छात्रों को अनुशासन का महत्व बताने से उन्हें अपने काम, पढ़ाई की गतिविधियों और लक्ष्य के प्रति ध्यान केंद्रित करने में मदद मिलती है। जब बचपन से ही एक लक्ष्य निर्धारित हो जाता है तो विद्यार्थी उसी के अनुसार पढ़ाई में भी मेहनत करते हैं और लक्ष्य तक पहुंचने के लिए जुट जाते हैं। वास्तव में अनुशासन मस्तिष्क को लक्ष्य से भटकने नहीं देता है जिसके कारण अनुशासन में रहने वाले छात्र बहुत जल्द ही सफलता प्राप्त कर लेते हैं और अपनी मंजिल तक पहुंच जाते हैं।

(और पढ़े – बिना हाथ उठाए, बच्चों को अनुशासन कैसे सिखाएं…)

विद्यार्थी के जीवन में अनुशासन का महत्व दूसरों से सम्मान प्राप्त करने में – Discipline students get respect by others in Hindi

अक्सर हम देखते हैं कि कक्षा में शिक्षकों की आज्ञा का पालन करने वाले और अनुशासन में रहने वाले छात्र का हर कोई सम्मान करता है। माना जाता है कि जो छात्र अनुशासन में रहता है उसके काम करने का तरीका भी काफी अलग होता है। ऐसे छात्र सबके बीच बहुत लोकप्रिय होते हैं और हर कोई उनकी तारीफ करता है। इसके अलावा अनुशासन का छात्र जीवन में एक अन्य महत्व यह है कि अनुशासित रहने से विद्यार्थी के कार्यक्षमता में सुधार होता है, जिससे वे समय रहते अच्छे तरीके से अपने परीक्षा की बेहतर तैयारी कर पाते हैं और अच्छे परिणाम आने पर माता पिता के साथ ही गुरुजनों से भी सम्मान प्राप्त करते हैं।

(और पढ़े – छोटे बच्चों को पढ़ाने के अनोखे तरीके…)

विद्यार्थी जीवन में अनुशासन की भूमिका बेहतर स्वास्थ्य के लिए – Vidyarthi jeevan mein anushasan ka mahatva for Stay healthy in Hindi

विद्यार्थी जीवन में अनुशासन की भूमिका बेहतर स्वास्थ्य के लिए - Vidyarthi jeevan mein anushasan ka mahatva for Stay healthy in Hindi

विद्यार्थी के अनुशासन की भूमिका सिर्फ शिक्षकों की बात मानना ही नहीं है बल्कि इसमें समय पर भोजन, स्नान, प्रार्थना, व्यायाम करना, पढ़ाई, सही समय पर स्कूल पहुंचना, सोना और माता पिता का आदर करना भी शामिल है। वास्तव में विद्यार्थियों में व्यायाम सहित रोजाना की अन्य आदतें उनके मस्तिष्क और शरीर को इतनी अच्छी तरह से ट्यून करती हैं कि विद्यार्थी शारीरिक और मानसिक रूप से स्वस्थ रहते हैं। यहां तक कि स्वस्थ रहने पर विद्यार्थी का पढ़ाई में भी बहुत मन लगता है। विद्यार्थी जीवन में अनुशासन का यह एक विशेष महत्व है।

(और पढ़े – अगर बच्चों को बनाना है कामयाब तो इन चीजें को करें फॉलो…)

छात्र जीवन में अनुशासन की भूमिका एक्टिव रहने में – Discipline in students life for Stay active in Hindi

छात्र जीवन में अनुशासन की भूमिका एक्टिव रहने में - Discipline in students life for Stay active in Hindi

माना जाता है कि अनुशासन विद्यार्थियों के जीवन में सकारात्मक दृष्टिकोण विकसित करने का एक तरीका है। अनुशासन छात्रों में भीतर से उत्साह और आत्मविश्वास पैदा करने में मदद करता है। जिसके कारण विद्यार्थी आलस छोड़कर अधिक सक्रिय होकर अपना काम करते हैं। आमतौर पर अनुशासित जीवन जीने वाले विद्यार्थियों की रणनीतियां भी दूसरों से काफी हटकर होती हैं। वे हर क्षेत्र में काफी फुर्तीले तरीके से अपनी क्षमता का प्रदर्शन करते हैं। चाहे स्कूल में क्रिकेट मैच हो, खेल प्रतियोगिता, लेखन प्रतियोगिता हो या फिर अन्य कोई प्रतियोगिता, अनुशासित जीवन जीने वाला छात्र बेहतर परिणाम लाता है।

(और पढ़े – जानें माता-पिता की वह आदतें जो बच्चों को सफल होने से रोकतीं हैं…)

विद्यार्थी जीवन में अनुशासन की आवश्यकता खुद पर नियंत्रण रखने में – Discipline in students life for Self-control in Hindi

विद्यार्थी जीवन में अनुशासन की आवश्यकता खुद पर नियंत्रण रखने में - Discipline in students life for Self-control in Hindi

मनोचिकित्सकों का मानना है कि अनुशासन विद्यार्थी को आत्म नियंत्रण यानि खुद के ऊपर कंट्रोल करना सीखाता है। इससे छात्र को यह पता चलता है कि वह कहां अपना कीमती समय बर्बाद कर रहा है, किसके साथ कैसा व्यवहार कर रहा है और कौन सी गंदी हरकतें कर रहा है। एक अनुशासित जीवन जीने वाला छात्र अपना दीपक खुद ही होता है क्योंकि अनुशासन उसे इतना कुछ सीखा देता है कि वह गलत और सही में फर्क करना सीख जाता है और वह रास्ते से अगर भटक भी रहा हो तो खुद को संभाल लेता है। विद्यार्थी के जीवन में अनुशासन की यह सबसे महत्वपूर्ण भूमिका है।

(और पढ़े – गुस्से को कंट्रोल और मन शांत करने के आसान उपाय…)

स्कूल में बेहतर प्रदर्शन के लिए विद्यार्थी जीवन में अनुशासन की भूमिका – Discipline in students life for Better academic performance in Hindi

स्कूल में बेहतर प्रदर्शन के लिए विद्यार्थी जीवन में अनुशासन की भूमिका - Discipline in students life for Better academic performance in Hindi

बेहतर शिक्षा के लिए किसी भी विद्यार्थी के जीवन में अनुशासन होना बहुत जरूरी है। अनुशासन सीखे बिना शिक्षा अधूरी है। कक्षा में अनुशासन छात्रों को अच्छी तरह से शिक्षक की बातों को सुनने और पूरे पाठ्यक्रम को पूरा करने में मदद करता है। इसके अलावा अनुशासन से उन्हें सुबह स्कूल आने के लिए जल्दी जागने में मदद मिलती है। विद्यार्थियों को सुबह उठकर माता पिता को चरण स्पर्श करना सीखाया जाता है। अनुशासित छात्र शिक्षक की बातों का पालन करता है। यही कारण है कि छात्र जीवन में अनुशासन की भूमिका बढ़ जाती है।

(और पढ़े – किशोरावस्था की शुरुआत और पैरेंट्स की ज़िम्मेदारियाँ…)

विद्यार्थी जीवन में अनुशासन की उपयोगिता तनाव मुक्त रहने के लिए – Discipline in students life for tension free mind in Hindi

विद्यार्थी जीवन में अनुशासन की उपयोगिता तनाव मुक्त रहने के लिए - Discipline in students life for tension free mind in Hindi

छात्र चाहे किसी प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी कर रहा हो या फिर स्कूल कॉलेज में नियमित पढ़ने जाता हो, अगर अनुशासित होकर अपनी दिनचर्या का पालन करता है तो उसे बेवजह का तनाव नहीं होता है। मनोविशेषज्ञ मानते हैं कि परीक्षा के दौरान डॉक्टर के पास आने वाले ऐसे छात्रों की संख्या बढ़ जाती है जो पूरे साल अनुशासनहीन होकर अपना समय बर्बाद करते हैं और परीक्षा के समय डिप्रेशन का शिकार हो जाते हैं। कुछ विद्यार्थियों को एक्जाम फोबिया भी हो जाता है। ऐसी स्थिति से बचने के लिए चिकित्सक भी छात्रों को अनुशासित होकर समय पर कार्य करने की सलाह देते हैं।

(और पढ़े – परीक्षा में तनाव को इस तरह करे दूर, मिलेगी सफलता…)

छात्रों में अनुशासन की भूमिका आनंद प्राप्त करने के लिए – Chatra jeevan mein anushasan ka mahatva for happiness in Hindi

अनुशासित जीवन जीने वाला विद्यार्थी एक अलग तरह की शांति और खुशी का अनुभव करता है। इसका कारण यह है कि वह अपना काम बहुत तेजी से और सही समय पर पूरा कर लेता है। उसे टाल मटोल करने की आदत नहीं होती है। जिसके कारण उसके पास अन्य कामों के लिए भी पर्याप्त समय बच जाता है। बचे समय में वह खेलने जा सकता है, अपने भाई बहन का होमवर्क कराने में मदद कर सकता है या फिर बाजार जाकर कोई सामान भी ला सकता है। अनुशासन का महत्व समझने वाले विद्यार्थी को कम से कम इस बात की शिकायत नहीं रहती है कि घर के काम के कारण वह स्कूल का काम पूरा नहीं कर पा रहा है।

(और पढ़े – जानें खुश होने के उपाय और तरीके…)

विद्यार्थी जीवन में अनुशासन का महत्व कक्षा में उपस्थिति दर्ज कराने में – Discipline in students life for Class Attendance in Hindi

विद्यार्थी जीवन में अनुशासन का महत्व कक्षा में उपस्थिति दर्ज कराने में - Discipline in students life for Class Attendance in Hindi

अक्सर देखा गया है कि अनुशासन में रहने वाले विद्यार्थियों की कक्षा में उपस्थिति भी सौ प्रतिशत होती है। ऐसे विद्यार्थी रोजाना स्कूल आते हैं और कभी भी स्कूल न जाने का बहाना नहीं करते हैं। इसके अलावा अनुशासित छात्र कक्षा में शिक्षक की बातों को ध्यान से सुनते हैं, इनके अंदर पाठ्यक्रम सामग्री सीखने की ललक रहती है। कक्षा में बेहतर उपस्थिति दर्ज कराने वाले छात्रों पर शिक्षकों की भी नजर रहती है और शिक्षक भी ऐसे छात्रों का उत्साहवर्धन करते हैं और छात्रों के मन में उठने वाले हर सवालों को सुलझाने के लिए तत्पर रहते हैं। विद्यार्थी जीवन में अनुशासन का यह एक बड़ा फायदा होता है।

(और पढ़े – जिद्दी बच्चों को ठीक करने के उपाय…)

Leave a Comment

1 Comment

Subscribe for daily wellness inspiration