इंटरनेट की लत आपके मस्तिष्क को कैसे प्रभावित करती है – How Does Internet Addiction Affects Your Brain in hindi

इंटरनेट की लत आपके मस्तिष्क को कैसे प्रभावित करती है - How Does Internet Addiction Affects Your Brain in hindi
Written by Rajat

इंटरनेट की लत (Internet Addiction hindi), जिसे आमतौर पर समस्याग्रस्त इंटरनेट उपयोग कहा जाता है, अत्यधिक इंटरनेट उपयोग को संदर्भित करता है जो आपके दैनिक जीवन में हस्तक्षेप करता है। बहुत अधिक इंटरनेट का उपयोग दोस्तों के साथ चैट करने, अश्लील फिल्म देखना, सोशल मीडिया का इस्तेमाल करने या सूचनाओं के लिए नेट पर सर्फ करने के लिए किया जाता है- ये सभी इंटरनेट की लत के दायरे में आते हैं।

IAD इंटरनेट की लत हाल ही में मान्यता प्राप्त हालत है, जिसमें पीड़ित समय की जादातर मात्रा को “ऑनलाइन” खर्च करते हैं जो कि उनकी जीवन की गुणवत्ता को खराब करता है इंटरनेट की लत वाले,  धूम्रपान करने वालों के समान बैचेनी का  अनुभव कर सकते हैं, अगर उन्हें अपने कंप्यूटर या मोबाइल फोन तक पहुंचने नहीं दिया जाता है  तो वे थकावट, जुनूनी विचारों और टाइपिंग की तरह उंगलियों को चलाना जैसे लक्षण करते हैं।

इंटरनेट की लत और आपका स्वास्थ्य Internet addiction and Your Health in hindi 

इंटरनेट की लत दो भिन्न प्रकार के नतीजों – शारीरिक और मानसिक हो सकती है इस विकार से जुड़े शारीरिक समस्याएं हैं-

  1. पीठ दर्द
  2. कार्पल टनल सिंड्रोम
  3. ग्रीवास्पोंडलाइटिस के कारण गर्दन का दर्द
  4. व्याकुलता आदि

इंटरनेट की आदत से होने वाली मानसिक समस्याएं Mental problems caused by internet addiction in hindi

इंटरनेट की लत के कारण मस्तिष्क के लिए मनोवैज्ञानिक और जैविक हनी की अभी भी जांच की जा रही है लेकिन निश्चित रूप से कहने के लिए पर्याप्त शोध है कि इंटरनेट की लत मस्तिष्क में तंत्रिका तारों को बाधित करती है। इस प्रकार की लत की वजह से मस्तिष्क के किसी एक हिस्से की क्षति का कारण बनता है जो सामान्य रूप से भारी पदार्थों के सेवन करने वालो में देखा गया है, कोकीन और कैनबिस या अन्य नशीले पदार्थों का इस्तेमाल करने वाले लोगों के दिमाग भी समान प्रभाव दिखाते हैं। जब आप किसी व्यवहार के लिए आदी हो जाते हैं तो मस्तिष्क क्षतिग्रस्त हो जाता है यह इंटरनेट उपयोग या ड्रग्स दोनों हो सकते है। इंटरनेट की लत आपके मस्तिष्क के आलावा शारीरिक रूप से भी हानिकारक है जैसे ड्रग्स की लत होती है

(और पढ़े – क्या आप जानते है Selfie Syndrome के बारे में कहीं आप भी तो इसके शिकार नहीं)

वैज्ञानिकों का मानना है कि, विशेष रूप से, मस्तिष्क स्कैन ने दिखाया है कि इंटरनेट की लत मस्तिष्क में सफेद पदार्थ को महत्वपूर्ण नुकसान का कारण बनती है। भावनाओं, निर्णय लेने और आत्म-नियंत्रण में शामिल मस्तिष्क के महत्वपूर्ण हिस्सों को जोड़ने वाले सफेद पदार्थ तंत्रिका तंतुओं में यह विघटन लंबे समय तक चलने वाला दुर्बल परिणाम है। इंटरनेट की आदत मस्तिष्क के ग्रे और सफेद पदार्थ के तंतुओं को भी कम करता है जिसके परिणामस्वरूप आपके मस्तिष्क के कामकाज में परिवर्तन होता है और उसी से आप अपनी भावनाओं को संभालते हैं
सफेद पदार्थ के तंतुओं में यह व्यवधान विघटित मायेलिन (myelin), फैटी इन्सुलेट शीथ के कारण होता है, जो कोट तंत्रिका तंतुओं और उन्हें कार्य करने में मदद करता है।

इंटरनेट की लत के जोखिम The risk factors Internet addiction  in hindi 

इंटरनेट की आदत में निम्न जोखिम कारक शामिल हैं

  1. चिंता, अवसाद या अन्य मानसिक स्वास्थ्य या मूड ख़राब होना
  2. अकेलापन
  3. सामाजिक संपर्क टूटना
  4. जुआ, शराब, ड्रग्स या सेक्स जैसे अन्य चीजो की लत
  5. एक अचानक परिवर्तन जो सामाजिक गतिविधि या गतिशीलता को सीमित करता है जैसे, विकलांग बनना, नौकरी खोना आदि।
  6. तनाव का उच्च स्तर का होना

इंटरनेट की लत का उपचार किया जा सकता है इसके लिए  आपको मदद की ज़रूरत है आपको बस इतना करना है कि कभी-कभी, अपने आप में इंटरनेट की लत से छुटकारा पाने का प्रयास करना है। और यदि  यह काम नहीं कर रहा है तो यह एक परामर्शदाता की मदद लेने का सही समय है

यदि आपके पास कोई चिंता या प्रश्न है तो आप एक विशेषज्ञ से परामर्श कर सकते हैं और अपने प्रश्नों के उत्तर प्राप्त कर सकते हैं!

Leave a Comment

Subscribe for daily wellness inspiration