नौवें महीने की गर्भावस्था में बच्चे की पोजीशन – Pregnancy 9 month baby position in Hindi

नौवें महीने की गर्भावस्था में बच्चे की पोजीशन - Pregnancy 9 month baby position in hindi
Written by Akansha

Pregnancy 9 month baby position in Hindi जैसे जैसे आपके गर्भावस्था का समय पूरे होने की तरफ आता है आपको यह चिंता रहती है की डिलीवरी के समय बच्चे की पोजीशन कैसी होगी, कहीं डिलीवरी के समय बच्चे की सही पोजीशन को लेकर कोई परेशानी तो नहीं होगी। जैसे जैसे आपका बच्चा गर्भावस्था के दौरान बढ़ता है, वे गर्भ में काफी घूमता हैं। गर्भावस्था के अंतिम महीने के दौरान, आपका बच्चा बड़ा होता है और उसके पास अंदर बहुत अधिक जगह नहीं होती है। जैसे-जैसे आपकी प्रसव की तारीख नजदीक आती है, आपके शिशु की स्थिति और महत्वपूर्ण होती जाती है। ऐसा इसलिए है क्योंकि आपके बच्चे को प्रसव की तैयारी के लिए सबसे अच्छी और सही स्थिति में लाने की आवश्यकता है। ताकि डिलीवरी के समय बच्चे की पोजीशन सही रहे हो प्रसव में महिला और बच्चे को कोई परेशानी या जटिलता का सामना ना करना पड़े।

आपका डॉक्टर लगातार गर्भ में आपके बच्चे की स्थिति का आकलन करेगा, खासकर आखिरी महीने के दौरान। इसलिए आज इस आर्टिकल में हम जानेंगे की गर्भावस्था के नौवें महीने में बच्चे की पोजीशन के बारे में।

1. गर्भावस्था के 9वें महीने के दौरान बच्चे की अलग-अलग पोजीशन – Different Baby Positions During 9th Month of Pregnancy in hindi

2. यदि शिशु सिर से नीचे की स्थिति में नहीं है, तो मदद करने के लिए टिप्स – Tips to Help If Baby Is Not in Head Down Position in Hindi
3. अपने बच्चे को सही स्थिति में कैसे लायें – How to Get Baby into the Right Position in hindi

गर्भावस्था के 9वें महीने के दौरान बच्चे की अलग-अलग पोजीशन – Different Baby Positions During 9th Month of Pregnancy in hindi

गर्भावस्था के 9वें महीने के दौरान बच्चे की अलग-अलग पोजीशन - Different Baby Positions During 9th Month of Pregnancy in hindi

गर्भावस्था के दौरान आपका बच्चा विभिन्न स्थितियों में घूम सकता है जिससे उसकी पोजीशन बदलती रहती है। इसलिए चलिए जानते है गर्भावस्था के समय बच्चे की विभिन्न पोजीशन के बारे में, जिसमें शामिल है-

पूर्वकाल स्थिति – Anterior position in hindi

यह पोजीशन डिलीवरी के समय शिशु के लिए सबसे सही और सुरक्षित स्थिति मानी जाती है। अधिकांश बच्चे इस स्थिति में ही चले जाते हैं, जिसे 33 से 36 सप्ताह की अवधि के दौरान सिर नीचे की स्थिति (head down position) के रूप में भी जाना जाता है। इस मुद्रा में, बच्चे का चेहरा आपकी पीठ की ओर मुड़ा हुआ होता है और उसका सिर नीचे की ओर रहता है। बच्चे की ठोड़ी उसके सीने को उस स्थिति में सिर से छूती है जो श्रोणि की ओर बढ़ने के लिए तैयार है। जब बच्चा पूर्वकाल की स्थिति (anterior position) में होता है, तो वह अपनी गर्दन और सिर को इधर-उधर कर सकता है और ठुड्डी को छाती के क्षेत्र में मोड़ सकता है।

बच्चे के सिर का सबसे छोटा हिस्सा गर्भाशय ग्रीवा को धक्का देता है और इस तरह प्रसव के दौरान इसे खोलने में मदद करता है। इस स्थिति को चिकित्सकीय रूप से ओक्सिपुट पूर्वकाल (occiput-anterior) या सेफेलिक प्रस्तुति (cephalic presentation) के रूप में भी जाना जाता है।

(और पढ़े – नार्मल डिलीवरी कैसे होती है, वीडियो के साथ…)

पीछे की स्थिति – Posterior position in hindi

जब शिशु का चेहरा आपके पेट की ओर मुड़ता है और सिर नीचे की स्थिति में होता है, तो यह ओक्सिपुट पोस्टीरियर स्थिति (occiput-posterior position) में जाना जाता है। अधिकांश बच्चे लेबर के पहले चरण के दौरान इस स्थिति में आते हैं और खुद को इस तरीके से घुमाते हैं कि वे अपने आप को आदर्श दिशा में ला सके। यह स्थिति माँ के लिए गंभीर पीठ दर्द का कारण बन सकती है और प्रसव प्रक्रिया को लम्बा करने की संभावना को भी बढ़ा सकती है। ऐसे मामलों में अत्यधिक दर्द होता है, इसलिए इस दर्द को कम करने के लिए एपिड्यूरल एनेस्थेसिया (epidural anesthesia) की आवश्यकता हो सकती है।

(और पढ़े – जानें प्रसव पीड़ा (लेबर पेन) के लक्षण…)

ब्रीच स्थिति – Breech position in hindi

इस स्थिति में, बच्चे के पैर पेल्विस की ओर स्थित होते हैं जो कि बच्चे की डिलीवरी करने के लिए एक आदर्श स्थिति नहीं है। इस तरह की स्थिति के कारण, बच्चे का सिर बाहर आने वाला अंतिम भाग होता है, जो जन्म केनाल के माध्यम से अपने मार्ग को और भी जटिल बनाता है। यह गर्भनाल के उलझने के जोखिम को भी बढ़ाता है और अगर ऐसे में महिला की योनि के द्वारा डिलीवरी करायी जाती है तो बच्चा घायल भी हो सकता है।

ब्रीच स्थिति के तीन प्रकार होते हैं-

फूटलिंग ब्रीच (Footling breech)- यह स्थिति तब होती है जब एक बच्चे के पैर नीचे की दिशा में जन्म नहर की ओर होते हैं।

फ्रैंक ब्रीच (Frank breech)- इस स्थिति में बच्चे के पैर उसके शरीर के सामने सीधे की तरफ इशारा करते हैं, नितंबों (buttocks) की स्थिति जन्म नहर की तरफ होती है और पैर सिर के पास होते हैं।

कम्पलीट ब्रीच (Complete breech)- इस स्थिति में, नितंब जन्म नहर की ओर नीचे की ओर इशारा करते हैं और पैर नितंब के पास पैरों के साथ, मुड़े हुए होते हैं।

जैसा ही आप अपनी गर्भावस्था के अंतिम हफ्तों में प्रवेश करने की तैयारी करती हैं, डॉक्टर शिशु को सिर नीचे करने की स्थिति में बदलने के तरीके बताते है। एक्सटर्नल सेफेलिक वर्शन (External Cephalic version) (ECV) नामक एक तकनीक इस प्रक्रिया के लिए काफी सामान्य है और अधिकांश मामलों में शानदार परिणाम दिखाती है। ईसीवी के दौरान, पेट पर दबाव डाला जाता है, जो हालांकि माँ के लिए थोड़ा असहज होता है, परन्तु यह बिल्कुल सुरक्षित है। बच्चे के दिल की धड़कन की नज़दीकी और निरंतर निगरानी इसकी सुरक्षा सुनिश्चित करती है और यदि रीडिंग में कोई बदलाव होता है, तो इस प्रक्रिया को  तुरंत बंद कर दिया जाता है।

(और पढ़े – गर्भ में शिशु का विकास महीने दर महीने…)

ट्रांसवर्स लाई – Transverse Lie in hindi

जब बच्चा गर्भाशय में एक हॉरिजॉन्टल स्थिति में होता है, तो उस स्थिति को ट्रांसवर्स लाई के रूप में संदर्भित किया जाता है। अधिकांश बच्चे प्रसव से पहले अपने सिर को जन्म केनाल की ओर मोड़ देते हैं लेकिन यह एक दुर्लभ घटना है लेकिन माँ को उस स्थिति के लिए तैयार रहना चाहिए। आमतौर पर, इस मामले में माताओं के लिए सीज़ेरियन डिलीवरी का सुझाव दिया जाता है, क्योंकि शिशु के गर्भनाल के बाहर आने की एक छोटी सी संभावना होती है। यदि ऐसा होता है, तो डॉक्टरों को एक सी-सेक्शन करना होगा जो ज्यादातर मामलों में एक आपातकालीन स्थिति होती है।

(और पढ़े – सिजेरियन डिलीवरी के फायदे और नुकसान…)

यदि शिशु सिर से नीचे की स्थिति में नहीं है, तो मदद करने के लिए टिप्स – Tips to Help If Baby Is Not in Head Down Position in Hindi

यदि शिशु सिर से नीचे की स्थिति में नहीं है, तो मदद करने के लिए टिप्स - Tips to Help If Baby Is Not in Head Down Position in Hindi

यदि बच्चा प्रसव के लिए सही स्थिति में नहीं है, तो यह जटिलताओं का कारण बन सकता है। इसलिए जब आप नौ महीने की गर्भवती हों, तो आप शिशु की स्थिति बदलने के लिए निम्न युक्तियों का उपयोग कर सकती हैं, जैसे-

  • जब भी आप बैठती हैं, तो यह सुनिश्चित करें कि आपके कूल्हे आपके घुटनों की तुलना में उच्च स्तर पर हो।
  • जब आप बैठ तो अपनी पेल्विस को आगे की ओर धक्का दें और इसे वापस पीछे की ओर धकेलने से बचें।
  • दिन में कुछ समय व्यायाम गेंद या एक बर्थ बॉल पर बैठे।
  • अगर आप कार बैठती है, तो अपने निचले हिस्से को ऊंचा करने के लिए एक आरामदायक कुशन का उपयोग करें और इसे आगे की स्थिति में धकेलें।
  • काम के बीच से नियमित रूप से ब्रेक लें और चारों ओर घूमें, खासकर यदि आप कंप्यूटर या लैपटॉप पर काम कर रही हैं।
  • स्‍क्रबिंग-द-फ्लोर पोजिशन यानि अपने हाथों को मिलाएं और दिन में कुछ बार घुटनों के बल अपने बच्‍चे को पूर्वकाल मुद्रा (anterior pose) की ओर ले जाएं।

(और पढ़े – इन घरेलू तरीकों को अपनाने से होगी नॉर्मल डिलीवरी…)

अपने बच्चे को सही स्थिति में कैसे लायें – How to Get Baby into the Right Position in hindi

अपने बच्चे को सही स्थिति में कैसे लायें - How to Get Baby into the Right Position in hindi

अपने शरीर की स्थिति और चाल को बदलने की कोशिश करें और अपने बच्चे को एक आदर्श स्थिति में लाने के लिए सबसे आरामदायक तरीका अपनाएँ, जैसे-

  • बच्चे को सही स्थिति में लाने के लिए एक चौतरफा स्थिति (हाथ और घुटने) को अपनाएं।
  • जब आप संकुचन के दौरान अपने पेल्विस को हिलाती हैं तो आपके शिशु को पेल्विस के माध्यम से घूमने में आसानी होगी। एक बर्थ बॉल का उपयोग करें क्योंकि यह पैल्विक रॉकिंग को ठीक करता है।
  • संकुचन के दौरान, एक बीन बैग, एक बर्थ बॉल, बिस्तर या अपने साथी का उपयोग करके आगे की स्थिति में झुक जाएं। यह बच्चे को जन्म के लिए सही स्थिति में लाने में मदद करेगा।
  • बिस्तर पर लेटते समय या सपोर्ट के साथ पैर पर खड़े होने के दौरान, लंज पोजीशन का उपयोग करें। इस स्थिति में आप आराम से किसी विशेष साइड की ओर मुड़ सकती है, जो आपके बच्चे को मुड़ने के लिए सबसे अधिक जगह वाली स्थिति देगा।

नोट- गर्भावस्था के शुरुआती चरणों में अपने बच्चे की स्थिति के बारे में चिंता न करें। आपका शिशु अपनी स्थिति को समायोजित करेगा जो प्रसव के लिए सही है। यदि ऐसा नहीं होता है, तो सुनिश्चित करें कि आपकी डिलीवरी किसी अनुभवी चिकित्सा पेशेवरों द्वारा ही नियंत्रित की जाये।

(और पढ़े – गर्भावस्था के नौवें महीने के लक्षण, शारीरिक बदलाव और बच्चे का विकास…)

इसी तरह की अन्य जानकरी हिन्दी में पढ़ने के लिए हमारे एंड्रॉएड ऐप को डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं। और आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration