गर्भावस्था

डिलीवरी डेट कैसे पता करें – How To Calculate Pregnancy Due Date In Hindi

डिलीवरी डेट कैसे पता करें - How To Calculate Pregnancy Due Date In Hindi

आपकी गर्भावस्था आपके आखिरी मासिक धर्म (last menstrual period) के पहले दिन से औसतन 280 दिन (40 सप्ताह) तक रहती है। आपके आखिरी मासिक धर्म के पहले दिन को गर्भावस्था का एक दिन माना जाता है, भले ही आपने लगभग दो सप्ताह बाद तक गर्भधारण नहीं किया हो (भ्रूण का विकास आपकी गर्भावस्था की तारीखों के दो सप्ताह पीछे होता है)। आपकी गर्भावस्था की डिलीवरी डेट की गणना एक सटीक विज्ञान नहीं माना जा सकता है। बहुत कम महिलाएं ही वास्तव में अपनी नियत तिथि पर पहुंचती हैं और तभी बच्चे को जन्म देती है, इसलिए जब आपके बच्चे का जन्म कब होगा, इसका अंदाजा लगाना महत्वपूर्ण है, तो कोशिश करें कि आप सही तिथि से भावनात्मक रूप से बहुत अधिक जुड़ी न रहे। आज इस लेख में जानेंगे की कैसे आप अपनी प्रेगनेंसी की डिलीवरी डेट पता कर सकती है।

आइए हम आपको बताते हैं कि डिलीवरी की नियत तिथि का पता कैसे लगाया जाए।

  1. मैं अपने प्रसव की अनुमानित तिथि की गणना कैसे कर सकती हूं – How can I calculate my due date in Hindi
  2. यदि मैं अपने पिछले मासिक धर्म की तारीख नहीं जानती, तो क्या होगा – What if I don’t know the date of my last menstrual period in hindi
  3. यदि मेरे पीरियड्स अनियमित है या लंबे चक्र के हैं तो क्या होगा – What if I have irregular periods or long cycles in hindi
  4. अल्ट्रासाउंड की तारीख क्या होती है, यह मेरी डिलीवरी डेट से अलग क्यों है – What is the ultrasound date, why is it different from my due date in Hindi

मैं अपने प्रसव की अनुमानित तिथि की गणना कैसे कर सकती हूं – How can I calculate my due date in Hindi

आप अपने शिशु के जन्म की संभावित तारीख का पता अपनी पिछली माहवारी (LMP) के पहले दिन से कैलकुलेट करके लगा सकती हैं। अधिकांश डॉक्टर भी डिलीवरी डेट का पता लगाने के लिए इसी तरीके से शिशु के जन्म की नियत तिथि बताते हैं।

यदि आपको नियमित रूप से 28 दिवसीय मासिक धर्म चक्र चलता है, तो आपकी गर्भावस्था की डिलीवरी डेट की गणना करने के दो तरीके हैं। जिनमें शामिल है-

नैजेल का नियम – Naegele’s rule in Hindi

नैजेल का नियम - Naegele’s rule in hindi

नैजेल के नियम में प्रेगनेंसी की डिलीवरी डेट पता करने के लिए एक सरल गणना शामिल है-

  • अपने पिछली माहवारी (last menstrual period) के पहले दिन में सात दिन जोड़ें और फिर तीन महीने घटाएं।
  • उदाहरण के लिए, यदि आपका LMP 1 नवंबर, 2017 को था।
  • तो अब इसमें सात दिन (8 नवंबर, 2017) जोड़ें।
  • अब इसमें से तीन महीने (8 अगस्त, 2017) को घटाएं।
  • वर्ष को बदलें, यदि आवश्यक हो (इस मामले में, वर्ष 2018 तक)।
  • इस उदाहरण में, गर्भावस्था की डिलीवरी डेट 8 अगस्त, 2018 होगी।

(और पढ़े – प्रेगनेंसी के नौवे महीने में रखें इन बातों का ध्यान…)

प्रेगनेंसी व्हील – Pregnancy wheel in Hindi

प्रेगनेंसी व्हील - Pregnancy wheel in hindi

अपनी प्रेगनेंसी की डिलीवरी डेट की गणना करने का दूसरा तरीका प्रेगनेंसी व्हील का उपयोग करना है। यह वह विधि है जिसका ज्यादातर डॉक्टर भी उपयोग करते हैं। यदि आपको अपनी प्रेगनेंसी व्हील का पता है, तो आपके लिए अपनी डिलीवरी डेट का अनुमान लगाना बहुत आसान है।

प्रेगनेंसी व्हील को एक गर्भ कैलकुलेटर के रूप में भी जाना जाता है। यह एक छोटा प्रेगनेंसी व्हील कैलेंडर है जो आपकी नियत तारीख निर्धारित करने में मदद करने के लिए आपके पिछले मासिक धर्म (एलएमपी) का उपयोग करता है।

इसका पहला कदम यह है की प्रेगनेंसी व्हील पर आपके LMP की तारीख का पता लगाया जाता है। जब आप उस तिथि को इंडिकेटर के साथ जोड़ती हैं, तो व्हील आपकी डिलीवरी डेट को प्रदर्शित करता है। याद रखें कि गर्भावस्था की डिलीवरी डेट केवल एक अनुमान है कि आप अपने बच्चे को कब जन्म देंगी। वास्तव में उस सटीक तारीख पर आपके बच्चे के होने की संभावना बहुत कम होती है।

(और पढ़े – नार्मल डिलीवरी कैसे होती है, वीडियो के साथ…)

यदि मैं अपने पिछले मासिक धर्म की तारीख नहीं जानती, तो क्या होगा – What if I don’t know the date of my last menstrual period in Hindi

यदि मैं अपने पिछले मासिक धर्म की तारीख नहीं जानती, तो क्या होगा - What if I don’t know the date of my last menstrual period in hindi

इस स्थिति में डिलीवरी डेट पता करने का तरीका आपके विचार से अधिक सामान्य है। आपके द्वारा  एलएमपी के पहले दिन को याद नहीं रख पाने की स्थिति में आपकी डिलीवरी डेट का पता लगाने के तरीके हैं-

  • यदि आप जानती हैं कि आपका एलएमपी (पिछली माहवारी) किसी विशेष सप्ताह के दौरान था, तो आपका डॉक्टर आपकी डिलीवरी डेट का अनुमान लगा सकता है।
  • यदि आपको पता नहीं है कि आपका आखिरी पीरियड्स कब आया था, तो आपका डॉक्टर आपकी डिलीवरी डेट निर्धारित करने के लिए अल्ट्रासाउंड करवाने की सलाह दे सकता है।

(और पढ़ें – सिजेरियन डिलीवरी के कारण, लक्षण, प्रक्रिया और रिकवरी)

यदि मेरे पीरियड्स अनियमित है या लंबे चक्र के हैं तो क्या होगा – What if I have irregular periods or long cycles in Hindi

यदि मेरे पीरियड्स अनियमित है या लंबे चक्र के हैं तो क्या होगा - What if I have irregular periods or long cycles in hindi

कुछ महिलाओं के मासिक चक्र ऐसे होते हैं जो औसत 28 दिवसीय चक्र से लंबे चलते हैं। इन मामलों में, भी प्रेगनेंसी व्हील का इस्तेमाल किया जा सकता है, लेकिन इससे पहले कुछ सरल गणना करना आवश्यक होता हैं। एक महिला के मासिक धर्म चक्र का दूसरा भाग हमेशा 14 दिनों तक रहता है। यह ओव्यूलेशन से अगले मासिक धर्म तक का समय होता है। उदाहरण के लिए, यदि आपका चक्र 35 दिन लंबा है, तो आपने शायद 21वें दिन ओव्यूलेट किया होगा।

  • एक बार जब आपको ओव्यूलेट होने का सामान्य अंदाजा हो जाता है, तो आप प्रेगनेंसी व्हील से अपनी डिलीवरी डेट का पता लगाने के लिए एक समायोजित LMP का उपयोग कर सकती हैं।
  • उदाहरण के लिए, यदि आपका मासिक धर्म चक्र आमतौर पर 35 दिन लंबा है और आपके LMP का पहला दिन 1 नवंबर था।
  • तो उसमें 21 दिन (22 नवंबर) जोड़ें।
  • अब अपनी समायोजित LMP दिनांक (8 नवंबर) को खोजने के लिए उसमें से 14 दिन घटाएं।
  • अपनी समायोजित LMP तिथि की गणना करने के बाद, बस इसे प्रेगनेंसी व्हील पर चिह्नित करें और फिर उस तिथि को देखें जहां रेखा पार होती है। यह आपकी गर्भावस्था की डिलीवरी डेट है।

(और पढ़े – अनियमित माहवारी में कैसे करें गर्भधारण…)

अल्ट्रासाउंड की तारीख क्या होती है, यह मेरी डिलीवरी डेट से अलग क्यों है – What is the ultrasound date, why is it different from my due date in Hindi

अल्ट्रासाउंड की तारीख क्या होती है, यह मेरी डिलीवरी डेट से अलग क्यों है - What is the ultrasound date, why is it different from my due date in Hindi

जब एक डॉक्टर अल्ट्रासाउंड करता है, तो वे निष्कर्षों पर एक रिपोर्ट लिखते हैं और दो अनुमानित नियत तिथियों के बारे में बताते हैं। पहली तारीख की गणना LMP की तारीख का उपयोग करके की जाती है। दूसरी तारीख अल्ट्रासाउंड माप पर आधारित होती है। ये तारीखें बहुत कम मामलों में एक जैसी होती है। जब आपका डॉक्टर आपके अल्ट्रासाउंड परिणामों का मूल्यांकन करता है, तो वे यह निर्धारित करेंगे कि ये तारीखें सही हैं या नहीं। आपके डॉक्टर आपकी डिलीवरी डेट को तब तक नही बदलेगा जब तक कि यह आपके अल्ट्रासाउंड की तारीख से काफी अलग न हो।

यदि आपके पास बहुत सारे अल्ट्रासाउंड रिपोट हैं, तो प्रत्येक अल्ट्रासाउंड रिपोर्ट में सबसे हाल के मापों के आधार पर एक नई डिलीवरी डेट दी होगी। दूसरी या तीसरी तिमाही के अल्ट्रासाउंड से माप के आधार पर अपेक्षित डिलीवरी डेट नहीं बदली जानी चाहिए। गर्भावस्था में डिलीवरी डेट के अनुमान अधिक सटीक होते हैं। बाद में अल्ट्रासाउंड यह निर्धारित करने में सहायक होते हैं कि भ्रूण अच्छी तरह से विकसित हो रहा है लेकिन यह भ्रूण की आयु निर्धारित नहीं करता है।

और पढ़े – 

इसी तरह की अन्य जानकरी हिन्दी में पढ़ने के लिए हमारे एंड्रॉएड ऐप को डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं। और आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration